Asianet News Hindi

रेस्त्रां में चिकन सूप पीते हुए फट गया महिला का पेट, शेफ ने हिचकी आने पर पिला दी थी 1 चम्मच 'दवा'

First Published Sep 7, 2020, 10:45 AM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

हटके डेस्क: कई बार इंसान हड़बड़ी में ऐसी गड़बड़ी कर जाता है, जिसका नतीजा सालों तक भुगतना पड़ता है। शायद यही वजह है कि लोगों को सावधानी से कोई भी काम करने को कहा जाता है। एक छोटी सी लापरवाही के कारण इतना बड़ा नुकसान हो सकता है, जिसकी भरपाई काफी मुश्किल हो जाती है। साल 2013 में ऐसा ही एक हादसा ऑस्ट्रेलिया के गोल्ड कोस्ट में रहने वाली एक महिला के साथ हुआ था। ये महिला एक रेस्त्रां में खाने गई थी। वहां अचानक उसे हिचकियां आने लगी, जो रुकने का नाम नहीं ले रही थी। ऐसे में रेस्त्रां के शेफ ने रेमेडी के नाम पर उसे विनेगर की जगह ओवन क्लीनर पिला दिया। इसके बाद महिला का जो हाल हुआ, उसका अंजाम आज 7 साल बाद भी वो भुगत रही है। महिला ने अब जाकर अपनी हालत और इन 7 सालों के टॉर्चर को दुनिया के साथ शेयर किया है। 

ये घटना 2013 में ऑस्ट्रेलिया के गोल्ड कोस्ट में हुआ था। वहां द पॉइंट नाम के एक रेस्त्रां में खाना खाने गई अमांडा मेर्रिफिएल्ड को थोड़ा भी अहसास नहीं था कि उसकी जिंदगी आज के बाद कभी पहले जैसी नहीं रहेगी। 
 

ये घटना 2013 में ऑस्ट्रेलिया के गोल्ड कोस्ट में हुआ था। वहां द पॉइंट नाम के एक रेस्त्रां में खाना खाने गई अमांडा मेर्रिफिएल्ड को थोड़ा भी अहसास नहीं था कि उसकी जिंदगी आज के बाद कभी पहले जैसी नहीं रहेगी। 
 

खाना खाने के दौरान अचानक अमांडा को हिचकियां आने लगी। उसकी हालत देख रेस्त्रां के शेफ ने उसे एक चम्मच विनेगर पिलाया। लेकिन गलती से उन्होंने ओवन क्लीनर को विनेगर समझ लिया और उसे ही अमांडा को पिला दिया। इसके बाद अमांडा का गला और पेट जलने लगा। 

खाना खाने के दौरान अचानक अमांडा को हिचकियां आने लगी। उसकी हालत देख रेस्त्रां के शेफ ने उसे एक चम्मच विनेगर पिलाया। लेकिन गलती से उन्होंने ओवन क्लीनर को विनेगर समझ लिया और उसे ही अमांडा को पिला दिया। इसके बाद अमांडा का गला और पेट जलने लगा। 

46 साल की अमांडा वहीं दर्द से तड़पकर गिर गई। उसे तुरंत अस्पताल ले जाया गया जहां इस बात का खुलासा हुआ कि उसे जो पिलाया गया वो विनेगर नहीं एसिड था। डॉक्टर्स ने तुरंत उसे आईसीयू में एडमिट कर लिया, जहां उन्होंने अमांडा का पेट बाहर निकाला। एसिड की वजह से उसके पेट में और आंतों में विस्फोट हो गया था। 

46 साल की अमांडा वहीं दर्द से तड़पकर गिर गई। उसे तुरंत अस्पताल ले जाया गया जहां इस बात का खुलासा हुआ कि उसे जो पिलाया गया वो विनेगर नहीं एसिड था। डॉक्टर्स ने तुरंत उसे आईसीयू में एडमिट कर लिया, जहां उन्होंने अमांडा का पेट बाहर निकाला। एसिड की वजह से उसके पेट में और आंतों में विस्फोट हो गया था। 

इस घटना के बाद अमांडा को करीब 80 सर्जरी करवानी पड़ी। अलग-अलग स्पेस्लिस्ट से इलाज के लिए 7 साल में अमांडा 120 अस्पतालों के चक्कर लगा चुकी है। इतने सालों बाद अब जाकर उन्होंने अपने साथ हुई इस खौफनाक घटना को लोगों के साथ शेयर किया। 

इस घटना के बाद अमांडा को करीब 80 सर्जरी करवानी पड़ी। अलग-अलग स्पेस्लिस्ट से इलाज के लिए 7 साल में अमांडा 120 अस्पतालों के चक्कर लगा चुकी है। इतने सालों बाद अब जाकर उन्होंने अपने साथ हुई इस खौफनाक घटना को लोगों के साथ शेयर किया। 

अमांडा अपने अनुभव शेयर करते हुए बोलीं कि घटना के शुरूआती कुछ महीने में उन्हें हर हफ्ते एक ऑपरेशन से गुजरना पड़ा। डॉक्टर्स उनके इसोफेगस को निकालने की बात कर रहे थे। आखिरकार उसे ठीक नहीं किया जा सका और निकालना पड़ा। 

अमांडा अपने अनुभव शेयर करते हुए बोलीं कि घटना के शुरूआती कुछ महीने में उन्हें हर हफ्ते एक ऑपरेशन से गुजरना पड़ा। डॉक्टर्स उनके इसोफेगस को निकालने की बात कर रहे थे। आखिरकार उसे ठीक नहीं किया जा सका और निकालना पड़ा। 

साथ ही डॉक्टर्स को अमांडा का पेट भी निकालना पड़ा। अब अमांडा दिन में तीन इंजेक्शंस के सहारे जिन्दा रहती है। उन्होंने बताया कि इस हादसे के बाद वो पूरी तरह टूट गई है। कभी पेशे से वकील अमांडा का करियर भी तबाह हो गया। 

साथ ही डॉक्टर्स को अमांडा का पेट भी निकालना पड़ा। अब अमांडा दिन में तीन इंजेक्शंस के सहारे जिन्दा रहती है। उन्होंने बताया कि इस हादसे के बाद वो पूरी तरह टूट गई है। कभी पेशे से वकील अमांडा का करियर भी तबाह हो गया। 

उनका ज्यादातर समय घर पर हर काम अपनी हालत के हिसाब से करने में बीत जाता है। अमांडा ने बताया कि इस मुश्किल समय में उनके पति बॉब और 9 साल के बेटे जैक ने उनका काफी साथ दिया।  
 

उनका ज्यादातर समय घर पर हर काम अपनी हालत के हिसाब से करने में बीत जाता है। अमांडा ने बताया कि इस मुश्किल समय में उनके पति बॉब और 9 साल के बेटे जैक ने उनका काफी साथ दिया।  
 

इस घटना के बाद रेस्त्रां ने इलाज में अमांडा की थोड़ी-बहुत मदद की। लेकिन जब हॉस्पिटल का बिल बढ़ गया तो  उन्होंने हाथ खींच लिए। अब अमांडा ने रेस्त्रां पर 36 करोड़ 56 लाख 25 हजार का फाइन ठोंका है। 
 

इस घटना के बाद रेस्त्रां ने इलाज में अमांडा की थोड़ी-बहुत मदद की। लेकिन जब हॉस्पिटल का बिल बढ़ गया तो  उन्होंने हाथ खींच लिए। अब अमांडा ने रेस्त्रां पर 36 करोड़ 56 लाख 25 हजार का फाइन ठोंका है। 
 

अमांडा के मुताबिक़, रेस्त्रां की वजह से उनकी जिंदगी बर्बाद हो गई लेकिन उन लोगों ने इसके लिए एक सॉरी तक नहीं कहा। घटना के बाद रेस्त्रां के पुराने मालिक ने इसे न को बेच दिया और अब रेस्त्रां नए नाम से चलाया जा रहा है। 
 

अमांडा के मुताबिक़, रेस्त्रां की वजह से उनकी जिंदगी बर्बाद हो गई लेकिन उन लोगों ने इसके लिए एक सॉरी तक नहीं कहा। घटना के बाद रेस्त्रां के पुराने मालिक ने इसे न को बेच दिया और अब रेस्त्रां नए नाम से चलाया जा रहा है। 
 

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios