Asianet News HindiAsianet News Hindi

नाटक के जरिए दिखाया कैसे टूटी थी बाबरी मस्जिद, पुलिस ने दर्ज किया मामला

कर्नाटक के दक्षिण कन्नड़ जिले के बंतवाल के निकट एक विद्यालय प्रबंधन के पांच सदस्यों के खिलाफ छात्रों द्वारा संस्था के वार्षिक खेल दिवस के दौरान कथित रूप से बाबरी ढांचा विध्वंस का नाट्य रूपांतरण दिखाने पर मामला दर्ज किया गया है। 

Babri Masjid demonstration was shown through drama, police filed case against 5 KPB
Author
Bengaluru, First Published Dec 17, 2019, 4:23 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

बेंगलुरु. कर्नाटक के दक्षिण कन्नड़ जिले के बंतवाल के निकट एक विद्यालय प्रबंधन के पांच सदस्यों के खिलाफ छात्रों द्वारा संस्था के वार्षिक खेल दिवस के दौरान कथित रूप से बाबरी ढांचा विध्वंस का नाट्य रूपांतरण दिखाने पर मामला दर्ज किया गया है। पुडुचेरी की उप राज्यपाल किरन बेदी और केंद्रीय उर्वरक एवं रसायन मंत्री डी वी सदानंद गौड़ा समेत कई गणमान्य लोग रविवार को हुए इस कार्यक्रम में मौजूद थे।

तटीय शहर मेंगलुरु से करीब 30 किलोमीटर दूर कल्लाडका में श्री राम विद्या मंदिर का संचालन करने वाले राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के नेता कल्लाडका प्रभाकर भट और चार अन्य के खिलाफ भारतीय दंड संहिता की धारा 295 (ए) और 298 (धार्मिक भावनाएं आहत करने) के तहत मामला दर्ज किया गया है। पुलिस ने यह कार्रवाई इसी इलाके में रहने वाले पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया के नेता अबुबकर सिद्दीक की शिकायत पर की है। दक्षिण कन्नड जिले के पुलिस अधीक्षक बी. एम. लक्ष्मी प्रसाद ने बताया, “पीएफआई कार्यकर्ता से शिकायत मिलने के बाद हमने विद्यालय प्रबंधन से जुड़े पांच लोगों के खिलाफ कार्रवाई की। जांच जारी होने की वजह से हमने अभी किसी को गिरफ्तार नहीं किया है। करीब आधे मिनट का एक वीडियो है जिसके आधार पर शिकायत दर्ज की गई है। हम साक्ष्य जुटा रहे हैं।”

किरन बेदी ने ट्वीट कर इस कार्यक्रम की और छात्रों के प्रदर्शन की सराहना की थी। उन्होंने कहा कि इन बच्चों को नयी दिल्ली में गणतंत्र दिवस समारोह के दौरान अपनी प्रतिभा दिखाने का मौका मिलना चाहिए। सोशल मीडिया पर इस कार्यक्रम को लेकर तीखी प्रतिक्रिया होने पर भट ने कार्यक्रम का बचाव करते हुए कहा कि यह इतिहास के प्रकरण के बारे में जागरूकता और देशभक्ति की भावना के प्रसार का प्रयास था।

उन्होंने कहा कि छात्र हर साल वार्षिक समारोह के लिये एक प्रासंगिक विषय चुनते हैं और इस बार उच्चतम न्यायालय के फैसले के मद्देनजर उन्होंने अयोध्या का मुद्दा चुना।

(यह खबर समाचार एजेंसी भाषा की है, एशियानेट हिंदी टीम ने सिर्फ हेडलाइन में बदलाव किया है।) 
 

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios