Asianet News HindiAsianet News Hindi

अंसारी राजेश और फैज ने कहा- लॉकडाउन में एक फूल नहीं बिका, भूमि भूजन के बाद राम जी दिन लौटाएंगे

रेलवे स्टेशन से 200 मीटर दूर चलने पर रायगंज पुलिस चौकी पड़ती है। यहीं पर है फूलों वाली गली। अयोध्या में जितने भी मंदिर हैं, सभी जगहों पर यहीं से फूल-मालाएं भेजी जाती हैं। लेकिन लॉकडाउन में इनकी हालत खराब हो गई। घर का खर्च चलाना, बच्चों को पढ़ाना मुश्किल हो गया। फूल बेचने वाले बाबू अंसारी का कहना है कि पिछले 2 महीने में फूल की एक भी पत्ती नहीं मंगाई है। 

Bhoomi Pujan before construction of Ram temple Live report from Raiganj in Ayodhya kpn
Author
Ayodhya, First Published Jul 31, 2020, 12:16 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

अयोध्या. रेलवे स्टेशन से 200 मीटर दूर चलने पर रायगंज पुलिस चौकी पड़ती है। यहीं पर है फूलों वाली गली। अयोध्या में जितने भी मंदिर हैं, सभी जगहों पर यहीं से फूल-मालाएं भेजी जाती हैं। लेकिन लॉकडाउन में इनकी हालत खराब हो गई। घर का खर्च चलाना, बच्चों को पढ़ाना मुश्किल हो गया। फूल बेचने वाले बाबू अंसारी का कहना है कि पिछले 2 महीने में फूल की एक भी पत्ती नहीं मंगाई है। लॉकडाउन में हालत खराब हो गई, लेकिन ये सुनने में आया है किभूमि  पूजन के बाद जब राम मंदिर बनेगा तो वहां फूल और प्रसाद बेंचने वालों के लिए दुकानें भी बनाई जाएंगी। इसका बेसब्री से इंतजार है। हम लोग पुराने दुकानदार हैं, हमें भी वहां दुकान मिलेगी तो व्यवसाय फिर से बढ़ेगा। 

Bhoomi Pujan before construction of Ram temple Live report from Raiganj in Ayodhya kpn

अयोध्या रेलवे स्टेशन के पास में ही रायगंज पुलिस चौकी है

रायगंज पुलिस चौकी के सामने से जाने वाली इस गली की चौड़ाई 6-7 फिट से ज्यादा नहीं होगी। अंदर जाने पर लगभग सभी घरों से फूलों की खुशबू आने लगती है। मुहल्ले के ही राजेश ने बताया, इस पूरी गली में फूल का कारोबार होता है। फूल बेचकर ही यहां के लोगों का चूल्हा जलता है। बच्चों को पढ़ाते हैं। इसी गली में एक घर मिला, जहां पर एक परिवार चमेली की माला बना रहे थे।

Bhoomi Pujan before construction of Ram temple Live report from Raiganj in Ayodhya kpn

भूमि पूजन नजदीक आने पर एक परिवार फूलों की मालाएं बना रहा है

हनुमान गढी में फूलों का कारोबार करने वाले फैज का कहना था कि हमारे लिए तो राम लला ही पालनहार हैं। हनुमान गढी मंदिर के पास फूलों की दुकान है। इसके अलावा कभी-कभार दूसरे मंदिरों में भी सजावट का काम मिल जाता है। कुल मिलाकर जिंदगी की गाड़ी इतनी अच्छी चल रही थी कि बच्चों की पढ़ाई-लिखाई और घर के खर्च चल जाता था। लेकिन लॉकडाउन में फूल का व्यवसाय बंद हो गया। अब उम्मीदों के सहारे दिन काटा जा रहा है कि जल्द ही यहां सारी पुरानी चीजें फिर से शुरू हो जाएंगी।

Bhoomi Pujan before construction of Ram temple Live report from Raiganj in Ayodhya kpn

यहीं से हनुमान गढ़ी के लिए रास्ता जाता है

बाबू अंसारी का कहना है कि पिछले 2 महीने में फूल की एक भी पत्ती नहीं मंगाई है। लॉकडाउन में हालत खराब हो गई, लेकिन ये सुनने में आया है कि प्रधानमंत्री नरेंद मोदी जी के भूमि  पूजन के बाद जब राम मंदिर बनेगा तो बताया जा रहा है कि वहां पर फूल और प्रसाद बेंचने वालों के लिए दुकानें भी बनाई जाएंगी। इसका बेसब्री से इंतजार है। हम लोग पुराने दुकानदार हैं, हमें भी वहां दुकान मिलेगी तो व्यवसाय फिर से बढ़ेगा। 

माला बनाने वाले अमरनाथ ने बताया, वह फूल बेचकर हर दिन 2 से 3 सौ रूपए की कमा लेते हैं। लॉकडाउन के बाद जब मंदिर बंद हुए तो श्रद्धालुओं का आना भी बंद हो गया। शुरू में तो लगा कि ये सब जल्द ही फिर से ठीक हो जाएगा, लेकिन अब समय बढ़ता ही जा रहा है। हम लोग तो भगवान राम और हनुमान जी महाराज के भरोसे हैं।

Bhoomi Pujan before construction of Ram temple Live report from Raiganj in Ayodhya kpn

यहां से अयोध्या के मंदिरों में फूल-मालाएं जाती हैं, लेकिन लॉकडाउन में सब बंद है, गलियां सुनसान हैं दुकानें बंद हैं

अयोध्या में बनारस और ज्यादा जरूरत पड़ने पर कलकत्ता से फूल मंगाए जाते हैं। अमरनाथ ने बताया कि इस गली में रहने वाले 150 परिवारों का जीवन फूलों को बेचकर ही चलता है। पिछले कुछ दिनों से सब कुछ ऐसे बंद हुआ कि सारी चीजें अब भारी लगने लगी हैं। लॉकडॉउन में तो हालत खराब हो गई, लेकिन राम मंदिर निर्माण शुरू हो रहा है, इससे उम्मीद है कि एक बार फिर से पूरा कारोबार चलने लगेगा।

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios