Asianet News Hindi

सिंगल मदर के लिए आसान नहीं है बच्चे की देखभाल, अपनाएं ये 5 टिप्स

आजकल ऐसी महिलाओं की कोई कमी नहीं है जो सिंगल मदर हैं और साथ ही कामकाजी भी। ऐसी महिलाओं के लिए बच्चे की केयर करना एक बड़ी चुनौती होती है। 

Child care is not easy for single mother, follow these 5 tips MJA
Author
New Delhi, First Published May 30, 2020, 6:41 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

लाइफस्टाइल डेस्क। आजकल ऐसी महिलाओं की कोई कमी नहीं है जो सिंगल मदर हैं और साथ ही कामकाजी भी। कई महिलाएं तलाक और दूसरी वजहों से भी अकेली रहती हैं। ऐसी महिलाओं के लिए बच्चे की केयर करना एक बड़ी चुनौती होती है। बच्चे की देखरेख की जिम्मेदारी अकेले उनके कंधे पर आ जाती है। सिंगल मदर्स अगर कुछ खास बातों का ध्यान रखें तो उन्हें बच्चे की परवरिश में ज्यादा कठिनाई नहीं होगी। जानें कुछ टिप्स।

1. पॉजिटव रहें
एक सिंगल मदर दूसरी सारी जिम्मेदारियों को संभालते हुए बच्चे की केयर तभी ठीक से कर सकती है, जब वह पॉजिटिव रहे। पॉजिटिव एटिट्यूड रखने से चाहे जितनी भी बड़ी समस्या क्यों न हो, उसे दूर किया जा सकता है। इसलिए मुश्किल से मुश्किल वक्त में भी पॉजिटिव बने रहें। नेगेटिविटी से दूर रहने पर कई समस्याओं का खुद-ब-खुद समाधान हो जाता है।

2. प्रायोरिटी तय कर लें
किसी भी मां के लिए उसका बच्चा प्रायोरिटी लिस्ट में सबसे ऊपर होता है। इसलिए आप तय कर लें कि ऑफिस के काम के साथ बच्चे की देखभाल कैसे करेंगी। इसके लिए आप अपने जरूरी कामों की एक लिस्ट तैयार कर सकती हैं। इससे आपको सुविधा होगी।

3. पास-पड़ोस से सहायता लें
अगर आप अकेले परेशानी महसूस करती हैं तो पास-पड़ोस की अनुभवी महिलाओं से सहायता ले सकती हैं। आप किसी ऐसे ऑर्गनाइजेशन से भी जुड़ सकती हैं, जो सिंगल मदर्स के लिए काम करते हैं। आजकल ऐसी कई ऑनलाइन कम्युनिटीज भी हैं, जो सिंगल पेरेन्ट की मदद करती हैं।

4. बच्चे को दें समय
इस बात को ध्यान में रखें कि बच्चे को आपका ज्यादा से ज्यादा समय मिल सके। ऑफिस के काम के बाद आपको बच्चे के साथ ही समय बिताना चाहिए। दूसरों के भरोसे छोड़ देने से बच्चे में असुरक्षा की भावना पैदा होने लगती है। इससे आगे उनके विकास पर सही असर नहीं पड़ता है। बच्चों का मां से स्वाभाविक जुड़ाव होता है। उन्हें ऐसा नहीं महसूस होना चाहिए कि उनकी उपेक्षा हो रही है।

5. बच्चे की क्रिएटिविटी को बढ़ावा दें
हर बच्चा कुछ न कुछ ऐसा करता है, जिसमें उसकी क्रिएटिविटी झलकती है। अगर बच्चा कोई ड्रॉइंग बना रहा हो, या कोई चार्ट बना रहा हो तो आप उसमें रुचि लें। अगर आप उसके काम की थोड़ी प्रशंसा करेंगी तो उसका उत्साह बढ़ेगा। इसके अलावा, अगर बच्चा स्कूल जाता हो तो उसके होमवर्क में मदद करें और स्कूल की पढ़ाई के बारे में दोस्ताना तरीके से बातचीत करें। 

किसी ने किया शॉक्ड तो किसी ने रोंगटे खड़े कर दिया...क्लिक करके देखें ऐसे ही वीडियो...

कांच तोड़ चलती कार में कछुआ ने किया अटैक, देखें चौंकाने वाला वीडियो

अपने बेटे को मुसीबत में नहीं देख पाई ये मां, लगा दी जान ताकि बच पाए कलेजा का टुकड़ा

समुद्र किनारे बहती हुई आई 40 फीट के 'दानव' की लाश, हटाने में छूटे पसीने

जन्म के तुरंत बाद मिट्टी में दफनाया जिंदा नवजात, रोने की आवाज से मिली जिंदगी

कोरोना के कारण कोमा में चली गई थी प्रेग्नेंट महिला लेकिन...


 

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios