कानपुर एनकाउंटर: विकास दुबे के दो और करीबी साथी ढेर, पुलिस ने सुनाई एनकाउंटर की ये कहानी

First Published 9, Jul 2020, 9:03 AM

कानपुर (Uttar Pradesh) । कानपुर एनकाउंटर मामले में पुलिस के हाथ दो और बड़ी सफलता लगी है। पुलिस ने आरोपी विकास दुबे के करीबी रणबीर शुक्ला और प्रभात मिश्रा को एनकाउंटर में ढेर कर दिया है। पुलिस के मुताबिक प्रभात मिश्रा को पुलिस ने फरीदाबाद के होटल से गिरफ्तार किया था और वह पुलिस कस्टडी से भागने का प्रयास किया तो पुलिस ने ढेर कर दिया। वहीं, इटावा में विकास दुबे के करीबी रणबीर शुक्ला को मार को पुलिस ने मार गिराया है। पुलिस के मुताबिक, रणबीर शुक्ला ने देर रात महेवा के पास हाईवे पर स्विफ्ट डिजायर कार को लूटा था। उसके साथ तीन और बदमाश थे। पुलिस को लूट की जैसे ही खबर मिली, पुलिस ने चारों को सिविल लाइन थाने के काचुरा रोड पर घेर लिया था। 

<p>कानपुर में आठ पुलिस कर्मियों की हत्या करने वाले विकास दुबे को यूपी पुलिस खोज ही है। इसी कड़ी में फरीदाबाद में छापेमारी की गई थी, वहां से विकास दुबे तो नहीं मिला था लेकिन उसका करीबी साथी प्रभात मिश्रा पुलिस के हत्थे चढ़ गया।&nbsp;<br />
&nbsp;</p>

कानपुर में आठ पुलिस कर्मियों की हत्या करने वाले विकास दुबे को यूपी पुलिस खोज ही है। इसी कड़ी में फरीदाबाद में छापेमारी की गई थी, वहां से विकास दुबे तो नहीं मिला था लेकिन उसका करीबी साथी प्रभात मिश्रा पुलिस के हत्थे चढ़ गया। 
 

<p>पुलिस प्रभात मिश्रा को फरीदाबाद से गिरफ्तार कर कोर्ट में पेश करने के लिए कानपुर ला रही थी। लेकिन, पनकी थाना क्षेत्र में गाड़ी पंक्चर हो गई। इस बीच प्रभात मौका पाते ही पुलिस की पिस्टल छीनकर भागने लगा और पीछा करने पर पुलिस पार्टी पर फायरिंग की। इसमें एसटीफ के दो आरक्षी गंभीर रूप से घायल हो गए, वहीं जवाबी फायरिंग में गोली लगने से प्रभात भी घायल हो गया। उसे अस्पताल ले जाया गया, जहां उसकी मौत हो गई।<br />
&nbsp;</p>

पुलिस प्रभात मिश्रा को फरीदाबाद से गिरफ्तार कर कोर्ट में पेश करने के लिए कानपुर ला रही थी। लेकिन, पनकी थाना क्षेत्र में गाड़ी पंक्चर हो गई। इस बीच प्रभात मौका पाते ही पुलिस की पिस्टल छीनकर भागने लगा और पीछा करने पर पुलिस पार्टी पर फायरिंग की। इसमें एसटीफ के दो आरक्षी गंभीर रूप से घायल हो गए, वहीं जवाबी फायरिंग में गोली लगने से प्रभात भी घायल हो गया। उसे अस्पताल ले जाया गया, जहां उसकी मौत हो गई।
 

<p><br />
इटावा सिविल लाइन पुलिस ने कचौरा रोड पर एक और मुठभेड़ में पुलिस ने बबुआ दुबे उर्फ प्रवीण को मार गिराया। वह बिकरू कांड के आरोपितों में शामिल था और उसपर 50 हजार का इनाम भी घोषित है। पुलिस ने उसके कब्जे से एक पिस्टल, एक डबल बैरल बंदूक और कई कारतूस बरामद किए गए हैं।<br />
&nbsp;</p>


इटावा सिविल लाइन पुलिस ने कचौरा रोड पर एक और मुठभेड़ में पुलिस ने बबुआ दुबे उर्फ प्रवीण को मार गिराया। वह बिकरू कांड के आरोपितों में शामिल था और उसपर 50 हजार का इनाम भी घोषित है। पुलिस ने उसके कब्जे से एक पिस्टल, एक डबल बैरल बंदूक और कई कारतूस बरामद किए गए हैं।
 

<p><br />
पुलिस के मुताबिक बबऊ दुबे उर्फ प्रवीण कानपुर इटावा हाईवे पर बकेवर इलाके के महेवा के पास सुबह 3 बजे एक स्विफ्ट डिजायर को चार बदमाशों के साथ मिलकर लूटने के बाद भाग रहा था। पुलिस को देख सभी बदमाश फायरिंग करने लगे।</p>


पुलिस के मुताबिक बबऊ दुबे उर्फ प्रवीण कानपुर इटावा हाईवे पर बकेवर इलाके के महेवा के पास सुबह 3 बजे एक स्विफ्ट डिजायर को चार बदमाशों के साथ मिलकर लूटने के बाद भाग रहा था। पुलिस को देख सभी बदमाश फायरिंग करने लगे।

<p><br />
पुलिस ने आत्मरक्षा में फायरिंग की, जिसमें बबऊ उर्फ प्रवीण गोली लगने से घायल हुआ, जिसे अस्पताल लाया गया। जहां उसकी मौत हो गई, जबकि अन्य बदमाश मौके से फरार हो गए है।</p>


पुलिस ने आत्मरक्षा में फायरिंग की, जिसमें बबऊ उर्फ प्रवीण गोली लगने से घायल हुआ, जिसे अस्पताल लाया गया। जहां उसकी मौत हो गई, जबकि अन्य बदमाश मौके से फरार हो गए है।

loader