Asianet News Hindi

कोरोना-संकट के दौरान भारत की विश्व-छवि बेहतर ही हुई, भारत की जनता ने पेश की तालाबंदी की मिसाल

वरिष्ठ पत्रकार डॉ. वेदप्रताप वैदिक ने लिखा कई लोगों ने मुझसे पूछा है कि कोरोना-संकट का भारत की विदेश नीति पर क्या असर पड़ा है, आप बताइए। असलियत तो यह है कि कोरोना का युद्ध इतना गंभीर है कि यह पूरा पिछला एक महिना हम सब लोग अंदरुनी सवालों से ही जूझते रहे। फिर भी यह तो मानना पड़ेगा कि इस कोरोना-संकट के दौरान भारत की विश्व-छवि बेहतर ही हुई है।

India world-image only improved during the Corona crisis KPV
Author
Bhopal, First Published Apr 21, 2020, 4:42 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

वरिष्ठ पत्रकार डॉ. वेदप्रताप वैदिक ने लिखा कई लोगों ने मुझसे पूछा है कि कोरोना-संकट का भारत की विदेश नीति पर क्या असर पड़ा है, आप बताइए। असलियत तो यह है कि कोरोना का युद्ध इतना गंभीर है कि यह पूरा पिछला एक महिना हम सब लोग अंदरुनी सवालों से ही जूझते रहे। फिर भी यह तो मानना पड़ेगा कि इस कोरोना-संकट के दौरान भारत की विश्व-छवि बेहतर ही हुई है। पहली बात तो यह हुई कि इस संकट के दौरान सारा भारत एक होकर लड़ रहा है। भारत के पक्ष और विपक्ष का रवैया वैसा नहीं है, जैसा अमेरिका, ब्रिटेन, पाकिस्तान और ब्राजील जैसे देशों में देखने में आ रहा है। भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का सभी दलों के मुख्यमंत्री पूरी तरह साथ दे रहे हैं। दूसरा, भारत की जनता तालाबंदी का पालन जिस निष्ठा के साथ कर रही है, वह दूसरे देशों के लिए एक मिसाल बन गई है। विश्व स्वास्थ्य-संगठन ने स्पष्ट शब्दों में भारत की तारीफ की है। तीसरा, भारत ने कोरोना के जांच-यंत्र और करोड़ों मुखपट्टियां तैयार कर ली हैं। भारत से कुनैन की करोड़ों गोलियां अमेरिका समेत 55 देशों ने आग्रहपूर्वक मंगवाई हैं। एक अर्थ में भारत को पहली बार विश्व-त्राता का विहंगम रुप मिला है। चौथा, भारत सरकार ने हजारों प्रवासियों को विदेशों से भारत लौटाने में जो मुस्तैदी दिखाई है, उसकी भी सराहना हो रही है। पांचवा, दुनिया को आश्चर्य है कि 140 करोड़ लोगों के इस विकासमान राष्ट्र में कोरोना का प्रकोप इतना कम क्यों हो रहा है ? सारी दुनिया में यह चर्चा का विषय है। छठा, भारतीय भोजन में पड़नेवाले मसालें घरेलू औषधियों का काम कर रहे हैं। विदेशों में बसे प्रवासी भारतीय भी इसीलिए कोरोना के शिकार कम हो रहे हैं। आयुर्वेद का डंका सारे विश्व में बज रहा है। सातवां, भारत ने दक्षेस राष्ट्रों को कोरोना के खिलाफ सावधान करने की पहल की और दक्षेस-कोष में बड़ी राशि दान की। प्रधानमंत्री दक्षेस-राष्ट्रों के नेताओं से निरंतर संपर्क में है। पड़ौसी देशों पर इसका अच्छा प्रभाव पड़ रहा है। आठवां, जमाते-तबलीगी के कारण कोरोना को जबरन हिंदू-मुस्लिम रुप दिया जा रहा है लेकिन सरकार ने उसे ज़रा भी प्रोत्साहित नहीं किया है। तबलीग के सरगना मौलाना साद को अभी तक गिरफ्तार नहीं किया गया है। लेकिन साधारण मुसलमान मजदूरों, दुकानदारों और साग-सब्जीवालों के साथ जो दूरियां बनाई जा रही हैं, उसकी आलोचना पाकिस्तान और अंतरराष्ट्रीय इस्लामी संगठन कर रहे हैं लेकिन वे यह क्यों नहीं देख रहे हैं कि मुसलमानों को इतना गुमराह कर दिया गया है कि वे उनका इलाज करनेवाले डाॅक्टरों और नर्सों को मार रहे हैं। नौवां, दुनिया का कोई भी देश कोरोना को लेकर भारत पर वैसे आरोप नहीं लगा रहा है, जैसे चीन और अमेरिका पर लग रहे हैं। दसवां, भारत सरकार ने चीन जैसे देशों के विनियोग पर कई प्रतिबंध लगा दिए हैं ताकि वे भारतीय कंपनियों पर कब्जा न कर सके। ग्यारहवां, विश्व-व्यापार में चीन को जो धक्का लगनेवाला है, उसका फायदा भारत को जरुर मिलेगा। कुल मिलाकर कोरोना के संकट के दौरान विश्व में भारत की छवि ऊंची उठी है।   

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios