मुंबई. आईपीएल में सिलेक्शन नहीं होने के बाद डिप्रेशन में आए एक उभरते क्रिकेटर ने सोमवार रात फांसी लगाकर अपनी जान दे दी। मरने से पहले क्रिकेटर करण तिवारी ने उदयपुर में रहने वाले अपने बेस्ट फ्रेंड को फोन करके इसकी जानकारी दी थी। दोस्त ने उसे बहुत समझाया, लेकिन उसने एक नहीं सुनी। करण को उनके प्रशंसक साउथ अफ्रीका के बॉलर जूनियर डेल स्टेन के नाम से पुकारते थे।

फ्लैट में पंखे से लटका मिला 27 साल का क्रिकेटर
27 साल का करण तिवारी मलाड स्थित फ्लैट में रहता था। उसने सोमवार रात 10-11 बजे के बीच पंखे पर फंदा बनाकर फांसी लगा ली। पुलिस ने मामला दर्ज कर जांच शुरू कर दी है। प्रांरभिक पड़ताल में सामने आया है कि करण का 19 सितंबर को यूएई में शुरू हो रहे आईपीएल में सिलेक्शन नहीं हो सका था। इसके बाद से वो परेशान था। मरने से पहले उसने उसने अपने दोस्त को फोन करके अपनी पीड़ा बांटी थी। दोस्त की समझाइश के बाद भी करण नहीं रुका। इसके बाद दोस्त ने करण की मां और बहन को फोन करके इस बारे में बताया। जब तक कोई उसके रूम तक पहुंचता, करण फांसी पर झूल चुका था। परिजन उसे फंदे से उताकर उतारकर हास्पिटल ले गए, लेकिन उसे बचाया नहीं जा सका।