Asianet News Hindi

मोदी के फैसले की आलोचना करने वाली ब्रिटिश सांसद का वीजा रद्द, दिल्ली से वापस भेजा गया दुबई

भारत सरकार ने उनके इस आरोप का खंडन करते हुए कहा कि उन्हें  सूचना दे दी गई थी कि उनका ई-वीजा रद्द कर दिया गया है। लेबर पार्टी की सांसद एवं कश्मीर पर सर्वदलीय संसदीय दल की अध्यक्ष डेब्बी अब्राहम ने एक बयान में कहा कि सोमवार सुबह वह दिल्ली पहुंची और उन्हें बताया गया कि उनका ई-वीजा रद्द कर दिया गया है, जो अक्टूबर 2020 तक वैध था।

After the cancellation of the visa, the chairman of the parliamentary party going to Kashmir was stopped at Delhi Airport kpm
Author
New Delhi, First Published Feb 17, 2020, 6:21 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

नई दिल्ली. जम्मू कश्मीर के विशेष दर्जे को वापस लेने के भारत के कदम की आलोचक रहीं एक ब्रिटिश सांसद ने सोमवार को दावा किया कि यहां हवाई अड्डे पर उतरने के बाद उनके पास वैध वीजा होने के बावजूद उन्हें भारत में प्रवेश नहीं करने दिया गया और उन्हें दुबई भेज दिया गया जहां से वह दिल्ली गयी थीं।

लेबर पार्टी की सांसद डेब्बी अब्राहम के इस दावे का कि उनके पास वैध वीजा था, केंद्रीय गृह मंत्रालय ने खंडन किया और कहा कि उन्हें (पहले ही) सूचना दे दी गई थी कि उनका ई-वीजा रद्द कर दिया गया है। कश्मीर पर आल पार्टी पार्लियामेंटरी ग्रुप की अध्यक्ष अब्राहम ने कहा कि वह अपने परिवार और दोस्तों से मिलने वैध ई वीजा पर यात्रा कर रही थीं लेकिन बिना कारण बताये उनका वीजा रद्द कर दिया गया।

गृह मंत्रालय ने कहा, हमने ब्रिटिश सांसद को समुचित जानकारी दी थी

गृह मंत्रालय के प्रवक्ता ने दिल्ली में कहा कि ब्रिटिश सांसद को समुचित ढंग से सूचना दे दी गई थी कि उनका वीजा रद्द कर दिया गया है और इस बात की जानकारी होने के बावजूद वह दिल्ली आईं। इस संबंध में संपर्क करने पर अब्राहम ने कहा कि उन्हें ‘13 फरवरी से पहले कोई मेल नहीं मिला था’। उन्होंने कहा कि उसके बाद से वह यात्रा पर हैं और अपने कार्यालय से दूर हैं। ब्रिटेन में उनके कार्यालय ने इस बात की पुष्टि की कि वह दुबई जाने वाले एक विमान में बिठा दिया गया जहां से वह सोमवार को दिल्ली पहुंची थीं। बताया जाता है कि अब्राहम का ई-वीजा अक्टूबर में जारी किया गया था और वह अक्टूबर 2020 तक वैध था।

सांसद ने कहा दिल्ली पहुंचने पर उन्हें पता चला की उनका वीजा रद्द कर दिया गया है

दिल्ली के इंदिरा गांधी अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे के अपने अनुभव को याद करते हुए उन्होंने ट्वीट किया कि सोमवार सुबह वह यहां पहुंची थीं और उन्हें बताया गया कि उनका ई वीजा रद्द कर दिया गया है। ब्रिटिश सांसद ने कहा कि वह अपने दस्तावेजों और ई-वीजा के साथ आव्रजन डेस्क के सामने पेश हुईं। उन्होंने कहा, ‘‘... अधिकारी ने अपनी स्क्रीन पर देखा और अपना सिर हिलाने लगा। उन्होंने मुझसे कहा कि मेरा वीजा रद्द कर दिया गया है, उन्होंने मेरा पासपोर्ट ले लिया और करीब दस मिनट तक वह गायब हो गये।’’

रोके जाने पर ब्रिटिस सांसद ने क्या कहा ?

उन्होंने कहा, ‘‘ जब वह लौटे तो बड़े बदमिजाज और आक्रामक थे, उन्होंने मुझपर चिल्लाते हुए कहा, ‘मेरे साथ आइए।’ मैंने उनसे कहा कि मेरे साथ इस तरह बात मत कीजिए । तब मुझे एक घिरे हुए क्षेत्र में ले गये जिसका ‘‘डिपोर्टी सेल’’ नाम दिया गया था। उन्होंने  मुझे बैठने का आदेश दिया और मैंने मना कर दिया। मुझे नहीं पता था कि वे क्या करेंगे या वे मुझे कहां ले जायेंगे इसलिए मैं चाहती थी कि लोग मुझे देखें।’’  ब्रिटिश सांसद ने कहा कि बाद में कई अधिकारी उनके पास आये लेकिन उनमें से किसी को पता नहीं था कि उनका वीजा क्यों रद्द किया गया।

अब्राहम के रोके जाने पर कांग्रेस ने खड़े किए सवाल

अब्राहम को वापस भेजे जाने पर कांग्रेस सांसद शशि थरूर ने कहा कि यदि सरकार यह दावा करती है कि कश्मीर में स्थिति सामान्य है तो वह आलोचकों से क्यों डरी हुई है।

उन्होंने ट्वीट किया, ‘‘ ब्रिटिश सांसद, जिन्होंने जम्मू कश्मीर पर सरकार की आलोचना की, पर प्रतिक्रिया स्वरूप उन्हें हवाई अड्डे पर रोक दिया गया : यह आचरण एक लोकतंत्र के लिए वाकई शोभनीय है ।’’ अब्राहम उन सांसदों में एक हैं जिन्होंने पिछले साल अगस्त में अनुच्छेद 370 के तहत जम्मू कश्मीर को प्राप्त विशेष राज्य के दर्जे को वापस लिये जाने के बाद औपचारिक पत्र जारी किये थे।

विपक्षी सांसद ने उस समय ब्रिटेन के विदेश मंत्री डोमनिक राब को पत्र लिखकर कहा था, ‘‘ हम भारत के गृह मंत्री अमित शाह के इस ऐलान से बहुत चिंतिंत हैं कि जम्मू कश्मीर को विशेष दर्जा देने से संबंधित भारतीय संविधान के अनुच्छेद 370 को राष्ट्रपति के आदेश द्वारा हटा दिया गया।’’
 

(यह खबर समाचार एजेंसी भाषा की है, एशियानेट हिंदी टीम ने सिर्फ हेडलाइन में बदलाव किया है।)

(फाइल फोटो)

 

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios