Asianet News Hindi

कोरोना के बाद इस देश पर जहरीले खटमलों ने किया हमला, खून चूस 1.5 लाख लोगों को दे चुका है मौत

First Published Jun 2, 2020, 11:38 AM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

हटके डेस्क: दुनिया कोरोना से लड़ रही है। इस जानलेवा वायरस का अभी तक कोई इलाज नहीं मिल पाया है। लाखों को अपना शिकार बना चुका ये वायरस अभी भी तेजी से अपने पैर पसार रहा है। इस वायरस ने रूस में भी लाशों के ढेर लगा दिए। लेकिन अब रूस पर एक और मुसीबत टूट पड़ी है। इस देश में अब जहरीले खटमलों ने लोगों पर हमला कर दिया है। यहां अचानक अस्पतालों में खटमल के शिकार लोग पहुंचने लगे हैं। इनकी संख्या में हर दिन के साथ बढ़त दिख रही है। चिंता का विषय ये है कि अस्पतालों में अभी इसकी दवा की कमी है। अचानक से खटमलों के हमले ने सभी को स्तब्ध कर दिया है। 

रूस के लिए कोरोना के बीच एक और बुरी खबर है। गर्म तापमान के बीच इस देश में अचानक जहरीले खटमलों ने हमला कर दिया है। 

रूस के लिए कोरोना के बीच एक और बुरी खबर है। गर्म तापमान के बीच इस देश में अचानक जहरीले खटमलों ने हमला कर दिया है। 

विशेषज्ञों का कहना है कि रूस का गर्म तापमान अभी खून चूसने वाले इन खटमलों के लिए बेस्ट है। इस कारण ये इतनी तेजी से फ़ैल रहा है। 

विशेषज्ञों का कहना है कि रूस का गर्म तापमान अभी खून चूसने वाले इन खटमलों के लिए बेस्ट है। इस कारण ये इतनी तेजी से फ़ैल रहा है। 

रूस के साइबेरिया में तो अचानक खटमलों की संख्या 4 सौ गुना अधिक बढ़ गई हैं। लोग इनसे परेशान हो गए हैं। 

रूस के साइबेरिया में तो अचानक खटमलों की संख्या 4 सौ गुना अधिक बढ़ गई हैं। लोग इनसे परेशान हो गए हैं। 

अचानक जहरीले खटमलों के अटैक के कारण अस्पताल भी परेशान है। उनके पास इसके इलाज के लिए वैक्सीन नहीं है। अभी तक रूस के स्वेर्दलोव्स्क में खटमलों के काटने के 17 हजार से अधिक मामले सामने आए हैं। 

अचानक जहरीले खटमलों के अटैक के कारण अस्पताल भी परेशान है। उनके पास इसके इलाज के लिए वैक्सीन नहीं है। अभी तक रूस के स्वेर्दलोव्स्क में खटमलों के काटने के 17 हजार से अधिक मामले सामने आए हैं। 

रूस के ऑफिशियल सरकारी अखबारों में इस मामले की जानकारी दी गई है।इंसान का खून चूसने वाले ये खटमल कोई आम खटमल नहीं है। ये खटमल काफी जहरीले होते हैं। 

रूस के ऑफिशियल सरकारी अखबारों में इस मामले की जानकारी दी गई है।इंसान का खून चूसने वाले ये खटमल कोई आम खटमल नहीं है। ये खटमल काफी जहरीले होते हैं। 

इन खटमलों के काटने से इंसान के दिमाग पर असर पड़ता है। साथ ही लोग बेहोश होने लगते हैं। अस्पतालों में मरीजों की संख्या में अचानक से विस्फोट हुआ है। 

इन खटमलों के काटने से इंसान के दिमाग पर असर पड़ता है। साथ ही लोग बेहोश होने लगते हैं। अस्पतालों में मरीजों की संख्या में अचानक से विस्फोट हुआ है। 

चिंता की बात ये है कि जिस हिसाब से मरीज आ रहे हैं,उस हिसाब से यहां दवाइयां नहीं हैं। 

चिंता की बात ये है कि जिस हिसाब से मरीज आ रहे हैं,उस हिसाब से यहां दवाइयां नहीं हैं। 

जितनी दवाइयों की जरुरत है, उसकी सप्लाई जुलाई तक हो पाएगी। ऐसे में लोगों से घर में रहने को कहा गया है और घर में इन खटमलों का आतंक है। 

जितनी दवाइयों की जरुरत है, उसकी सप्लाई जुलाई तक हो पाएगी। ऐसे में लोगों से घर में रहने को कहा गया है और घर में इन खटमलों का आतंक है। 

बता दें कि साल 2015 में इन जहरीले खटमलों ने आतंक मचा दिया था। तब इससे डेढ़ लाख लोगों की मौत हुई थी। अब जब सारी दुनिया कोरोना का इलाज ढूंढने में लगी है, उस बीच रूस पर ये बड़ा खतरा आया है। 

बता दें कि साल 2015 में इन जहरीले खटमलों ने आतंक मचा दिया था। तब इससे डेढ़ लाख लोगों की मौत हुई थी। अब जब सारी दुनिया कोरोना का इलाज ढूंढने में लगी है, उस बीच रूस पर ये बड़ा खतरा आया है। 

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios