ठंड में बढ़ जाता है हार्ट अटैक के मामले, लक्षण पहचान तुरंत पहुंचे डॉक्टर के पास

| Dec 06 2022, 12:16 PM IST

ठंड में बढ़ जाता है हार्ट अटैक के मामले, लक्षण पहचान तुरंत पहुंचे डॉक्टर के पास

सार

सर्दी के मौसम में हार्ट अटैक के मामले ज्यादा बढ़ जाते हैं। इसलिए सावधानी बरतनी जरूरी है। डॉक्टर की मानें तो हार्ट अचानक धोखा नहीं देता है, बल्कि कई लक्षणों के जरिए ये पहले से संकेत देने लगता है, जिसे पहचानना जरूरी है। जिससे हार्ट अटैक के खतरे से बचा जा सकता है।

हेल्थ डेस्क. कोई जयमाला पहनाते वक्त अचानक गिर पड़ा, तो कोई व्यायाम करते हुए अचानक हार्ट अटैक का शिकार हो गया। पिछले कुछ वक्त से हार्ट अटैक के मामले तेजी से सामने आ रहे हैं। ब्लड प्रेशर की समस्या हर चौथे-पांचवें व्यक्ति में है। इसलिए दिल पर निगरानी जरूरी है। गर्मी के मौसम से ज्यादा सर्दी के मौसम में हार्ट अटैक के मामले सामने आते हैं। इसलिए इस मौसम में ज्यादा सावधानी बरतनी चाहिए। आइए जानते हैं हार्ट अटैक क्यों आता है और सर्दी के मौसम में ये ज्यादा ट्रिगर क्यों करता है। इसके लक्षण भी जानते हैं ताकि वक्त रहते जिंदगी बच सके।

क्यों आता है हार्ट अटैक

Subscribe to get breaking news alerts

हार्ट अटैक तब आता जब अचानक हृदय  को रक्त मिलना बंद हो जाता है। यानी ब्लड की आपूर्ति वहां बाधित हो जाती है। ऐसा इसलिए होता है कि हृदय की धमनियों में रुकावट आ जाती है। धमनियों में फैट्स या प्लाक के जमा होने से वो ब्लॉक हो जाती है। जब यह प्लाक फटता है, तो ब्लड क्लॉट बनता है जो धमनियों को ब्लॉक कर देता है जिसकी वजह से दिल तक रक्त नहीं पहुंचता और हार्ट अटैक का कारण बनता है।

सर्दी के मौसम में क्यों ज्यादा हार्ट अटैक आता है
दरअसल, सर्दी के मौसम में तापमान कम होता है जिसका असर दिल की सेहत पर पड़ता है। ठंड के मौसम में शरीर को गर्म रखने के लिए हार्ट को काफी मेहनत करनी पड़ती है। गातार ब्लड पम्प करने की वजह से रक्तवाहिकाएं सिकुड़ जाती हैं। जिसकी वजह से ब्लड प्रेशर का स्तर बढ़ने लगता है। जो रक्त वाहिकाओं को नुकसान पहुंचाता है। जिसकी वजह से दिल का दौरा पड़ने की आशंका होती है।

डायबिटीज पीड़ित को तो इस मौसम में ज्यादा सावधानी बरतनी चाहिए। डायबिटीज पेशेंट में  हार्ट अटैक का खतरा 60 से 70 फीसदी अधिक होता है।  दरअसल, हाई कोलेस्ट्रॉल शरीर की नलिकाओं में जमा हो जाता है जो दिल की बीमारी का खतरा बढ़ा देता है। आइए जानते हैं इसके लक्षण।

हार्ट अटैक के शुरुआती लक्षण

सीने में दर्द - कई बार लोग इसे एसिडिटी का दर्द मानकर अनदेखा कर देते हैं। जबकि यह हार्ट अटैक का संकेत हो सकता है। 
सीने का दर्द गले और जबड़े तक जाने लगे तो यह भी हार्ट अटैक का प्रारंभिक लक्षण हो सकता है।
नाक से अचानक खून निकलने लगे तो इसे भी गंभीरता से लेने की जरूरत है। यह भी हार्ट अटैक का लक्षण हो सकता है।
चक्कर के साथ पसीना आना और बेचैनी भी हार्ट अटैक के प्रारंभिक लक्षण हो सकते हैं।
सीने में जकड़न ,सांसों का तेजी से चलना, नब्ज कमजोर पड़ना अटैक के लक्षण होते हैं।

डॉक्टर की मानें तो ज्यादा व्यायाम, शोर, अचानक नींद से जगाना भी हार्ट अटैक का कारण बन जाते हैं।इसका शिकार बुजुर्ग से लेकर बच्चे तक हो सकते हैं। सर्दी के मौसम में इससे बचने के लिए कुछ उपाय कर सकते हैं-
-शरीर को गर्म रखें। 
-अगर आप ज्यादा काम कर रहे हैं तो बीच-बीच में ब्रेक लें।
-खूब पानी पिएं। डिहाइड्रेशन दिल की धड़कनों को बढ़ाने का काम करता है।
-सर्दी के मौसम में हार्ट का चेकअप जरूर कराते रहें।

और पढ़ें:

नए साल पर नई नवेली दुल्हन के साथ घूमने का बना रहे हैं प्लान, तो बिना वीजा इन देशों का करें रुख

कंगना रनौत की 'छोटी बहन' का फैशन देखकर, उर्फी जावेद के छूट जाएंगे पसीने