Asianet News Hindi

Exclusive चीन कभी भी गलवान नहीं दोहराना चाहेगा, वह मनोवैज्ञानिक खेल खेल रहाः विनोद भाटिया

कर्नल संतोष बाबू और उनके साथ के सैनिकों के बलिदान के बाद देश ने कितना सबक लिया। क्या रणनीति व सैन्य स्तर पर हम कुछ करने में सफल रहे। गलवान के बाद क्या बदला और क्या सबक हमने सीखा।

Exclusive interview of Military Operations Ex chief Vinod Bhatia on a year since Galvan DHA
Author
New Delhi, First Published Jun 16, 2021, 5:52 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

नई दिल्ली। गलवान की घटना को एक साल हो चुके हैं। एक साल पहले लद्दाख की गलवान घाटी में भारत की संप्रभुता की रक्षा के लिए सैनिकों के सर्वाेच्च बलिदान को हर कोई याद कर सम्मान के साथ एकजुट है। गलवान के बाद क्या बदला और क्या सबक हमने सीखा। कर्नल संतोष बाबू और उनके साथ के सैनिकों के बलिदान के बाद देश ने कितना सबक लिया। क्या रणनीति व सैन्य स्तर पर हम कुछ करने में सफल रहे। एशियानेट ने इन सभी मुद्दों पर सेंटर फाॅर ज्वाइंट वारफेयर स्टडीज के डायरेक्टर व मिलिट्री आपरेशन्स के पूर्व डीजी लेफ्टिनेंट जनरल विनोद भाटिया से विस्तृत बातचीत की है। 

गलवान घाटी की घटना से हमने क्या सीखा, क्या हम इससे हम कुछ सबक लिए हैं जो भविष्य में काम आ सके?

सबसे बड़ी सबक हमने जो सीखी है, वह है किसी भी स्थिति के लिए तैयार रहना। पीएलए को डील करते समय अपने अतिरिक्त किसी और पर भरोसा नहीं करना। हमने फ्लैग मीटिंग की है, पांच समझौते भी हुए जोकि सिर्फ और सिर्फ शांति के लिए किए गए। लेकिन असली चीज तो यह है कि आपको अपनी क्षमताओं, नेतृत्व, प्रतिक्रियाओं और अनुभव पर ही भरोसा करना होगा। गलवान की घटना उनका चरम था। अब वह कुछ नहीं कर सकते। पिछले एक साल से देखे तो वहां शांति रही। पहले साल में 450 घटनाएं हो जाती थी लेकिन एक साल से बंद है। वह आगे भी नहीं बढ़े। जहां हैं वहीं हैं। हालांकि, वह वहां ज्यादा दिनों तक टिक भी नहीं सकते।
एक सबक सीख कर हमको तैयारी भी करनी होगी कि हमारा इंफ्रास्ट्रक्चर बेहतर हो। हमें अच्छा लॉजिस्टिक्स मिले। हमें रक्षा और सुरक्षा के लिए बुनियादी ढांचे में सुधार करना है। हमें आसपास के इलाकों में एकता लानी होगी। वहां स्वास्थ्य व अन्य सुविधा मुहैया कराना होगा। हमें वास्तविक नियंत्रण रेखा पर डिजिटल हस्ताक्षर सुनिश्चित करने होंगे, जो अभी नहीं है। हमें बहुत कुछ करना होगा। हमें वास्तव में अपने ग्रामीणों को सशक्त बनाना होगा। हमें अपनी खुफिया, निगरानी और टोही क्षमताओं के बीच तालमेल बिठाना होगा।

पूर्वी लद्दाख में भारत के दृष्टिकोण ने चीन को अपनी रणनीति को रिकैलीब्रेट करने को कैसे मजबूर किया है?

चीन ने रिकैलीब्रेट नहीं किया बल्कि अपनी रणनीति की समीक्षा की है। ऐसा इसलिए क्योंकि वे पिछले साल मई-जून में काफी आक्रामक थे। उनकी आक्रामकता अब छिपी हुई है। ऐसा नहीं है कि सभी जगहों पर डिसएंगेजमेंट नहीं हुआ है। तीन चरण डिसएंगेजमेंट, डी-एस्केलेशन और डी-इंडक्शन हैं। चीन की रणनीति अब सिर्फ पकड़ रखने की, चेहरा बचाने की है और बिल्कुल भी नहीं बढ़ने की है क्योंकि दोनों पक्षों के लिए नियंत्रण बढ़ाना बहुत महत्वपूर्ण है।
चीन यहां भारत से युद्ध करने नहीं आया वह अमेरिका के साथ द्विधु्रवीय दुनिया में विश्व नेता बनना चाहता है। चीन क्यों आएगा और युद्ध छेड़ेगा। एक बहुत मजबूत और दृढ़ भारत के खिलाफ खुद को और अपनी क्षमताओं को नीचा दिखाएगा? इसलिए चीन अपनी सैन्य क्षमताओं का इस्तेमाल करता रहेगा जो उसने एलएसी पर किया है। चीन पड़ोस में बहुत सक्रिय रहा है। पड़ोसी मुल्कों को कर्ज जाल में फंसाया हुआ है। बेशक, पाकिस्तान उनका सदाबहार दोस्त है। वह नेपाल, म्यांमार और बांग्लादेश में एक हद तक दखल देने लगा है। चीन को क्वाड का हिस्सा होने के कारण बांग्लादेश पसंद नहीं आया। इसने कोलंबो बंदरगाह और श्रीलंका में हंबनटोटा पर कब्जा कर लिया है।यह भारत को जहां है वहां तक सीमित रखने का यह एक तरीका है। भारत एकमात्र ऐसा देश है जो वास्तव में एक द्विधु्रवीय दुनिया में संतुलन को झुका सकता है। एक उभरती हुई भू-राजनीतिक विश्व व्यवस्था में, भारत एक वैश्विक नेता, एक क्षेत्रीय शक्ति है। हमें राष्ट्रों के समुदाय में अपना सही स्थान समझना चाहिए और फिर अपने हितों को संतुलित करना चाहिए। हमें अभी तक शक्ति संतुलन में नहीं आना चाहिए। चीन और अमेरिका के बीच शक्ति संतुलन का खेल है - एक तरफ रूस, दूसरी तरफ जापान। इसलिए हमें अपनी रुचि को संतुलित करना होगा। चीन ने भारत को कई क्षेत्रों में शामिल करने के लिए अपनी रणनीति में बदलाव किया है। हमें यह समझना चाहिए कि चीन गैर-पारंपरिक सुरक्षा चुनौतियों का सहारा ले सकता है। चीन को हमारी जरूरत है लेकिन हमें चीन की भी जरूरत है। यह परस्पर है। हमारे साझा हित हैं। हमें उसे रोकने के लिए चीन पर दबाव बनाना होगा।

एलएसी के पास सैन्य अभ्यास कर चीन क्या संदेश देना चाहता है?

चीन युद्ध की तीन रणनीतियों में विश्वास करता है - 1-जनमत, 2- कानूनी युद्ध, 3-मनोवैज्ञानिक ऑपरेशन। हम चीनी दिमाग में हस्तक्षेप नहीं कर सकते क्योंकि उनका एक बंद समाज है। हमारे पास जिस तरह से डिजिटल पहुंच नहीं है। इसलिए चीन यह कहकर हमारे दिमाग से खेल सकता है कि उसके पास सैन्य क्षमता और उच्च तकनीक है। लेकिन अंत में हमें यह समझना होगा कि जमीन पर आदमी ही मायने रखता है। प्रौद्योगिकी की एक भूमिका है लेकिन यह उन हिस्सों में सीमित भूमिका निभाता है जहां यह काम नहीं करेगा। ये 5000 मीटर की ऊंचाई हैं। जमीन पर आदमी के अलावा वास्तव में कुछ भी काम नहीं करता है। चीन की मनोवैज्ञानिक कार्रवाईयां एक मनोवैज्ञानिक दबाव है। मीडिया की अहम भूमिका है। भारतीय मीडिया राष्ट्र और सशस्त्र बलों के लिए एक प्रमुख संपत्ति है। यह जरूरी है कि हम अपने लोगों तक सही चीजें पहुंचाएं और चीन को सही रणनीतिक संकेत भेजें। यहीं पर हमें तीन युद्ध रणनीतियों को समझना होगा और अपने लोगों को बताना होगा कि चीन जो कर रहा है वह उसकी रणनीति का एक हिस्सा है।

क्या आपको लगता है कि भारत के साथ चीन के संबंध नई दिल्ली के बाहरी वातावरण पर निर्भर हैं? क्या सीमाओं पर जो कुछ हो रहा वह भारत की अमेरिका से निकटता के कारण है?

निश्चित रूप से, मुझे नहीं लगता कि चीन चाहता है कि भारत अमेरिकी लॉबी के हिस्से में जाए। लेकिन चीन एक बार फिर गलत आंकलन कर रहा है। चीन की हरकतें वास्तव में भारत को उस ओर धकेल रही हैं। यह समझना होगा कि भारतीय कैसे काम करते हैं, वे कैसे सोचते हैं और भारतीय अवधारणाएं और दर्शन क्या हैं। हम एक गौरवशाली राष्ट्र हैं। हमारे पास रणनीतिक स्वायत्तता है। हम न केवल अमेरिका के साथ हैं, बल्कि हम कई बहुपक्षीय व्यवस्थाओं का भी हिस्सा हैं। हम इस वर्ष ब्रिक्स के अध्यक्ष हैं। हम आरआईसी (रूस-भारत-चीन) का भी हिस्सा हैं। हम बिम्सटेक, जी7, जी20 और डी10 (10 देशों का लोकतंत्र) का हिस्सा हैं। इसलिए चीन को समझना होगा कि हमारे पास रणनीतिक स्वायत्तता है जो हमें बहुत प्रिय है। ऐसा नहीं है कि हम अमेरिका की ओर धकेले जाएंगे। हम क्वाड का हिस्सा हैं। अगर हम क्वाड का इस्तेमाल करके चीन पर दबाव बना सकते हैं, तो क्यों नहीं? हम ऐसा करेंगे। सुरक्षा के क्षेत्र में भी, हिंद महासागर में भी, हमारे पास अभी चीन पर पूरा दबाव बनाने की क्षमता नहीं है। हमें समान विचारधारा वाले मिलेंगे। हम उन राष्ट्रों के साथ संतुलन बनाने के लिए बाध्य हैं जिनके हितों समान है।

क्या सीमा पर एक और गलवान जैसी घटना होने की संभावना है? क्या दो पड़ोसी देशों के बीच चैतरफा युद्ध हो सकता है? क्या हम तैयार हैं?

मुझे नहीं लगता कि गलवान को दोहराया जा सकता है या दोहराया जाना चाहिए। लेकिन जब अधिक ऊंचाई पर सैनिक दूसरों का सामना करते हैं तो एक सर्पिल की संभावना होती है। हमने बहुत अच्छा किया है। हमारे पास जमीन पर चीजों को नियंत्रित करने वाले बहुत अच्छे नेता हैं। इसलिए मैं गलवान के घटित होने की कल्पना नहीं करता। चीन समझता है कि गलवान फायदा नहीं करने जा रहा है। हम कई गलवानों के लिए तैयार हैं। लेकिन चीन ने महसूस किया है कि लागत बहुत अधिक है और फायदेमंद भी नहीं। जहां तक चैतरफा युद्ध का संबंध है, किसी भी युद्ध का राजनीतिक उद्देश्य और सैन्य उद्देश्य होता है। जहां तक भारत का संबंध है, यह कभी युद्ध नहीं छेड़ने जा रहा। हम शांतिप्रिय राष्ट्र हैं और हमारी प्राथमिकताएं भी हैं। जहां तक चीन का संबंध है, मुझे नहीं लगता कि वह भारत के खिलाफ युद्ध छेड़ने में दिलचस्पी रखता है। भारत के खिलाफ युद्ध छेड़ने से उसके पास खोने के लिए और भी बहुत कुछ है। यदि हम युद्ध के लिए पूरी तरह से तैयार हैं तो आपको युद्धों को रोकने के लिए भी तैयार रहना होगा और संचालन के लिए तैयार रहना होगा। सशस्त्र बल युद्ध लड़ने के लिए नहीं होते हैं। वे शांति और सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए हैं।
 

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios