भारत से पहले इन देशों में बैन हो चुका है टिक टॉक, सरेआम पोर्न और अश्लील वीडियोज दिखाने के कारण लगी थी रोक

First Published 30, Jun 2020, 9:55 AM

हटके डेस्क: भारत में 29 जून 2020 को भारत सरकार ने चीन के 59 ऐप पर बैन लगा दिया। ये सारे ऐप अब प्लेस्टोर से डाउनलोड नहीं किये जा सकते। भारत सरकार ने इन चीनी ऐप्स पर भारतीय यूजर्स की जानकारी और उनकी प्राइवेसी कंसर्न को लेकर रोक लगाई है। जिन ऐप्स पर रोक लगाई गई है, उसमें टिक टॉक भी शामिल है। लेकिन आपको बता दें कि भले ही भारत में ये फैसला अभी लिया गया है, लेकिन मद्रास कोर्ट ने एक साल पहले ही भारत सरकार से टिक टॉक पर बैन लगाने की अपील की थी। टिकटोक भले ही दुनिया में सबसे ज्यादा बार डाउनलोड किया जाने वाला ऐप है, लेकिन इससे पहले कई देश इसे बैन करने का फैसला ले चुके हैं। इसमें कई मुस्लिम देश भी शामिल हैं। आइये हम आपको बताते हैं, भारत से पहले और किन देशों में टिक टॉक बैन किया जा चुका है। 

<p>3 जुलाई 2018 को इंडोनेशियाई सरकार ने टिक टॉक पर बैन लगा दिया था। इस मुस्लिम देश में कई लोगों ने कंप्लेन दर्ज की थी कि इसपर अश्लील कंटेंट परोसा जा रहा है। इस कारण इंडोनेशियाई सरकार ने इसपर बैन लगा दिया था। </p>

3 जुलाई 2018 को इंडोनेशियाई सरकार ने टिक टॉक पर बैन लगा दिया था। इस मुस्लिम देश में कई लोगों ने कंप्लेन दर्ज की थी कि इसपर अश्लील कंटेंट परोसा जा रहा है। इस कारण इंडोनेशियाई सरकार ने इसपर बैन लगा दिया था। 

<p>इंडोनेशिया के इस फैसले के बाद टिक टॉक ने देश में 20 स्टाफ को हायर किया, जो विवादित कंटेंट को इस प्लेटफार्म से फ़िल्टर करने का काम करते थे। इसके बाद आठ दिन के बाद सरकार ने इस ऐप से बैन हटा लिया था। </p>

इंडोनेशिया के इस फैसले के बाद टिक टॉक ने देश में 20 स्टाफ को हायर किया, जो विवादित कंटेंट को इस प्लेटफार्म से फ़िल्टर करने का काम करते थे। इसके बाद आठ दिन के बाद सरकार ने इस ऐप से बैन हटा लिया था। 

<p>नवंबर 2018 में बांग्लादेश सरकार ने भी चीन के इस मशहूर ऐप पर बैन लगा दिया था। उन्होंने टिक टॉक ऐप को इंटरनेट एक्सेस देना ही बंद कर दिया था। </p>

नवंबर 2018 में बांग्लादेश सरकार ने भी चीन के इस मशहूर ऐप पर बैन लगा दिया था। उन्होंने टिक टॉक ऐप को इंटरनेट एक्सेस देना ही बंद कर दिया था। 

<p>बांग्लादेश सरकार के मुताबिक, टिक टॉक के कंटेंट काफी अश्लील थे। साथ ही ये उनके देश में गैंबलिंग को भी बढ़ावा दे रहे थे। इस कारण बांग्लादेश सरकार ने इसपर रोक लगा दी थी। </p>

बांग्लादेश सरकार के मुताबिक, टिक टॉक के कंटेंट काफी अश्लील थे। साथ ही ये उनके देश में गैंबलिंग को भी बढ़ावा दे रहे थे। इस कारण बांग्लादेश सरकार ने इसपर रोक लगा दी थी। 

<p>बांग्लादेश की ही तरह पाकिस्तान में भी अगस्त 2019 को एक पेटिशन दर्ज की गई थी, जिसमें पाकिस्तान सरकार से टिक टॉक पर बैन लगाने की रिक्वेस्ट की गई थी। इस पेटिशन पर 500 लोगों ने साइन किया था।  </p>

बांग्लादेश की ही तरह पाकिस्तान में भी अगस्त 2019 को एक पेटिशन दर्ज की गई थी, जिसमें पाकिस्तान सरकार से टिक टॉक पर बैन लगाने की रिक्वेस्ट की गई थी। इस पेटिशन पर 500 लोगों ने साइन किया था।  

<p>लेकिन बाद में सरकार ने इसपर रोक नहीं लगाई। पाकिस्तान में टिक टॉक के कंटेंट पर फ़िल्टर लगाया गया, जिसके बाद इस ऐप को अभी भी वहां यूज किया जा रहा है। </p>

लेकिन बाद में सरकार ने इसपर रोक नहीं लगाई। पाकिस्तान में टिक टॉक के कंटेंट पर फ़िल्टर लगाया गया, जिसके बाद इस ऐप को अभी भी वहां यूज किया जा रहा है। 

<p>ना सिर्फ अन्य देशों में, खुद चीन में भी इस ऐप पर कई तरह के फिल्टर्स लगाए हुए हैं। चीन में कोई भी ऐसा टिकटोक वीडियो नहीं बनाया जा सकता तो चीन के कम्युनिस्ट पार्टी के खिलाफ कुछ कहता हो।  </p>

ना सिर्फ अन्य देशों में, खुद चीन में भी इस ऐप पर कई तरह के फिल्टर्स लगाए हुए हैं। चीन में कोई भी ऐसा टिकटोक वीडियो नहीं बनाया जा सकता तो चीन के कम्युनिस्ट पार्टी के खिलाफ कुछ कहता हो।  

<p>चीन में यूज होने वाले टिक टॉक में करीब 100 तरह के कंटेंट बैन हैं। साथ ही दुनियाभर के कुछ नामचीन नेताओं के खिलाफ भी टिक टॉक पर कोई कंटेंट बनाना बैन है। इसमें महात्मा गाँधी से लेकर ट्रंप, पुतिन और ओबामा तक शामिल हैं। </p>

चीन में यूज होने वाले टिक टॉक में करीब 100 तरह के कंटेंट बैन हैं। साथ ही दुनियाभर के कुछ नामचीन नेताओं के खिलाफ भी टिक टॉक पर कोई कंटेंट बनाना बैन है। इसमें महात्मा गाँधी से लेकर ट्रंप, पुतिन और ओबामा तक शामिल हैं। 

<p>बात अगर भारत में बैन की करें, तो जिनके फोन में टिकटोक पहले से डाउनलोड हैं, वो ऐप मौजूद रहेगा, लेकिन उसकी उपयोगिता नहीं रह जाएगी। भारत सरकार ने सभी टेलीकॉम कंपनियों को साफ़ कह दिया है कि वो बैन किये गए ऐप्स को इंटरनेट की सुविधा ना दें। <br />
 </p>

बात अगर भारत में बैन की करें, तो जिनके फोन में टिकटोक पहले से डाउनलोड हैं, वो ऐप मौजूद रहेगा, लेकिन उसकी उपयोगिता नहीं रह जाएगी। भारत सरकार ने सभी टेलीकॉम कंपनियों को साफ़ कह दिया है कि वो बैन किये गए ऐप्स को इंटरनेट की सुविधा ना दें। 
 

<p>ऐसे में यदि कोई भारतीय, जिसके फोन में ये ऐप है, वो किसी ऐसे देश जाता है जहां इस ऐप पर बैन नहीं लगा है, तभी ये काम करेगा। वरना आपके फोन में मौजूद होने के बाद भी आप इसका इस्तेमाल नहीं कर पाएंगे।  </p>

ऐसे में यदि कोई भारतीय, जिसके फोन में ये ऐप है, वो किसी ऐसे देश जाता है जहां इस ऐप पर बैन नहीं लगा है, तभी ये काम करेगा। वरना आपके फोन में मौजूद होने के बाद भी आप इसका इस्तेमाल नहीं कर पाएंगे।  

loader