Asianet News Hindi

आज रात 11:50 मिनट पर पृथ्वी से गुजरेगी आफत, अंतरिक्ष से तेजी से गिर रहे एस्टेरोइड को लेकर मचा हंगामा

First Published Sep 17, 2020, 11:11 AM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

हटके डेस्क: साल 2020 में एक के बाद एक आफतों का सिलसिला कंटीन्यू हो रहा है। शायद किसी ने सोचा भी नहीं था कि इस साल इतनी मुसीबतें लोगों को झेलनी पड़ेगी। जंगल की आग के अलावा कभी ज्वालामुखी विस्फोट तो कभी कहीं बाढ़। हालांकि, ये सब तबाही तो कई सालों से लोग देख रहे थे। लेकिन कोरोना जैसी महामारी ने कई देशों को कब्रिस्तान में ही बदल दिया। इस बीच साल 2020 में अंतरिक्ष के लिए भी उथल-पुथल से भरी। हर साल की तुलना में इस साल अंतरिक्ष से काफी गतिविधि पृथ्वी पर नोटिस की गई। एक बार तो दुनिया के खत्म होने का भी अनुमान लगा लिया गया। लेकिन अभी तक अंतरिक्ष से होने वाले खतरे टले नहीं है। दरअसल, अंतरिक्ष से गिरने वाले उल्कापिंड या एस्टेरोइड अगर पृथ्वी के नजदीक से गुजरते हैं तो पृथ्वी के गुरुत्वाकर्षण की वजह से इसके धरती से टकराने के चांसेस बन जाते हैं जिसकी वजह से तबाही मच सकती है। अब एक बार फिर 17 सितंबर को पृथ्वी को बेहद नजदीक से एक एस्टेरोइड गुजरने वाला है, जिसकी वजह से वैज्ञानिकों की सांस अटकी हुई है। 
 

साल 2020 में कोरोना ने लोगों की जिंदगी में उथल-पुथल मचा दी है। इस वायरस ने लोगों की जिंदगी को काफी प्रभावित किया है। सिर्फ पृथ्वी ही नहीं, इस साल आसमानी दुनिया में भी काफी हलचल देखने को मिल रही है। 

साल 2020 में कोरोना ने लोगों की जिंदगी में उथल-पुथल मचा दी है। इस वायरस ने लोगों की जिंदगी को काफी प्रभावित किया है। सिर्फ पृथ्वी ही नहीं, इस साल आसमानी दुनिया में भी काफी हलचल देखने को मिल रही है। 

ताजा रिपोर्ट के मुताबिक, 17 सितंबर को पृथ्वी के बेहद नजदीक से एक एस्टेरोइड गुजरेगा इसके और पृथ्वी के बीच इतना कम डिस्टेंस होगा, जिसे देखने के बाद वैज्ञानिकों की सांसें अटकी हुई है। 

ताजा रिपोर्ट के मुताबिक, 17 सितंबर को पृथ्वी के बेहद नजदीक से एक एस्टेरोइड गुजरेगा इसके और पृथ्वी के बीच इतना कम डिस्टेंस होगा, जिसे देखने के बाद वैज्ञानिकों की सांसें अटकी हुई है। 

ये एस्टेरोइड आकार में काफी बड़ा है। अंदाज के मुताबिक, इसका साइज लंदन ब्रिज के जितना बड़ा हो सकता है। इसका साइज 110 डायमीटर तक हो सकता है। 

ये एस्टेरोइड आकार में काफी बड़ा है। अंदाज के मुताबिक, इसका साइज लंदन ब्रिज के जितना बड़ा हो सकता है। इसका साइज 110 डायमीटर तक हो सकता है। 

वैज्ञानिकों ने इस एस्टेरोइड का नाम एस्टेरोइड 2014 रखा है। इसका आकर और पृथ्वी से इसकी इतनी कम दूरी ने लोगों की सांसें बढ़ा दी है। 

वैज्ञानिकों ने इस एस्टेरोइड का नाम एस्टेरोइड 2014 रखा है। इसका आकर और पृथ्वी से इसकी इतनी कम दूरी ने लोगों की सांसें बढ़ा दी है। 

बात ये है कि चूंकि ये पृथ्वी के पास से गुजरेगा, ऐसे में अगर गुरुत्वाकर्षण के कारण ये पृथ्वी से टकराया तो भारी तबाही मच जाएगी। हालांकि, ऐसा होने के चांसेस काफी कम है, फिर भी वैज्ञानिक हर तरह से तैयार हैं। 

बात ये है कि चूंकि ये पृथ्वी के पास से गुजरेगा, ऐसे में अगर गुरुत्वाकर्षण के कारण ये पृथ्वी से टकराया तो भारी तबाही मच जाएगी। हालांकि, ऐसा होने के चांसेस काफी कम है, फिर भी वैज्ञानिक हर तरह से तैयार हैं। 

स्काई लाइव के मुताबिक, ये एस्टेरोइड पृथ्वी से 17 सितंबर को रात 11 बज कर 50 मिनट पर गुजरेगा। ये एस्टेरोइड अंतरिक्ष से 8.66 किलोमीटर प्रति सेकंड के स्पीड से बढ़ रहा है। 

स्काई लाइव के मुताबिक, ये एस्टेरोइड पृथ्वी से 17 सितंबर को रात 11 बज कर 50 मिनट पर गुजरेगा। ये एस्टेरोइड अंतरिक्ष से 8.66 किलोमीटर प्रति सेकंड के स्पीड से बढ़ रहा है। 

नासा के मुताबिक, वैसे तो इस एस्टेरोइड से कोई खतरा नजर नहीं आ रहा है, फिर भी सावधानी जरुरी है। इस कारण इसपर नजर रखी जा रही है।

नासा के मुताबिक, वैसे तो इस एस्टेरोइड से कोई खतरा नजर नहीं आ रहा है, फिर भी सावधानी जरुरी है। इस कारण इसपर नजर रखी जा रही है।

बता दें कि इससे पहले 14 सितम्बर को भी पृथ्वी के नजदीक से एक उल्कापिंड गुजरा था। साथ ही एक एस्टेरोइड तो वैज्ञानिकों की नजर से ही स्लिप हो गया था। इस वजह से अब वैज्ञानिक इसपर ख़ास ध्यान रख रहे हैं। 

बता दें कि इससे पहले 14 सितम्बर को भी पृथ्वी के नजदीक से एक उल्कापिंड गुजरा था। साथ ही एक एस्टेरोइड तो वैज्ञानिकों की नजर से ही स्लिप हो गया था। इस वजह से अब वैज्ञानिक इसपर ख़ास ध्यान रख रहे हैं। 

साल 2020 में अंतरिक्ष से आने वाली तबाहियों की संख्या में काफी इजाफा दिख रहा है। इस साल कोरोना के कारण कई लोगों ने पृथ्वी के खत्म होने की बात भी कह डाली। जिसकी वजह से अंतरिक्ष की इन गतिविधियों ने लोगों के मन में खौफ पैदा कर दिया है। 
 

साल 2020 में अंतरिक्ष से आने वाली तबाहियों की संख्या में काफी इजाफा दिख रहा है। इस साल कोरोना के कारण कई लोगों ने पृथ्वी के खत्म होने की बात भी कह डाली। जिसकी वजह से अंतरिक्ष की इन गतिविधियों ने लोगों के मन में खौफ पैदा कर दिया है। 
 

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios