अंकित के कपड़े उतरवाए, फिर 400 बार मारे चाकू...आरोपी ने बताया, हत्या के बाद भाई और भाभी को किया था फोन

| Mar 13 2020, 07:37 AM IST

अंकित के कपड़े उतरवाए, फिर 400 बार मारे चाकू...आरोपी ने बताया, हत्या के बाद भाई और भाभी को किया था फोन

सार

दिल्ली हिंदा के दौरान आईबी में काम करने वाले अंकित की मौत पर बड़ा खुलासा हुआ है। पुलिस ने हत्या के मामले में हसीन उर्फ सलमान को गिरफ्तार किया है। चौंकाने वाली बात यह है कि हसीन ने पूछताछ में बताया कि अंकित की हत्या कैसे हुई।

नई दिल्ली. दिल्ली हिंदा के दौरान आईबी में काम करने वाले अंकित की मौत पर बड़ा खुलासा हुआ है। पुलिस ने हत्या के मामले में हसीन उर्फ सलमान को गिरफ्तार किया है। चौंकाने वाली बात यह है कि हसीन ने पूछताछ में बताया कि अंकित की हत्या कैसे हुई। पुलिस के मुताबिक, अंकित के कपड़े उतरवाए गए। फिर उसकी हत्या की गई। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, अंकित के शरीर पर 400 बार चाकू से वार किया गया।

23 फरवरी की दोपहर 2 बजे मैसेज मिला
पुलिस के मुताबिक, हसीन ने बताया कि 23 फरवरी की दोपहर को उन्हें करीब 2 बजे व्हाट्सएप पर मैसेज मिला, जिसके मुताबिक, उत्तर पूर्वी दिल्ली में दंगे शुरू हो गए हैं। उन्हें चांद बाग पहुंचने के लिए कहा गया। इसके बाद हसीन अपने एक साथी के साथ बस के जरिए खजूरी चौक पहुंचा। इसके बाद ताहिर के घर पहुंचा।

Subscribe to get breaking news alerts

24-25 फरवरी को ताहिर के घर पर मचाया था उपद्रव
पुलिस ने हसीन से पूछताछ के हवाले से बताया कि, हसीन अपने कुछ साथियों के साथ 24-25 फरवरी को ताहिर हुसैन के घर पहुंचा। इसके बाद पथवार किया गया। पत्थरबाजी करीब दो दिन तक की गई। पुलिस को शक है कि कहीं अंकित शर्मा की हत्या में ताहिर हुसैन का हाथ तो नहीं।

हसीन ने भाई-भाभी को कॉल कर बताई हत्या की बात
पुलिस को यह भी जानकारी मिली है कि हसीन ने वारदात को अंजाम देने के बाद अपने भाई और भाभी को कॉल कर इसकी जानकारी दी। पुलिस को दो फोन कॉल मिले हैं, जिसमें यह जानकारी मिल रही है कि हसीन इन दंगों में शामिल था। कॉल पर अपने भाई और भाभी से बात करते हुए हसीन ने दंगों के दौरान हत्या की बात कही।

कब शुरू हुई थी दिल्ली हिंसा?
दिल्ली के उत्तर-पूर्वी इलाके में 23 फरवरी (रविवार) की शाम से हिंसा की शुरुआत हुई। इसके बाद 24 फरवरी पूरे दिन और 25 फरवरी की शाम तक आगजनी, पत्थरबाजी और हत्या की खबरें आती रहीं। हिंसा में 52 लोगों की मौत हो गई। मरने वालों में एक हेड कॉन्स्टेबल और एक आईबी का कर्मचारी भी शामिल है।