Asianet News HindiAsianet News Hindi

मायावती से केजरीवाल तक: अयोध्या पर सुप्रीम कोर्ट के फैसले को लेकर नेताओं ने क्या कहा?

आम आदमी पार्टी के नेता और दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने रामजन्म भूमि-बाबरी मस्जिद मामले पर उच्चतम न्यायालय के फैसले का स्वागत करते हुए ट्वीट किया, ‘‘सभी पक्षों की दलीलें सुनने के बाद उच्चतम न्यायालय की पीठ के पांचों न्यायाधीशों ने एकमत से आज अपना निर्णय दिया। 

ayodhya decision arvind kejariwali akhilesh yadav priyanka gandhi mayawati political leaders reactions
Author
New Delhi, First Published Nov 9, 2019, 1:59 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

मुंबई/जयपुर/भोपाल. अयोध्या मामले में सुप्रीम के फैसले के बाद राजनीतिक दलों की प्रतिक्रियाएं आने लगी हैं। नेताओं ने अपने बयान में सुप्रीम कोर्ट के फैसले का सम्मान करते हुए लोगों से शांति और सौहार्द्र बनाए रखने की अपील की है। कांग्रेस, राकांपा से लेकर आम आदमी  पार्टी के नेताओं ने बयान जारी किए हैं।

मायावती ने क्या कहा?

बसपा सुप्रीमो और यूपी की पूर्व मुख्यमंत्री मायाती ने ट्वीट ने ट्वीट कर शांति और सौहार्द्र बनाए रखने की अपील की। उन्होंने ट्वीट में लिखा, "परमपूज्य बाबासाहेब डा. भीमराव अम्बेडकर के धर्मनिरपेक्ष संविधान के तहत माननीय सुप्रीम कोर्ट द्वारा रामजन्मभूमि-बाबरी मस्जिद भूमि विवाद के सम्बंध में आज आम सहमति से दिए गए ऐतिहासिक फैसले का सभी को सम्मान करते हुए अब इसपर सौहार्दपूर्ण वातावरण में ही आगे का काम होना चाहिए। ऐसी अपील व सलाह।

कांग्रेस वर्किंग कमेटी ने कहा- फैसले का सम्मान

कांग्रेस की सर्वोच्च नीति निर्धारण इकाई कांग्रेस कार्य समिति (सीडब्ल्यूसी) ने एक बयान में कहा, 'भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस अयोध्या मामले में उच्चतम न्यायालय के निर्णय का सम्मान करती है। ' पार्टी ने कहा, 'हम सभी संबंधित पक्षों और सभी समुदायों से निवेदन करते हैं कि वे भारत के संविधान में स्थापित ‘‘सर्वधर्म समभाव’’ तथा भाईचारे के उच्च मूल्यों को निभाते हुए अमन-चैन का वातावरण बनाए रखें। ' उसने आह्वान किया, "हर भारतीय की जिम्मेदारी है कि हम सब देश की सदियों पुरानी परस्पर सम्मान और एकता की संस्कृति एवं परंपरा को जीवंत रखें।'

केजरीवाल ने फैसले का किया स्वागत

आम आदमी पार्टी के नेता और दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने रामजन्म भूमि-बाबरी मस्जिद मामले पर उच्चतम न्यायालय के फैसले का स्वागत करते हुए ट्वीट किया, ‘‘सभी पक्षों की दलीलें सुनने के बाद उच्चतम न्यायालय की पीठ के पांचों न्यायाधीशों ने एकमत से आज अपना निर्णय दिया। हम उच्चतम न्यायालय के फैसले का स्वागत करते हैं। कई दशकों के विवाद पर आज उच्चतम न्यायालय ने निर्णय दिया। वर्षों पुराना विवाद आज खत्म हुआ। मेरी सभी लोगों से अपील है कि शांति एवं सौहार्द बनाए रखें।’’

कांग्रेस के अशोक गहलोत ने बताया ऐतिहासिक फैसला

राजस्थान के मुख्यमंत्री और दिग्गज कांग्रेसी नेता अशोक गहलोत ने कहा कि आज के दिन जो फैसला आया है, सभी को उसका स्वागत करना चाहिए। उन्होंने कहा, ‘‘यह ऐतिहासिक फैसला है और हम शांति एवं सद्भाव की अपील करते हैं।’’

एमपी के सीएम ने कहा- सभी मिलकर फैसले का सम्मान करें

मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ ने ट्वीट में कहा, ‘‘अयोध्या मामले पर फैसला आ चुका है। एक बार फिर आपसे अपील करता हूं कि उच्चतम न्यायालय के इस फैसले का हम सभी मिलजुलकर सम्मान एवं आदर करें। किसी प्रकार के उत्साह, जश्न और विरोध का हिस्सा ना बनें। अफवाहों से सावधान एवं सजग रहें। किसी भी प्रकार के बहकावे में ना आएं।’’

राकांपा के नवाब मलिक ने कहा- फैसला स्वीकार

राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी के प्रवक्ता नवाब मलिक ने कहा कि उच्चतम न्यायालय के फैसले को स्वीकार किया जाए। मलिक ने ट्वीट किया, ‘‘शुरू से हमारा रुख रहा है कि हम उच्चतम न्यायालय के फैसले को स्वीकार करेंगे और सभी को इसे कबूल करना चाहिए। उम्मीद है कि देश में धर्म के नाम पर कोई विवाद नहीं आएगा।’’

प्रियंका गांधी वाड्रा ने क्या कहा ? 

कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने फैसले के बाद सौहार्द्र और भाईचारा बनाए रखने की अपील की है। प्रियंका ने ट्वीट कर कहा, ‘‘अयोध्या मुद्दे पर भारत की सर्वोच्च अदालत ने फैसला दिया है। सभी पक्षों, समुदायों और नागरिकों को इस फ़ैसले का सम्मान करते हुए हमारी सदियों से चली आ रही मेलजोल की संस्कृति को बनाए रखना चाहिए। हम सबको एक होकर आपसी सौहार्द और भाईचारे को मजबूत करना होगा।’’

(यह खबर समाचार एजेंसी भाषा की है, एशियानेट हिंदी टीम ने सिर्फ हेडलाइन में बदलाव किया है)

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios