तस्वीरें दहला देगी दिल: कोरोना में बंद हुई मीट फैक्ट्री,7 लाख सूअरों को बंद कमरे में यूं उबाल दिया

First Published 31, May 2020, 11:21 AM

हटके डेस्क: दुनिया में कोरोना के कारण तबाही मची हुई है। इस वायरस के कारण दुनिया के कई देशों को लॉकडाउन किया गया है। इस वजह से फैक्ट्रीज, दुकानें, मॉल आदि भी बंद पड़े हैं। इस बीच सोशल मीडिया पर अमेरिका के के फार्म फैक्ट्री से कुछ तस्वीरें सामने आई। ये फैक्ट्री मीट प्रोडक्शन करती है। जब कोरोना के कारण इसे बंद करने की नौबत आई, तब यहां रखे हजारों सूअरों को मारने का फैसला लिया गया। इन सूअरों को कैसे मारा गया, इसका फैक्ट्री के पास रहने वाले एक शख्स ने पूरा एक वीडियो ही जारी किया। फैक्ट्री ने इन सूअरों को भांप से मार डाला। तस्वीरों में देखें कैसे ख़त्म हुई इन सूअरों की कहानी... 

<p>इन तस्वीरों को डायरेक्ट एक्शन एव्रीवेयर में दिखाया गया। इसमें इन सूअरों को वेंटिलेशन शटडाउन मेथड से मारा गया। फैक्ट्री ने गैरकानूनी तरीके से इन सूअरों को मार डाला। </p>

इन तस्वीरों को डायरेक्ट एक्शन एव्रीवेयर में दिखाया गया। इसमें इन सूअरों को वेंटिलेशन शटडाउन मेथड से मारा गया। फैक्ट्री ने गैरकानूनी तरीके से इन सूअरों को मार डाला। 

<p>इस मेथड में सूअरों को एक  कमरे में बंद कर दिया जाता है। इसके बाद कमरे की वेंटिलेशन भी बंद कर दी जाती है। फिर कमरे का तापमान 140 डिग्री फ़ारेनहाइट पहुंचा दिया जाता है। </p>

इस मेथड में सूअरों को एक  कमरे में बंद कर दिया जाता है। इसके बाद कमरे की वेंटिलेशन भी बंद कर दी जाती है। फिर कमरे का तापमान 140 डिग्री फ़ारेनहाइट पहुंचा दिया जाता है। 

<p>आयोवा सेलेक्ट फार्म ने कोरोना के कारण फैक्ट्री बंद होने पर इसी तरह अपनी फैक्ट्री के हजारों सूअरों को मार डाला। इन्हें कमरे में बंद कर गर्म भांप में उबाल दिया गया। जो जिन्दा बच गए, उन्हें अगली सुबह गोली मार दी गई। </p>

आयोवा सेलेक्ट फार्म ने कोरोना के कारण फैक्ट्री बंद होने पर इसी तरह अपनी फैक्ट्री के हजारों सूअरों को मार डाला। इन्हें कमरे में बंद कर गर्म भांप में उबाल दिया गया। जो जिन्दा बच गए, उन्हें अगली सुबह गोली मार दी गई। 

<p>इस टंकी में मौजूद पानी को खौलाया गया और इसी से पाइप के जरिये कमरे में भांप पहुंचाया गया। बड़े-बड़े पाइप भांप को कमरे में ले जाते हुए। तस्वीर में दिख रहे दो विशाल भांप वाले पाइप्स। </p>

इस टंकी में मौजूद पानी को खौलाया गया और इसी से पाइप के जरिये कमरे में भांप पहुंचाया गया। बड़े-बड़े पाइप भांप को कमरे में ले जाते हुए। तस्वीर में दिख रहे दो विशाल भांप वाले पाइप्स। 

<p>इस दौरान फैक्ट्री में पूरी तैयारी की गई थी। भांप के प्रेशर के लिए जगह-जगह गैस मीटर लगाए गए थे। इससे ही भांप फैलने की इंटेंसिटी कंट्रोल की जा रही थी।  </p>

इस दौरान फैक्ट्री में पूरी तैयारी की गई थी। भांप के प्रेशर के लिए जगह-जगह गैस मीटर लगाए गए थे। इससे ही भांप फैलने की इंटेंसिटी कंट्रोल की जा रही थी।  

<p>जानकारी के मुताबिक, इस दौरान करीब 7 लाख सूअरों को मारा गया। इसके लिए हर हफ्ते कुछ हजार सूअरों को बारी-बारी मारा गया। इसके बाद लाशों को उठाने के लिए बुलडोज़र का इस्तेमाल किया गया। </p>

जानकारी के मुताबिक, इस दौरान करीब 7 लाख सूअरों को मारा गया। इसके लिए हर हफ्ते कुछ हजार सूअरों को बारी-बारी मारा गया। इसके बाद लाशों को उठाने के लिए बुलडोज़र का इस्तेमाल किया गया। 

<p>मारे जाने के बाद सूअरों की बॉडी को बुलडोज़र से गाड़ियों में लोड किया गया। इसके बाद इन्हें एक जगह गड्ढे में दफना दिया गया। </p>

मारे जाने के बाद सूअरों की बॉडी को बुलडोज़र से गाड़ियों में लोड किया गया। इसके बाद इन्हें एक जगह गड्ढे में दफना दिया गया। 

<p>इन तस्वीरों को फैक्ट्री के पास  रहने वाले एक शख्स ने ही कैमरे में कैद किया। उसने अपनी पहचान छिपाई लेकिन सबूतों को देते वक्त बताया कि हर दिन ऐसे जानवरों को तड़पता देखना काफी मुश्किल था। </p>

इन तस्वीरों को फैक्ट्री के पास  रहने वाले एक शख्स ने ही कैमरे में कैद किया। उसने अपनी पहचान छिपाई लेकिन सबूतों को देते वक्त बताया कि हर दिन ऐसे जानवरों को तड़पता देखना काफी मुश्किल था। 

<p>उसने इसे अमानवीय कहा। साथ ही बताया कि आराम से इन जानवरों को तड़पाकर मार दिया गया और फिर दफना दिया गया। </p>

उसने इसे अमानवीय कहा। साथ ही बताया कि आराम से इन जानवरों को तड़पाकर मार दिया गया और फिर दफना दिया गया। 

<p>दरअसल, कोरोना की वजह से फ़ार्म हाउसेस को कुछ गाइडलाइन्स जारी किये गए हैं। ऐसे में कुछ इनके तहत काम कर रहे हैं तो कुछ गैरकानूनी तरीके से जानवरों को मार दे रहे हैं। इसके बाद  ट्रेक्टर से लाशों को ठिकाने लगाया जा रहा है। </p>

<p><br />
 </p>

दरअसल, कोरोना की वजह से फ़ार्म हाउसेस को कुछ गाइडलाइन्स जारी किये गए हैं। ऐसे में कुछ इनके तहत काम कर रहे हैं तो कुछ गैरकानूनी तरीके से जानवरों को मार दे रहे हैं। इसके बाद  ट्रेक्टर से लाशों को ठिकाने लगाया जा रहा है। 


 

loader