Asianet News Hindi

2 महीने बाद सबसे कम 1.26 लाख केस मिले, केंद्रीय शिक्षा मंत्री निशंक पोस्ट कोविड दिक्कतों से एम्स में भर्ती

पिछले 24 घंटे में देश में 1.26 लाख नए केस सामने आए है। यह एक अच्छा संकेत है। माना जा रहा है कि देश से कोरोना की दूसरी लहर गुजर चुकी है। इसके साथ ही 36 दिन बाद सबसे कम मौतें भी हुई हैं। बीते दिन 2781 मौतें सामने आईं। 19 मई को देश में सबसे अधिक 4529 मौतें दर्ज की गई थीं। देश में इस समय रिकवरी रेट 91% से अधिक है। 
 

Current status of corona infection in the country, deaths and recovery kpa
Author
New Delhi, First Published Jun 1, 2021, 9:31 AM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

नई दिल्ली. 36 दिनों बाद देश को सुकून भरी खबर मिली है। पिछले 24 घंटे में सिर्फ 1.26 लाख नए केस सामने आए हैं। यह 55 दिनों बाद सबसे कम आंकड़ा है। इससे पहले 7 अप्रैल को 1.26 लाख केस सामने आए थे। वहीं, 36 दिनों बाद सबसे कम यानी  2781 मौतें हुई हैं। 19 मई को देश में सबसे अधिक 4529 मौतें दर्ज की गई थीं। अब तक 3.31 लाख लोगों की मौत हो चुकी है। इससे पहले रोज 3000 लोग अपनी जान गंवा रहे थे। 36 दिनों में सबसे कम मौतें 26 अप्रैल को 2762 हुई थीं।

कोरोना संक्रमण से जुड़ा अपडेट

  • केंद्रीय शिक्षा मंत्री डॉ.रमेश पोखरियाल निशंक को पोस्ट कोविड दिक्कतों की वजह से आज एम्स में भर्ती कराया गया। यह जानकारी एम्स के अधिकारी ने दी।
  • मध्यप्रदेश के पूर्व मंत्री लक्ष्मीकांत शर्मा का कोरोना से निधन हो गया। उनका भोपाल के एक अस्पताल में इलाज चल रहा था। 
  • देश में पिछले 24 घंटे में कोरोना वायरस की 27,80,058 वैक्सीन लगाई गईं, जिसके बाद कुल वैक्सीनेशन का आंकड़ा 21,60,46,638 हुआ।
  • भारतीय चिकित्सा अनुसंधान परिषद (ICMR) के अनुसार, भारत में कल तक कोरोना वायरस के लिए कुल 34,67,92,257 सैंपल टेस्ट किए जा चुके हैं, जिनमें से 19,25,374 सैंपल कल टेस्ट किए गए।

रिकवरी रेट भी बेहतर हुई
देश में इस समय रिकवरी रेट 91% से अधिक है। 24 घंटे में रिकवरी: 2.54 लाख लोग रिकवर हुए हैं। देश में अब तक 2.81 करोड़ लोग संक्रमित हो चुके हैं, जिनमें से 2.59 करोड़ लोग ठीक हो चुके हैं। इस समय 18.90 लाख लोगों का इलाज चल रहा है, यानी एक्टिव केस हैं। एक्टिव केस घटकर 7.22% रह गए हैं।


तीन महीने में कोरोना ने मचा दिया था हाहाकार
मार्च से कोरोना के केस लगातार बढ़ना शुरू हो गए थे। एक मार्च को महज 12, 270 केस सामने आए थे, लेकिन 6 मई को यही रफ्तार 34 बढ़कर 4.14 लाख केस तक जा पहुंची थी। यह वो दौर था, जब देश में स्वास्थ्य सेवाएं चरमरा गई थीं और हाहाकार मच गया था। लेकिन इसके बाद से लगातार केस कम होते गए। मौतों के मामले में महाराष्ट्र पहले नंबर पर हैं। यहां अब तक 95 हजार से अधिक मौतें हो चुकी हैं। दूसरे देश में इस समय कोरोना से मृत्यु दर 1.17% है।

नए केस से अधिक रिकवरी बेहतर
अब देश में कोई भी राज्य भयंकर दौर से नहीं गुजर रहा। हालांकि कुछ राज्यों में अभी भी अधिक केस आ रहे हैं, लेकिन रिकवरी करीब सभी राज्यों में बेहतर है। कुछ समय पहले तक महाराष्ट्र, यूपी और दिल्ली का बुरा हाल था। अब महाराष्ट्र को छोड़कर बाकी राज्यों में हालत काबू में हैं।  अगर पिछले 15 दिनों का आंकड़ा देखें, तो 44% एक्टिव केस कम हुए हैं। 

 

Asianet News का विनम्र अनुरोधः आइए साथ मिलकर कोरोना को हराएं, जिंदगी को जिताएं...। जब भी घर से बाहर निकलें माॅस्क जरूर पहनें, हाथों को सैनिटाइज करते रहें, सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करें। वैक्सीन लगवाएं। हमसब मिलकर कोरोना के खिलाफ जंग जीतेंगे और कोविड चेन को तोड़ेंगे। #ANCares #IndiaFightsCorona 

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios