Asianet News HindiAsianet News Hindi

टाटा के लिए क्यों खास है 26 अगस्त... झारखंड के जमशेदपुर में आज ही के दिन रखी गई थी कंपनी की नींव

झारखंड के जमशेदपुर में स्थित टाटा स्टील की नींव आज ही के दिन यानि 26 अगस्त के दिन रखी। इसने ही देश को नई दिशा दी। 2 करोड़ की पूंजी से स्थापित की गई  यह कंपनी अब 115 सालों से देश-विदेश में अपना डंका बजा रही।

jamshedpur news 26 august special day for TATA steel this day it operation started in the city asc
Author
Jamshedpur, First Published Aug 26, 2022, 5:06 PM IST

जमशेदपुर (झारखंड). जमशेदपुर जिसका दूसरा नाम टाटानगर भी है, भारत के झारखंड राज्य का एक शहर है। । इससे पहले यह साकची नामक एक आदिवासी गाँव हुआ करता था।  26 अगस्त यानि आज का दिन टाटा के लिए काफी महत्व रखता है। 115 साल पहले आज ही के दिन कंपनी की आधारशिला झारखंड के जमशेदपुर में रखी गई। कंपनी की स्थापना 1907 में हुई। 1912 में कंपनी से उत्पादन होना शुरू हुआ। जमशेदपुर को आज भारत के सबसे प्रगतिशील औद्योगिक नगरों में  जाना जाता  है। 

1867 के इस दौरे ने कंपनी की रखी नींव
टाटा स्टील की स्थापना 1907 में हुई, लेकिन इसकी शुरूआत 1867 में ही हो गई थी। जब जेएन टाटा ने मैनचेस्टर का दौरा किया। उन्होंने थॉमस कार्लाइल के एक व्याख्यान में भाग लिया जहां कार्लाइल ने कहा, “जो देश लोहे पर नियंत्रण हासिल कर लेता है, वह जल्द ही सोने पर नियंत्रण हासिल कर लेता है”। इस कथन का जेएन टाटा पर गहरा प्रभाव पड़ा। उन्होंने भारत में एक स्टील मिल स्थापित करने का निर्णय लिया। 1899 में मेजर महोन ने एक रिपोर्ट में सिफारिश की कि भारत में इस्पात उद्योग को बढ़ावा दिया जाए। जमशेदजी टाटा ने 1902 में संयुक्त राज्य अमेरिका का दौरा किया। उन्होंने इंजीनियरों की फर्म – जूलियन कैनेडी, सहलिन एंड कंपनी लिमिटेड के प्रमुख से मुलाकात की और भारत में एक स्टील प्लांट स्थापित करने की इच्छा व्यक्त की। 24 फरवरी 1904 को पीएन बोस ने टाटा को रास्ता दिखाया। पत्र में मयूरभंज राज्य में उपलब्ध अच्छी गुणवत्ता वाले लोहे और झरिया में कोयले की उपलब्धता की बात कही गई है। 1905 में पेरिन और सीएम वेल्ड ने स्टील प्लांट कैसे खड़ा किया जाएगा, इस पर अपनी रिपोर्ट पेश की। सितंबर 1905 में मयूरभंज के महाराजा ने टाटा को पूर्वेक्षण लाइसेंस प्रदान किया। 1906 में एक आधिकारिक पत्र के माध्यम से भारत सरकार ने एक निश्चित अवधि के लिए स्टील खरीदने और कंपनी को उत्पादन शुरू करने में सक्षम बनाने वाली कोई अन्य सहायता प्रदान करने का वादा करके टाटा की मदद करने के अपने इरादे की घोषणा की। 

 करीब 2 करोड़ की पूंजी से रजिस्टर्ड हुई थी कंपनी
26 अगस्त 1907 को कंपनी 2 करोड़ 31 लाख 75 हजार रुपये की मूल पूंजी के साथ भारत में पंजीकृत हुई थी। इस दिन को अब टाटा स्टील के स्थापना दिवस के रूप में मनाया जाता है। 1908 में जमशेदपुर का निर्माण कार्य शुरू हुआ और स्टील का उत्पादन 16 फरवरी 1912 को शुरू हुआ। 

समाज कल्याण के कामों के लिए जाना जाता है कंपनी
समाज कल्याण हमेशा कंपनी के दिल में रहा है। टाटा ने अपने नागरिकों के जीवन की गुणवत्ता में सुधार के लिए साकची (अब जमशेदपुर) में सुविधाएं शुरू कीं। पहला अस्पताल 1908 में स्थापित किया गया था और शैक्षिक सुविधाओं का विकास समानांतर रूप से चला। बढ़ते हुए इस्पात संयंत्र को बनाए रखने के लिए शहर भी विकसित हुआ। प्रथम विश्व युद्ध के बाद स्टील की मांग में जबरदस्त कमी आई। सर दोराबजी टाटा ने आवश्यक बैंक ऋण सुरक्षित करने और कंपनी को जीवित रखने के लिए अपनी पत्नी के आभूषण सहित अपनी पूरी व्यक्तिगत संपत्ति गिरवी रख दी।

यह भी पढ़े- झारखंड की राजनीति हलचल पर एम पी निशिकांत दुबे का बड़ा बयान...तीन बसों से विधायकों को छत्तीसगढ़ ले जा रहा झामुमो

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios