Asianet News HindiAsianet News Hindi

कैसा लॉकडाउन..पिता की अर्थी को कंधा नहीं दे सका बेटा, चीखते रहे फिर भी नहीं निकाल सके अंतिम यात्रा

कोरोना वायरस से निटपने के लिए सरकार ने पूरे देश में लॉकडाउन कर दिया है। आलम यह है कि लोग अपने परिजनों के अंतिम संस्कार करने के लिए अंतिम यात्रा भी नहीं निकल पा रहें हैं। 

coronavirus lockdown sons could not last journey father and funeral kpr
Author
Raisen, First Published Mar 31, 2020, 6:00 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

रायसेन (मध्य प्रदेश). कोरोना वायरस से निटपने के लिए सरकार ने पूरे देश में लॉकडाउन कर दिया है। आलम यह है कि लोग अपने परिजनों के अंतिम संस्कार करने के लिए अंतिम यात्रा भी नहीं निकल पा रहें हैं। ऐसा ही एक मामला मध्य प्रदेश में सामने आया।

बेटे पिता की अर्थी को नहीं दे सके कंधा
दरअसल, रायसेन शहर में सोमवार के दिन एक शिक्षा विभाग में कर्मचारी अशोक शर्मा की कैंसर की बीमारी के चलते निधन हो गया। घरवालों के सामने यह समस्या थी कि वह उनका अंतिम संस्कार कैसे करें। क्योंकि शहर में चार लोग एक साथ घर से बाहन नहीं निकल सकते।  घरवाले और कॉलोनी के लोग शवयात्रा निकालना चाहते थे लेकिन प्रशासन ने इसकी अनुमति नहीं दी।

सिर्फ 4 लोगों ने किया अंतिम संस्कार
आखिर में पुलिस ने मृतक परिवार के घर पहुंचकर स्वास्थ्य विभाग की टीम को बुलाया। इसके बाद डॉक्टरों की टीम ने शव को सैनिटाइज कर पैक किया। फिर शव को श्मशान घाट ले जाया गया। जहां महज परिवार के 4 लोगों की मौजदूगी में अंतिम संस्कार किया गया।
 

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios