Asianet News Hindi

जिस व्यक्ति की वजह से अमेरिका जल उठा, लोग सड़कों पर उतर गए, उसकी मौत कैसे हुई, मेडिकल रिपोर्ट में क्या है?

First Published Jun 2, 2020, 8:22 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

मिनियापोलिस. अमेरिका में जार्ज फ्लॉयड की हत्या के विरोध में बड़े स्तर पर हिंसक विरोध प्रदर्शन हो रहा है। अमेरिका में ये हिंसक प्रदर्शन लगातार 7वें दिन भी जारी है। इस बीच अमेरिका के एक डॉक्टर ने जॉर्ज फ्लॉयड की मौत को हत्या करार दिया और कहा कि पुलिस द्वारा उसे बांधे रखने और गले पर दबाव बनाने के कारण उसके दिल ने काम करना बंद कर दिया था। 
 

40 शहरों में कर्फ्यू
जार्ज फ्लॉयड की मौत के विरोध में अमेरिका का 40 शहरों में कर्फ्यू लगाया गया है, इन सबके बावजूद बड़ी संख्या में लोग सड़कों पर उतर रहे हैं। इन प्रदर्शनों की शुरुआत 25 मई को मिनियापोलिस से विरोध प्रदर्शनों की शुरुआत हुई थी। 
 

40 शहरों में कर्फ्यू
जार्ज फ्लॉयड की मौत के विरोध में अमेरिका का 40 शहरों में कर्फ्यू लगाया गया है, इन सबके बावजूद बड़ी संख्या में लोग सड़कों पर उतर रहे हैं। इन प्रदर्शनों की शुरुआत 25 मई को मिनियापोलिस से विरोध प्रदर्शनों की शुरुआत हुई थी। 
 

दबाव बनाने की वजह से दिल का दौरा पड़ा 
डॉक्टर की रिपोर्ट में कहा गया, पुलिस अधिकारियों द्वारा दबाव बनाए रखने के कारण मृतक को दिल का दौरा पड़ा। इस रिपोर्ट में मौत के अन्य महत्त्वपूर्ण कारणों में फ्ल़ॉयड का दिल की बीमारी और उच्च रक्तचाप से पीड़ित होना तथा फेंटानिल का नशा और हाल में मेथामफेटामाइन का प्रयोग करना भी बताया गया।
 

दबाव बनाने की वजह से दिल का दौरा पड़ा 
डॉक्टर की रिपोर्ट में कहा गया, पुलिस अधिकारियों द्वारा दबाव बनाए रखने के कारण मृतक को दिल का दौरा पड़ा। इस रिपोर्ट में मौत के अन्य महत्त्वपूर्ण कारणों में फ्ल़ॉयड का दिल की बीमारी और उच्च रक्तचाप से पीड़ित होना तथा फेंटानिल का नशा और हाल में मेथामफेटामाइन का प्रयोग करना भी बताया गया।
 

थर्ड डिग्री हत्या का आरोप लगा
मिनियापोलिस के एक पुलिस अधिकारी पर फ्लॉयड की मौत के मामले में थर्ड डिग्री हत्या का आरोप लगा है और उसके साथ तीन अन्य अधिकारियों को बर्खास्त कर दिया गया है। 
 

थर्ड डिग्री हत्या का आरोप लगा
मिनियापोलिस के एक पुलिस अधिकारी पर फ्लॉयड की मौत के मामले में थर्ड डिग्री हत्या का आरोप लगा है और उसके साथ तीन अन्य अधिकारियों को बर्खास्त कर दिया गया है। 
 

राहगीर ने बनाया था वीडियो
एक राहगीर द्वारा बनाए गए वीडियो में दिखा कि पुलिसवाला जार्ज की गर्दन पर पैर रखे हुए है। वह लगातार कहता रहा कि वह सांस नहीं ले पा रहा है और अंत में हिलना-डुलना बंद कर देता है। 

राहगीर ने बनाया था वीडियो
एक राहगीर द्वारा बनाए गए वीडियो में दिखा कि पुलिसवाला जार्ज की गर्दन पर पैर रखे हुए है। वह लगातार कहता रहा कि वह सांस नहीं ले पा रहा है और अंत में हिलना-डुलना बंद कर देता है। 

कौन था जार्ज फ्लॉयड?
जॉर्ज फ्लॉयड 46 साल के थे। उनका जन्म उत्तरी कैरोलीना में हुआ था। वे ह्यूस्टन में रहते थे। लेकिन काम के सिलसिले में वह मिनियापोलिस आ गया। फ्लॉयड मिनियापोलिस के एक रेस्टोरेंट में सिक्योरिटी गार्ड के तौर पर काम करता था। 5 साल से जॉर्ज उस रेस्टोरेंट में काम कर रहे थे। वे मालिक के घर पर किराए से रहते थे। उनकी 6 साल की बेटी भी है। जॉर्ज की पत्नी के मुताबिक, उन्हें मिनियापोलिस काफी पसंद था। वे इसलिए यहां रह रहे थे।
 

कौन था जार्ज फ्लॉयड?
जॉर्ज फ्लॉयड 46 साल के थे। उनका जन्म उत्तरी कैरोलीना में हुआ था। वे ह्यूस्टन में रहते थे। लेकिन काम के सिलसिले में वह मिनियापोलिस आ गया। फ्लॉयड मिनियापोलिस के एक रेस्टोरेंट में सिक्योरिटी गार्ड के तौर पर काम करता था। 5 साल से जॉर्ज उस रेस्टोरेंट में काम कर रहे थे। वे मालिक के घर पर किराए से रहते थे। उनकी 6 साल की बेटी भी है। जॉर्ज की पत्नी के मुताबिक, उन्हें मिनियापोलिस काफी पसंद था। वे इसलिए यहां रह रहे थे।
 

क्या है मामला?
कुछ दिन पहले सोशल मीडिया पर एक वीडियो वायरल हुआ था। इसमें एक अश्वेत शख्स जॉर्ज फ्लॉयड जमीन पर लेटा नजर आ रहा है और उसके गर्दन के ऊपर एक पुलिस अफसर घुटना रखकर दबाता है। कुछ मिनटों के बाद फ्लॉयड की मौत हो जाती है। वीडियो में जॉर्ज कहते दिख रहे हैं, प्लीज आई कान्ट ब्रीद (मैं सांस नहीं ले पा रहा हूं)। यही उनके आखिरी शब्द थे। 
 

क्या है मामला?
कुछ दिन पहले सोशल मीडिया पर एक वीडियो वायरल हुआ था। इसमें एक अश्वेत शख्स जॉर्ज फ्लॉयड जमीन पर लेटा नजर आ रहा है और उसके गर्दन के ऊपर एक पुलिस अफसर घुटना रखकर दबाता है। कुछ मिनटों के बाद फ्लॉयड की मौत हो जाती है। वीडियो में जॉर्ज कहते दिख रहे हैं, प्लीज आई कान्ट ब्रीद (मैं सांस नहीं ले पा रहा हूं)। यही उनके आखिरी शब्द थे। 
 

अब अमेरिका में प्रदर्शनकारी आई कॉन्ट ब्रीद का बैनर लिए विरोध कर रहे हैं।

अब अमेरिका में प्रदर्शनकारी आई कॉन्ट ब्रीद का बैनर लिए विरोध कर रहे हैं।

जार्ज फ्लॉयड मामले में हुआ क्या था?
25 मई को पुलिस को जानकारी मिलती है कि फ्लॉयड ने एक ग्रॉसरी स्टोर पर 20 डॉलर का नकली नोट दिया। इसके बाद पुलिस उसे गाड़ी में बैठाने की कोशिश करते हैं। लेकिन फ्लॉयड जमीन पर गिर जाता है। 
 

जार्ज फ्लॉयड मामले में हुआ क्या था?
25 मई को पुलिस को जानकारी मिलती है कि फ्लॉयड ने एक ग्रॉसरी स्टोर पर 20 डॉलर का नकली नोट दिया। इसके बाद पुलिस उसे गाड़ी में बैठाने की कोशिश करते हैं। लेकिन फ्लॉयड जमीन पर गिर जाता है। 
 

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios