5 साल ISIS आतंकियों के बीच रही ये लड़की, तस्वीरों में दुनिया को दिखाया दर्द, कहा- हर रात कई लोग नोचते थे जिस्म

First Published 22, May 2020, 3:52 PM

हटके डेस्क: दुनिया में इस समय कोरोना वायरस का आतंक छाया है। कई लोग इस वायरस की चपेट में आकर जान गँवा चुके हैं। इस दौरान दुनिया का ध्यान किसी दूसरी समस्या की तरफ जा ही नहीं रहा है। लेकिन कोरोना के खौफ के बीच एक लड़की यज़ीदी लैला तालू ने अपने साथ ISIS आतंकियों द्वारा 5 साल किये गए जुल्म की सारी कहानी तस्वीरों के जरिये लोगों के साथ शेयर की। उसने दुनिया को दिखाया कि कैसे 5 साल वो एक जिंदा लाश बनकर रह रही थी। लड़की ने कहा कि आतंकियों के बीच जो खौफ उसने झेला है, उसके बाद ये कोरोना उसे क्या डराएगा। इस यज़ीदी महिला ने अपनी कहानी के साथ  ISIS आतंकियों चंगुल में फंसी कई लड़कियों का दर्द भी दुनिया के सामने रखा। उसने बताया कि कैसे मजे के लिए इन लड़कियों को प्रदर्शनी में रखा जाता है। अगर कोई लड़की थोड़ा भी विरोध करती है तो उसे बुरे तरीके से मारा जाता है। इस बहादुर लड़की ने 5 साल में अपने साथ हुए हर अत्याचार को तस्वीरों के जरिये दुनिया को दिखाया। 

<p>9 सितंबर, 2019 को ली गई इस तस्वीर में, यज़ीदी लैला तालू ने अपना ढंका हुआ चेहरा एक पोट्रेट के लिए पोज़ दिया। इसमें लैला ने जो अबाया पहना है उसे इस्लामिक स्टेट के आतंकवादियों द्वारा इराक के शरिया में अपने घर पर ग़ुलाम रहते हुए वो पहना करती थी। लैला को यहां कैद में ढाई साल का समय बिताना पड़ा था। आतंकी &nbsp;महिलाओं और छोटी लड़कियों के साथ बलात्कार करते थे। 1 लड़की के 8 मालिक तक होते थे। यानी 8 लोग मिलकर रेप करते थे।&nbsp;</p>

<p><br />
&nbsp;</p>

9 सितंबर, 2019 को ली गई इस तस्वीर में, यज़ीदी लैला तालू ने अपना ढंका हुआ चेहरा एक पोट्रेट के लिए पोज़ दिया। इसमें लैला ने जो अबाया पहना है उसे इस्लामिक स्टेट के आतंकवादियों द्वारा इराक के शरिया में अपने घर पर ग़ुलाम रहते हुए वो पहना करती थी। लैला को यहां कैद में ढाई साल का समय बिताना पड़ा था। आतंकी  महिलाओं और छोटी लड़कियों के साथ बलात्कार करते थे। 1 लड़की के 8 मालिक तक होते थे। यानी 8 लोग मिलकर रेप करते थे। 


 

<p>एक यज़ीदी महिला, जिसने इस्लामिक स्टेट के आतंकवादियों द्वारा 5 साल की कैद की सजा काट ली थी, उसका उत्तरी इराक में उसके घर में एक पोट्रेट बनाया गया था। लड़की ने अपने साथ हुए खौफ का जिक्र करते हुए कहा, "वे मुझे मारते हैं और मेरा रेप करते हैं। इसके बाद मुझे बेच देते हैं। वर्षों तक कैद रहने के दौरान लगभग एक दर्जन मालिकों द्वारा उसका बलात्कार गे। इसके बाद वह महीनों तक आईएस के नेता अबू बक्र अल-बगदादीकी गुलाम थी, जिसे उसने उसे अपने एक सहयोगी को 'उपहार' दिया था। मई, 2019 में अमेरिका के नेतृत्व वाली छापेमारी में उसे मुक्त कर दिया गया था। यह तस्वीर 14 नवंबर, 2019 को ली गई थी।&nbsp;</p>

एक यज़ीदी महिला, जिसने इस्लामिक स्टेट के आतंकवादियों द्वारा 5 साल की कैद की सजा काट ली थी, उसका उत्तरी इराक में उसके घर में एक पोट्रेट बनाया गया था। लड़की ने अपने साथ हुए खौफ का जिक्र करते हुए कहा, "वे मुझे मारते हैं और मेरा रेप करते हैं। इसके बाद मुझे बेच देते हैं। वर्षों तक कैद रहने के दौरान लगभग एक दर्जन मालिकों द्वारा उसका बलात्कार गे। इसके बाद वह महीनों तक आईएस के नेता अबू बक्र अल-बगदादीकी गुलाम थी, जिसे उसने उसे अपने एक सहयोगी को 'उपहार' दिया था। मई, 2019 में अमेरिका के नेतृत्व वाली छापेमारी में उसे मुक्त कर दिया गया था। यह तस्वीर 14 नवंबर, 2019 को ली गई थी। 

<p>लीला शामो को इराक के दोहुक के पास खानके कैंप के पास इस्लामिक स्टेट के आतंकवादियों ने गुलाम बनाया था। उस दौरान उसने अपने हाथों में टैटू बनाया था। 34 वर्षीय शमो ने अपने दूध, चारकोल की राख और एक सुई का इस्तेमाल कर अपने पति का नाम और दो बेटों का नाम लिखा। उसकी बाईं बांह के अंदरूनी हिस्से पर, उसने लिखा था कि आईएस के आतंकवादियों ने उन सभी को एक साथ पकड़ा था। साथ ही तारिख भी लिखी जब उसे पकड़ा गया, 8-8-2014। पांच बच्चों की इस मां ने आतंकियों के जुल्म को कभी ना भूलने के लिए टैटू बनवाया था। &nbsp;</p>

लीला शामो को इराक के दोहुक के पास खानके कैंप के पास इस्लामिक स्टेट के आतंकवादियों ने गुलाम बनाया था। उस दौरान उसने अपने हाथों में टैटू बनाया था। 34 वर्षीय शमो ने अपने दूध, चारकोल की राख और एक सुई का इस्तेमाल कर अपने पति का नाम और दो बेटों का नाम लिखा। उसकी बाईं बांह के अंदरूनी हिस्से पर, उसने लिखा था कि आईएस के आतंकवादियों ने उन सभी को एक साथ पकड़ा था। साथ ही तारिख भी लिखी जब उसे पकड़ा गया, 8-8-2014। पांच बच्चों की इस मां ने आतंकियों के जुल्म को कभी ना भूलने के लिए टैटू बनवाया था।  

<p>लैला तालू, को एक बार निनेवा पैलेस होटल आतंकवादी कैदी द्वारा लाया गया था। उसे अपने पति और बच्चों के साथ चरमपंथियों द्वारा किडनैप किया गया था - लेकिन एक बार उसके पति को ले जाने के बाद, तालू को एक इराकी डॉक्टर को बेच दिया गया, जिसने तीन दिन बाद उसे एक दोस्त को उपहार में दिया। अदालतों के माध्यम से बिक्री को अनिवार्य करने के नियमों के बावजूद, उसे घरों से बाहर चलाने वाले अनौपचारिक दास बाजारों की दुनिया में फेंक दिया गया था।&nbsp;</p>

लैला तालू, को एक बार निनेवा पैलेस होटल आतंकवादी कैदी द्वारा लाया गया था। उसे अपने पति और बच्चों के साथ चरमपंथियों द्वारा किडनैप किया गया था - लेकिन एक बार उसके पति को ले जाने के बाद, तालू को एक इराकी डॉक्टर को बेच दिया गया, जिसने तीन दिन बाद उसे एक दोस्त को उपहार में दिया। अदालतों के माध्यम से बिक्री को अनिवार्य करने के नियमों के बावजूद, उसे घरों से बाहर चलाने वाले अनौपचारिक दास बाजारों की दुनिया में फेंक दिया गया था। 

<p>इसी कमरे में लैला तालू ने 2014 में इस्लामिक स्टेट के आतंकवादियों बीच अपने पति और बच्चों को आखिरी बार देखा था।&nbsp;<br />
&nbsp;</p>

इसी कमरे में लैला तालू ने 2014 में इस्लामिक स्टेट के आतंकवादियों बीच अपने पति और बच्चों को आखिरी बार देखा था। 
 

<p>लैला तालू ने सुरक्षा बलों को बगीचे में खुदाई करने का निर्देश दिया, जहां उसने 2014 में इस्लामिक स्टेट के आतंकवादियों द्वारा इराक में पकड़े जाने के दौरान अपने मोबाइल फोन और सिगरेट को दफन कर दिया था।</p>

लैला तालू ने सुरक्षा बलों को बगीचे में खुदाई करने का निर्देश दिया, जहां उसने 2014 में इस्लामिक स्टेट के आतंकवादियों द्वारा इराक में पकड़े जाने के दौरान अपने मोबाइल फोन और सिगरेट को दफन कर दिया था।

<p>लैला तालू अपने भाई खालिद के साथ दुखी होकर जाती हुई। इसी जगह पर उसने आखिरी बार 2014 में अपने पति को देखा था। उसके परिवार को लगभग 2,000 अन्य यज़ीदियों के साथ एक गाँव में ले जाया गया, जब उन्हें पुरुषों से अलग कर दिया गया। इसके बाद उन्हें इस्लाम में परिवर्तित होने के लिए मजबूर किया गया। पुरुषों के शव कभी नहीं मिले थे, लेकिन माना जाता है कि उन्हें पास के सिंकहॉल में फेंक दिया गया था।&nbsp;</p>

लैला तालू अपने भाई खालिद के साथ दुखी होकर जाती हुई। इसी जगह पर उसने आखिरी बार 2014 में अपने पति को देखा था। उसके परिवार को लगभग 2,000 अन्य यज़ीदियों के साथ एक गाँव में ले जाया गया, जब उन्हें पुरुषों से अलग कर दिया गया। इसके बाद उन्हें इस्लाम में परिवर्तित होने के लिए मजबूर किया गया। पुरुषों के शव कभी नहीं मिले थे, लेकिन माना जाता है कि उन्हें पास के सिंकहॉल में फेंक दिया गया था। 

<p>लैला तालू एक यजीदी महिला की कब्र के पास खड़ी। इस महिले ने मोसुल में इस्लामिक स्टेट के आतंकवादियों द्वारा पकड़े जाने के बाद अपनी जान ले ली थी। उसे उत्तरी इराक में लाली मंदिर की अनदेखी पहाड़ी पर दफन किया गया था।&nbsp;</p>

लैला तालू एक यजीदी महिला की कब्र के पास खड़ी। इस महिले ने मोसुल में इस्लामिक स्टेट के आतंकवादियों द्वारा पकड़े जाने के बाद अपनी जान ले ली थी। उसे उत्तरी इराक में लाली मंदिर की अनदेखी पहाड़ी पर दफन किया गया था। 

<p>सीरिया के शरिया से भागने के बाद 11 साल की यज़ीदी, मलक साद दख़ल, पत्रकारों और अपनों को देख रो पड़ी। उसे 2014 में इस्लामिक स्टेट के आतंकवादियों द्वारा पकड़ लिया गया था और हाल ही में एक सीरियाई परिवार के साथ रह रहे अल-होल शिविर में उसे पाया गया था।&nbsp;</p>

सीरिया के शरिया से भागने के बाद 11 साल की यज़ीदी, मलक साद दख़ल, पत्रकारों और अपनों को देख रो पड़ी। उसे 2014 में इस्लामिक स्टेट के आतंकवादियों द्वारा पकड़ लिया गया था और हाल ही में एक सीरियाई परिवार के साथ रह रहे अल-होल शिविर में उसे पाया गया था। 

<p>11 साल की मलक साद दख़ल का यज़ीदी धर्मस्थल के अंदर एक पवित्र व्यक्ति द्वारा अभिषेक किया गया। आतंकियों के चंगुल से भागने के बाद उसका स्वागत किया गया।&nbsp;</p>

11 साल की मलक साद दख़ल का यज़ीदी धर्मस्थल के अंदर एक पवित्र व्यक्ति द्वारा अभिषेक किया गया। आतंकियों के चंगुल से भागने के बाद उसका स्वागत किया गया। 

<p>&nbsp;शरिया कैंप पर अस्त होता सूरज। &nbsp;इराक के दोहुक में यहीँ इस्लामिक स्टेट के आतंकवादियों द्वारा विस्थापित किए गए यज़ीदियों को रखा जाता है।&nbsp;<br />
&nbsp;</p>

 शरिया कैंप पर अस्त होता सूरज।  इराक के दोहुक में यहीँ इस्लामिक स्टेट के आतंकवादियों द्वारा विस्थापित किए गए यज़ीदियों को रखा जाता है। 
 

<p>पारंपरिक कपड़े पहने यजीदी युवा। उत्तरी इराक के खानके आईडीपी कैंप में अपने धर्म और संस्कृति को फिर से जानने के लिए एक कार्यक्रम में हिस्सा लेते दिख रहे बच्चे। कुछ 3,500 यज़ीदी गुलामों को हाल के वर्षों में इस्लामिक स्टेट आतंकवादी चंगुल से मुक्त कराया गया है।&nbsp;</p>

पारंपरिक कपड़े पहने यजीदी युवा। उत्तरी इराक के खानके आईडीपी कैंप में अपने धर्म और संस्कृति को फिर से जानने के लिए एक कार्यक्रम में हिस्सा लेते दिख रहे बच्चे। कुछ 3,500 यज़ीदी गुलामों को हाल के वर्षों में इस्लामिक स्टेट आतंकवादी चंगुल से मुक्त कराया गया है। 

<p>यज़ीदी महिलाएं उत्तरी इराक में इराक के दोहुक प्रांत के सबसे पवित्र यज़ीदी मंदिर लालीश में आती हुई। 2014 में इस्लामिक स्टेट के आतंकवादियों द्वारा एक सप्ताह तक किए गए हमले के दौरान, उन्होंने सैकड़ों यजीदियों को मार डाला और 6,417 लोगों का अपहरण कर लिया, जिनमें से आधे से अधिक महिलाएं और लड़कियां थीं।&nbsp;</p>

यज़ीदी महिलाएं उत्तरी इराक में इराक के दोहुक प्रांत के सबसे पवित्र यज़ीदी मंदिर लालीश में आती हुई। 2014 में इस्लामिक स्टेट के आतंकवादियों द्वारा एक सप्ताह तक किए गए हमले के दौरान, उन्होंने सैकड़ों यजीदियों को मार डाला और 6,417 लोगों का अपहरण कर लिया, जिनमें से आधे से अधिक महिलाएं और लड़कियां थीं। 

<p>एक यजीदी परिवार इराक के शेखान के पास लालीश मंदिर के दरवाजे पर एक तस्वीर के लिए खड़ा।&nbsp;<br />
&nbsp;</p>

एक यजीदी परिवार इराक के शेखान के पास लालीश मंदिर के दरवाजे पर एक तस्वीर के लिए खड़ा। 
 

<p>इराक के शेखान के पास लालिश मंदिर में एक यजीदी पवित्र महिला द्वारा एक प्राचीन झरने के पानी से एक बच्ची का अभिषेक करते हुए।&nbsp;</p>

इराक के शेखान के पास लालिश मंदिर में एक यजीदी पवित्र महिला द्वारा एक प्राचीन झरने के पानी से एक बच्ची का अभिषेक करते हुए। 

<p>पारंपरिक कपड़े पहने यजीदी लड़कियां उत्तरी इराक के खानके आईडीपी कैंप में अपने धर्म और संस्कृति के साथ उन्हें फिर से जानने के लिए एक कार्यक्रम में हिस्सा लेती हुई।&nbsp;<br />
&nbsp;</p>

पारंपरिक कपड़े पहने यजीदी लड़कियां उत्तरी इराक के खानके आईडीपी कैंप में अपने धर्म और संस्कृति के साथ उन्हें फिर से जानने के लिए एक कार्यक्रम में हिस्सा लेती हुई। 
 

<p>इस तस्वीर को 4 सितंबर, 2019 में खिंचा गया। दिख रहा शख्स अबु अदल अल-जजराई, जो लड़कियों की खरीद-फरोख्त करता था।&nbsp;</p>

इस तस्वीर को 4 सितंबर, 2019 में खिंचा गया। दिख रहा शख्स अबु अदल अल-जजराई, जो लड़कियों की खरीद-फरोख्त करता था। 

<p>28 अगस्त, 2019 को ली गई ये तस्वीर। इसमें इराक के बगदाद में एक साक्षात्कार के लिए इराकी विशेष बलों के नेतृत्व में इराकी इस्लामी राज्य उपदेशक अबू हारेथ को ले लाते सुरक्षाबल के लोग।&nbsp;<br />
&nbsp;</p>

28 अगस्त, 2019 को ली गई ये तस्वीर। इसमें इराक के बगदाद में एक साक्षात्कार के लिए इराकी विशेष बलों के नेतृत्व में इराकी इस्लामी राज्य उपदेशक अबू हारेथ को ले लाते सुरक्षाबल के लोग। 
 

<p>इराक के बगदाद में एक साक्षात्कार से पहले इराकी स्पेशल फोर्स के साथ अबू हारेथ। ये एक इराकी इस्लामिक स्टेट का प्रचारक था जिसके पास कई यजीदी गुलाम थे। इन्हें ये बेचने का काम करता था।&nbsp;<br />
&nbsp;</p>

इराक के बगदाद में एक साक्षात्कार से पहले इराकी स्पेशल फोर्स के साथ अबू हारेथ। ये एक इराकी इस्लामिक स्टेट का प्रचारक था जिसके पास कई यजीदी गुलाम थे। इन्हें ये बेचने का काम करता था। 
 

<p>अब्दुल-रहमान अल-शमरी, एक सऊदी इस्लामिक स्टेट सदस्य, जो यज़ीदी दासों का कारोबार करता था। ये 2017 से सीरियाई कुर्द-संचालित जेल में है।&nbsp;</p>

अब्दुल-रहमान अल-शमरी, एक सऊदी इस्लामिक स्टेट सदस्य, जो यज़ीदी दासों का कारोबार करता था। ये 2017 से सीरियाई कुर्द-संचालित जेल में है। 

loader