Asianet News HindiAsianet News Hindi

सावरकर पर अब PM मोदी भी बोले- उनके संस्कार ही राष्ट्र निर्माण का आधार हैं

महाराष्ट्र के अकोला में एक रैली को संबोधित करते हुए पीएम मोदी ने आर्टिकल 370 को पर आपत्ति जताने वाले विपक्षी दलों को ‘बेशर्म’ तक कह डाला।

pm modi speak on vd savarkars sanskar at akola rally in maharashtra
Author
Akola, First Published Oct 16, 2019, 3:48 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

मुंबई. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बुधवार को कहा कि हिंदुत्व विचारक विनायक दामोदर सावरकर के मूल्य राष्ट्र-निर्माण का आधार हैं। हाल में सावरकर को भारत रत्न से सम्मानित करने की घोषणा के बाद से इस मुद्दे पर चर्चा बनी हुई है। जिस पर अब पीएम मोदी ने अपना पक्ष रखा है। मोदी के यह बयान देने से एक दिन पहले ही भाजपा ने 21 अक्टूबर को होने वाले महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव के लिए अपने घोषणा पत्र में सावरकर को भारत का सर्वोच्च नागरिक सम्मान भारत रत्न दिए जाने की मांग उठाई थी। मोदी ने राज्य के अकोला जिले में एक चुनावी रैली को संबोधित करते हुए इस बात पर भी अफसोस जताया कि बी आर आम्बेडकर को दशकों तक भारत रत्न से वंचित रखा गया। 

सबको बता दूं कि जम्मू कश्मीर के लोग भी मां भारती की संतान हैं

मोदी ने कहा, ‘यह सावरकर के संस्कार ही हैं कि हमने राष्ट्रवाद को राष्ट्र निर्माण के मूल में रखा है। उन्होंने आर्टिकल 370 को निरस्त करने के मामले पर आपत्ति जताने वाले विपक्षी दलों को आड़े हाथों लेते हुए उन्हें ‘बेशर्म’ तक कह डाला।

मोदी ने कहा, ‘कुछ लोग राजनीतिक लाभ के लिए खुलकर यह कह रहे हैं कि आर्टिकल 370 का महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव से कोई लेना देना नहीं है, जम्मू-कश्मीर का महाराष्ट्र से कोई लेना देना नहीं है। मैं इस प्रकार के लोगों को बताना चाहता हूं कि जम्मू-कश्मीर और उसके लोग भी मां भारती की ही संतान हैं।’ उन्होंने कहा, ‘वे यह कैसे पूछ सकते हैं कि अनुच्छेद 370 के अधिकतर प्रावधान हटाने से महाराष्ट्र का क्या लेना-देना है? उन्होंने कांग्रेस-राकांपा गठबंधन को ‘भ्रष्ट गठबंधन’करार देते हुए कहा कि वह महाराष्ट्र को एक दशक पीछे ले गया।

मोदी ने कहा, ‘‘एक समय था, जब महाराष्ट्र में आतंकवाद एवं घृणा की घटनाएं अकसर होती रहती थीं। अपराधी बच निकलते थे और अन्य देशों में जाकर बस जाते थे। भारत उस समय सत्ता पर काबिज रहे लोगों से यह पूछना चाहता है कि यह सब कैसे हुआ? वे कैसे बच निकले?’

(यह खबर समाचार एजेंसी भाषा की है, एशियानेट हिंदी टीम ने सिर्फ हेडलाइन में बदलाव किया है।)

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios