नई दिल्ली. महाराष्ट्र में चुनाव तारीखों के ऐलान के बाद गृहमंत्री अमित शाह ने पहली बार महाराष्ट्र का दौरा किया। उन्होंने मुंबई में एक सभा को भी संबोधित किया। इस दौरान शाह ने जम्मू-कश्मीर को लेकर देश के पहले प्रधानमंत्री जवाहर लाल नेहरू और कांग्रेस नेता राहुल गांधी पर निशाना साथा। 

शाह ने कहा, राहुल गांधी कहते हैं कि आर्टिकल 370 राजनीतिक मुद्दा है। राहुल बाबा, आप अभी राजनीति में आए हैं। लेकिन भाजपा की तीन पीढ़ियों ने इस मुद्दे को लेकर अपनी जानें गंवाई हैं। यह हमारे लिए राजनीतिक मुद्दा नहीं है। यह भारत माता को अविभाजित रखने के लक्ष्य का हिस्सा है।

गृह मंत्री ने कहा, 1947 में अगल जवाहर लाल नेहरू सीजफायर का ऐलान नहीं करते तो पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर का कोई मुद्दा ही नहीं होता। उस वक्त हमारी सेना जम्मू-कश्मीर में पाकिस्तानी घुसपैठियों से मजबूती से लड़ रही थी। 

महाराष्ट्र में दो तरह की पार्टियां
शाह ने कहा, महाराष्ट्र चुनाव में दो तरह की पार्टियां चुनाव के मैदान में हैं। एक ओर भारत मां को अपना सर्वस्व मानने वाली पार्टी भाजपा है और दूसरी ओर अपने परिवारों को अपना सर्वस्व मानने वाली कांग्रेस और एनसीपी। अब महाराष्ट्र की जनता को तय करना है कि उन्हें राष्ट्रवादी पार्टी के साथ जाना है या परिवारवादी पार्टियों के साथ जाना है।

पीएम मोदी की बहादुरी को नमन- शाह
अमित शाह ने कहा कि मैं प्रधानमंत्री की बहादुरी और धैर्य के लिए उन्हें बधाई देता हूं। उन्होंने सरकार बनने के बाद पहले ही सत्र में धारा 370 और 35ए को हटा दिया।