Asianet News HindiAsianet News Hindi

सरकार ने चैनल्स-वेबसाइट्स और OTT को दिए निर्देश- 'बंद करें ऑनलाइन बेटिंग प्लेटफॉर्म्स के विज्ञापन दिखाना'

सरकार ने एक बार फिर ऑनलाइन बेटिंग, ऑनलाइन या ऑफलाइन जुआ (Online Betting Platforms) खेलने को बढ़ावा देने वाले विज्ञापनों को बंद करने के लिए कहा है। केंद्र सरकार के सूचना और प्रसारण मंत्रालय द्वारा इससे पहले भी एक एडवाइजरी जारी की चुकी है। 
 

government tells channels and websites stop showing advertisments of online betting platforms mda
Author
First Published Oct 4, 2022, 1:15 PM IST

Online Betting Platform Advertisment. केंद्र सरकार ने चैनल्स और वेबसाइट्स को नई एडवाजरी जारी की है, जिसमें कहा गया है कि ऑनलाइन जुआ खिलाने वाले प्लेटफॉर्म्स के विज्ञापनों को दिखाना बंद किया जाए। इससे पहले इसी साल 13 जून को भी इंफार्मेशन एंड ब्रॉडकास्टिंग मिनिस्ट्री ने एजवाइजरी जारी की थी। जिसमें चैनल्स और वेबसाइट्स से यह अपील की गई थी कि किसी भी तरह से ऑनलाइन या ऑफलाइन जुआ खेलने की प्रवृति को बढ़ावा देने से रोकने की जरूरत है। इसके बाद अब फिर से केंद्र सरकार ने चैनल्स और वेबसाइट्स को इसी संदर्भ में नई एडवाइजरी जारी की है। 

ओटीटी प्लेटफॉर्म्स भी शामिल
ऑनलाइन सट्टेबाजी प्लेटफार्मों के खिलाफ चल रही कार्रवाई के तहत सूचना और प्रसारण मंत्रालय ने निजी सेटेलाइट चैनलों, ओटीटी प्लेटफार्मों और वेबसाइटों को ऑनलाइन बेटिंग के विज्ञापनों के प्रसारण से परहेज करने का निर्देश दिया है। मंत्रालय ने यह पाया है कि ऑनलाइन सट्टेबाजी प्लेटफॉर्म समाचारों की आड़ में सट्टेबाजी और जुए को बढ़ावा देने के लिए सरोगेट विज्ञापन के रूप में दिखाई दे रहे हैं। 

क्या कहती है एडवाइजरी
मंत्रालय ने जो एडवाइजरी जारी की है, उसमें कहा गया है कि भारत के अधिकांश हिस्सों में सट्टेबाजी और जुआ अवैध गतिविधियां हैं। उपभोक्ता संरक्षण अधिनियम-2019 के तहत भ्रामक विज्ञापनों को सपोर्ट करने की रोकथाम के लिए दिशानिर्देशों दिए गए हैं। मंत्रालय ने कहा कि सट्टेबाजी प्लेटफार्मों, ऑनलाइन सट्टेबाजी और जुआ प्लेटफार्मों के विज्ञापन डिजिटल मीडिया या टीवी चैनलों पर नहीं दिखाए जा सकते क्योंकि वे हैं अवैध गतिविधियां हैं। इस संबंध में सरकार की ओर से यह दूसरी एडवाइजरी है। इससे पहले, इस साल 13 जून को भी I&B मंत्रालय ने टेलीविजन चैनलों और वेब पोर्टलों से विज्ञापनों के माध्यम से ऑफलाइन या ऑनलाइन सट्टेबाजी/जुआ को बढ़ावा देने से परहेज करने का आग्रह किया था। कहा जा रहा है कि यह उपभोक्ताओं, विशेष रूप से बच्चों और युवाओं के लिए घातक है। 

सरकार ने जुटाए सूबूत
केंद्र सरकार के अनुसार फेयरप्ले, प्रीमैच, बेटवे, वुल्फ 777 और 1xबेट जैसे सट्टेबाजी प्लेटफार्मों के विज्ञापन जारी किए जा रहे हैं। मंत्रालय ने कहा कि ऑनलाइन सट्टेबाजी प्लेटफॉर्म खुद को पेशेवर खेल ब्लॉग, खेल समाचार वेबसाइट आदि के रूप में विज्ञापन दे रहे हैं। वे समाचारों की आड़ में ऑनलाइन ऑफशोर बेटिंग प्लेटफॉर्म सट्टेबाजी और जुए के सरोगेट विज्ञापन का प्रचार करते प्रतीत होते हैं। मंत्रालय ने ऑनलाइन सट्टेबाजी प्लेटफार्मों की एक सांकेतिक सूची भी जारी की है। मंत्रालय ने यह भी नोट किया है कि संबंधित समाचार वेबसाइटों के लोगो सट्टेबाजी मंच के समान हैं। मंत्रालय ने आगे कहा कि ऑनलाइन सट्टेबाजी प्लेटफॉर्म और संबंधित समाचार वेबसाइटें भी भारतीय कानूनों के तहत किसी कानूनी प्राधिकरण के साथ पंजीकृत नहीं हैं।

यह भी पढ़ें

क्या होता है लीव इनकैशमेंट? कितना देना पड़ता है इनकम टैक्स, इन कर्मचारियों को मिल रही छूट
 

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios