नई दिल्ली. एक बुजुर्ग निशानेबाज, एक पुजारी, एक जासूस और एक योद्धा राजकुमारी, ये कुछ ऐसी प्रेरणादायक महिलाएं हैं, जिनकी कहानी एक नई किताब “गर्ल पावर : इंडियन वुमन हू ब्रोक दि रूल” में पढ़ने को मिलेंगी। नेहा जे हीरानंदानी द्वारा लिखी गई इस किताब में 50 नामचीन महिलाओं के संघर्ष और उपलब्धियों की कहानी है। नीलोफर वाडिया ने इस किताब के लिए रेखाचित्र बनाए हैं।

पी.वी. सिंधू, प्रियंका चोपड़ा की कहानी भी है शामिल 
किताब के प्रकाशक स्कॉलैस्टिक द्वारा जारी एक बयान में बताया गया है, “उनकी कहानियां सभी को ये सिखाएंगी कि वे अपने सपनों को कैसे सच कर सकते हैं।” इस किताब में ओलम्पिक पदक विजेता पीवी सिंधू जैसी समसामयिक महिला को शामिल किया गया है और साथ ही चौटा वंश की योद्धा रानी अब्बाका जैसी ऐतिहासिक हस्ती भी शामिल हैं, जिन्होंने पुर्तगालियों को छह बार हराया। इस सूची में प्रियंका चोपड़ा को जगह मिली है, तो असली जीवन में नायिका सुभाषिनी मिस्त्री भी इसमें शामिल हैं, जिन्होंने स्वास्थ्य देखभाल के क्षेत्र में पदम भूषण पाने से पहले नौकरानी का काम किया। 

रिवॉल्वर दादी की कहानी है खास 
इसमें एक बुजुर्ग निशानेबाज चंद्रो तोमर भी शामिल हैं, जिन्हें लोग ‘रिवॉल्वर दादी’ के नाम से जानते हैं। इसमें कहा गया, “तारणहार का इंतजार करने के बजाए इस संग्रह में ऐसी महिलाओं का गुणगान किया गया है, जिन्होंने अपनी कहानी का नायक खुद बनने का निर्णय किया और अपना भाग्य खुद लिखा, उन्होंने अपने हाथ गंदे होने या धारा के विपरीत बहने की चिंता नहीं की।”

(यह खबर न्यूज एजेंसी पीटीआई भाषा की है। एशियानेट हिंदी की टीम ने सिर्फ हेडलाइन में बदलाव किया है।)