Asianet News Hindi

15 फीट लंबे अजगर के रेस्क्यू का VIDEO वायरल होते ही सामने आया बड़ा झूठ

हिसार के एयरपोर्ट से रेस्क्यू हुए 15 फीट अजगर को लेकर हरियाणा पुलिस के एक जवान ने खोली वन विभाग की पोल। 
 

Video Viral of Python Rescue in Hisar, controversy over  Rescue Operation
Author
Hisar, First Published Jul 13, 2019, 11:37 AM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

हिसार. बुधवार सुबह करीब 11.30 बजे हिसार एयरपोर्ट से रेस्क्यू किए गए 15 फीट लंबे और 70 किलो वजनी अजगर को लेकर विवाद खड़ा हो गया है। वन विभाग ने दावा किया था कि रेस्क्यू उसकी टीम ने किया। वहीं हरियाणा पुलिस के एक जवान ने वीडियो वायरल होने के बाद खुलासा किया कि अजगर उसने पकड़ा था। माना जा रहा है कि हरियाणा में 25 साल बाद इतना बड़ा अजगर सामने आया है। यह अजगर इंडियन रॉक पाइथन प्रजाति का है। यह प्रजाति भारत व पड़ोसी देशों में पाई जाती है। यह अजगर सामान्यत: जल स्रोतों के आसपास रहता है। हालांकि यह शांत स्वभाव का होता है, लेकिन खतरा देखकर हमला करने से भी नहीं डरता।

यूं शुरू हुआ विवाद...
-हिसार रेंज के मंडलीय वन्य प्राणी अधिकारी पवन ग्रोवर ने दावा किया था कि अजगर देखे जाने की सूचना पर रोहतक रेंज के मंडलीय वन्य प्राणी अधिकारी दीपक और रोहतक चिड़ियाघर संपर्क किया गया। इसके बाद टीम ने बुधवार सुबह करीब 11:30 बजे एयरपोर्ट से अजगर को पकड़ा। वन विभाग ने इसका वीडियो भी वायरल किया। 

जब यह वीडियो एयरपोर्ट पर तैनात हेड कांस्टेबल सन्नी ने देखा, तो वे नाराज हो उठे। उन्होंने मीडिया से कहा कि; यह अजगर उन्होंने पकड़कर वन विभाग के हवाले किया था। वीडियो में भी सन्नी अजगर को पकड़कर प्लास्टिक के ड्रम में डालते दिखाई दे रहे हैं। सन्नी सर्प विशेषज्ञ हैं। उन्होंने इसकी बकायदा ट्रेनिंग ली हुई है। वे अब तक 70 से ज्यादा सांप पकड़ चुके हैं।

खैर अब यह वीडियो सोशल मीडिया पर चर्चा का विषय बना हुआ है। लोग लिख रहे हैं कि  अजगर पकड़ने का श्रेय वन विभाग नहीं, पुलिसकर्मी को मिलना चाहिए। उधर, वाइल्ड लाइफ अधिकारी पवन ग्रोवर ने कहा कि श्रेय लेने जैसी कोई बात नहीं है।

"

 

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios