Asianet News HindiAsianet News Hindi

भाजपा नेता ने कहा- गाय के दूध में सोना है, यह सुन गायों को लेकर बैंक पहुंचा शख्स कहा, मुझे गोल्ड लोन चाहिए

पश्चिम बंगाल के भाजपा प्रमुख दिलीप घोष ने अपने सनसनीखेज सिद्धांत से बंगाल के दनकुनी इलाके से एक चौंका देने वाला मामला सामने आया है। जिसमें एक व्यक्ति दो गायों को लेकर मणप्पुरम फाइनेंस लिमिटेड की शाखा पहुंच गया और फाइनेंस कंपनी से गोल्ड लोन मांगने लगा। जिसके बाद से सभी गाय पालक गायों के बदले लोन लेने की कवायद कर रहे हैं। 

Bengal man wants gold loan against cows after Dilip Ghosh's 'gold in milk' theory
Author
Kolkata, First Published Nov 7, 2019, 5:27 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

दनकुनी/कोलकाता. पश्चिम बंगाल के दनकुनी इलाके से एक चौंका देने वाला मामला सामने आया है। जिसमें एक व्यक्ति दो गायों को लेकर मणप्पुरम फाइनेंस लिमिटेड की शाखा पहुंच गया और फाइनेंस कंपनी से लोन मांगने लगा। हैरान करने वाली बात यह है कि उस व्यक्ति ने दोनों गायों के बदले कंपनी से गोल्ड लोन देने की मांग करने लगा। दरअसल उसने यह कारनामा तब किया जब इस बात कि हवा फैली कि गाय के दूध में सोना होता है। उसके बाद व्यक्ति ने गायों के बदले में लोन पास करने की बात कही है। 

भाजपा नेता ने दी थी थ्योरी 

पश्चिम बंगाल के भाजपा प्रमुख दिलीप घोष ने अपने सनसनीखेज सिद्धांत से इस विवाद को हवा दे दी कि भारतीय गायों द्वारा उत्पादित दूध में सोना होता है। जिसके बाद व्यक्ति ने गायों के बदले लोन लेने पहुंच गया।  स्थानीय मीडिया ने व्यक्ति से जब इस बारे में बात की तो कहा, "मैं गोल्ड लोन के लिए यहां आया हूं और इसलिए मैं अपनी गायों को अपने साथ लाया हूं। मैंने सुना है कि गाय के दूध में सोना होता है। मेरा परिवार इन गायों पर निर्भर करता है। मेरे पास 20 गायें हैं और अगर मुझे कर्ज मिल जाए तो मैं अपने व्यवसाय का विस्तार कर सकूंगा। '' गरलगाचा ग्राम पंचायत के प्रधान मनोज सिंह ने कहा कि दिलीप घोष के दावा करने के बाद, हर रोज लोग गायों के साथ उनके पास आते हैं और पूछते हैं कि उन्हें अपनी गायों को कितना ऋण मिलना चाहिए।

दिलीप घोष को मिलना चाहिए नोबेल 

प्रधान ने कहा, "दिलीप घोष को उनके द्वारा किए गए गाय के दूध में सोना होने के दावे के लिए नोबेल पुरस्कार मिलना चाहिए। हर दिन लोग गायों के साथ मेरी पंचायत में आ रहे हैं और मुझसे पूछ रहे हैं कि वे गायों के खिलाफ कितना ऋण ले सकते हैं। वे कहते हैं कि उनकी गाय प्रतिदिन 15-16 लीटर दूध का उत्पादन करती हैं, इसलिए उन्हें ऋण मिलना चाहिए। "

यब कहा था घोष ने 

बर्दवान जिले में आयोजित एक कार्यक्रम के दौरान बीजेपी प्रमुख घोष ने कहा, "भारतीय (देसी) गाय की एक विशेषता यह है कि इसके दूध में सोना होता है। यही कारण है कि दूध का रंग पीला होता है।" अपने भाषण के दौरान, घोष ने अपने सिद्धांत के पीछे के कारण को भी सही ठहराया और कहा, "भारतीय गायों के पास कूबड़ होते हैं, जो विदेशी गायों के पास नहीं होते। विदेशी गाय की पीठ भैंस की तरह सीधी होती है। कूबड़ में एक धमनी होती है," स्वर्णनारी (सोने की धमनी)  जिसे 'कहा जाता है। जब सूरज की रोशनी इस पर पड़ती है, तो सोना बन जाता है। " "तो बनावट पीला या सुनहरा हो जाता है। इस दूध में निवारक गुण होते हैं। एक व्यक्ति केवल इस तरह के दूध पर रह सकता है। आपको कुछ और खाने की ज़रूरत नहीं है। यह एक पूर्ण भोजन है," उन्होंने कहा।

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios