नई दिल्ली. ब्रिटेन में गुरुवार यानी की 9 जुलाई से इंडिया ग्लोबल वीक 2020 का आगाज हुआ। पीएम मोदी ने इस प्रोग्राम का वीडियो लिंक से इनॉगरेशन किया। इस खास मौके पर उन्होंने भारत को टैलेंट का पावरहाउस बताया और कहा कि ये दुनिया के विकास और भलाई में योगदान देता आया है और आगे भी देना चाहता है। इंडिया आगे बढ़ना चाहता है। इसके साथ ही पीएम ने कहा कि भारत हर चुनौती से जीतता आया है। उसका पूरी तरह सामना करता है। देश जहां एक तरफ कोरोना से जंग लड़ रहा है, वहीं दूसरी तरफ सरकार अर्थव्यवस्था को भी संभालने में भी कामयाब रही। मोदी ने कई और मुद्दों का भी जिक्र किया। इंडिया ग्लोबल वीक तीन दिन चलेगा।  

भारत टैलेंट का पावरहाउस है: पीएम मोदी 

मोदी ने अपने भाषण में कहा, 'भारत टैलेंट का पावरहाउस है। वो दुनिया के विकास और भलाई में योगदान देता आया है और आगे भी देना चाहता है। हमारा देश आगे बढ़ना चाहता है। भारतीय नैचुरल रिफॉर्मर है। हम हर चुनौती का मुकाबला करते हैं। फिर चाहे वो सोशल हो या इकोनॉमिक। आज हम महामारी के खिलाफ पूरी ताकत से जंग लड़ रहे हैं। लेकिन, हम ये भी चाहते हैं कि विकास और पर्यावरण की रक्षा एकसाथ हो।'

महामारी के दौर में हमने सुविधाएं दी: प्रधानमंत्री 

प्रधानमंत्री ने अपने भाषण में आगे कहा, 'भारत में धरती को माता कहा जाता है, हम उसके बच्चे हैं। हम ईज ऑफ डूइंग बिजनेस पर काम कर रहे हैं। इस से जुड़े हर तरह के सुधार किए हैं और इन्हें आगे बढ़ा रहे हैं। महामारी के दौर में हमने लोगों को सुविधाएं दीं। हमने रिलीफ पैकेज जारी किया। हम चाहते हैं थे एक-एक पैसा जरूरतमंद तक पहुंचे। टेक्नोलॉजी ये जरिए ये संभव भी हुआ। हम लाखों लोगों को रोजगार भी दे रहे हैं। इससे ग्रामीण क्षेत्रों को मदद मिलेगी।'

ग्लोबल कंपनियों से की अपील भी

पीएम मोदी ने अपील करते हुए कहा, 'हम ग्लोबल कंपनियों से अपील करते हैं कि वो भारत में निवेश के लिए आगे आएं। यहां प्रतिभा और अवसरों का खजाना है। एग्रीकल्चर सेक्टर में इन्वेस्टमेंट की काफी संभावनाएं हैं। एमएसएमई में संभावनाएं हैं। डिफेंस और स्पेस सेक्टर में भी हमने रिफॉर्म किए हैं। इससे रोजगार के अवसर बढ़ेंगे। टेक्नोलॉजी के मामले में भारत बेहद ताकतवर है।'

फार्मा सेक्टर में भी आगे बढ़ रहा भारत

मोदी ने मुश्किल दौर में फार्मा सेक्टर का जिक्र करते हुए कहा कि 'महामारी से सामने आया कि भारत का फार्मा सेक्टर कितना बेहतर प्रदर्शन कर सकता है। हम सस्ती और क्वॉलिटी की दवाएं बना सकते हैं। वैक्सीन के मामले में भी उन्हें पूरा विश्वास है कि यही होगा। इस मामले में हम योगदान देने तैयार हैं। इससे विकासशील देशों को मदद मिलेगी। क्योंकि पीएम का मानना है कि आत्मनिर्भर भारत से सिर्फ घरेलू लोगों को नहीं बल्कि दुनिया को भी मदद मिलेगी। महामारी के दौर में हमारे अभिवादन के तरीके नमस्ते को ग्लोबल तौर पर स्वीकार किया गया। महामारी ने इसका महत्व बताया। भारत दुनिया में विकास और समृद्धि के मापदंड तय कर रहा है।' 

तीन दिन चलेगी समिट

इंडिया ग्लोबल वीक समिट 2020 तीन दिन चलेगी। इसे वर्चुअल प्लेटफॉर्म पर ऑर्गनाइज किया गया है। मोदी सरकार के कई मंत्री इसमें शामिल होंगे। विदेश मंत्री एस. जयशंकर, रेलवे एंड कॉमर्स मिनिस्टर पीयूष गोयल, सिविल एविएशन मिनिस्टर हरदीप सिंह पुरी, आईटी मिनिस्टर रविशंकर प्रसाद और स्किल डेवलपमेंट मिनिस्टर महेंद्र नाथ पांडेय ग्लोबल वीक में हिस्सा लेंगे। इसके साथ ही कहा जा रहा है कि ब्रिटिश रॉयल फैमिली के प्रिंस चार्ल्स भी इस समिट में शामिल होंगे। इसके अलावा विदेश मंत्री डोमिनिक रॉब, होम मिनिस्टर प्रीति पटेल, हेल्थ मिनिस्टर मैट हेनकॉक और ट्रेड मिनिस्टर लिज ट्रूस भी समिट में हिस्सा लेंगे। भारत और ब्रिटेन के कारोबारी रिश्तों के लिहाज से भी यह समिट अहम हो सकती है।

ब्रिटेन यूरोपीय यूनियन और इसकी ट्रेड यूनिट से बाहर हो चुका है। यहां के ट्रेड मिनिस्टर पहले ही कह चुके हैं कि भारत के अमेरिका, ऑस्ट्रेलिया, सिंगापुर और जापान से जिस तरह के ट्रेड रिलेशन हैं, ब्रिटेन भी इसी तरह के रिश्ते चाहता है।