अबूधाबी. कोरोना वायरस के संक्रमण के बीच इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल- 2020) यूएई में खेला जाएगा। आईपीएल के लिए बीसीसीआई ने एक स्टैंडर्ड ऑपरेटिंग प्रोसिजर (एसओपी) तैयार किया है, जिससे खिलाड़ियों में संक्रमण का खतरा कम हो सके। इसके मुताबिक, 14 दिन में खिलाड़ियों के 4 कोरोना टेस्ट होंगे। इसके अलावा ड्रेसिंग रूम में 15 से ज्यादा खिलाड़ी नहीं होंगे। 

यूएई में आईपीएल 19 सितंबर से 8 नवंबर के बीच खेला जाएगा। 2 दिन बाद गवर्निंग काउंसिल की मीटिंग में बीसीसीआई एसओपी को फ्रेंचाइजियों को सौंप देगी। इसी के मुताबिक, टीमें अपनी तैयारियां करेंगी। 

खिलाड़ियों के साथ फ्रेंचाइजी ओनर को भी मानना होगा प्रोटोकॉल
इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट के मुताबिक, बीसीसीआई अधिकारी ने बताया कि जो प्रोटोकॉल बनाए गए हैं, उनका पालन खिलाड़ियों को ही नहीं बल्कि उनकी पत्नी, गर्लफ्रेंड और फ्रेंचाइजी ओनर को भी करना होगा। इसे किसी भी सूरत में तोड़ने की इजाजत नहीं होगी। हालांकि, खिलाड़ियों की पत्नी और गर्लफ्रेंड को उनके साथ जाने की अनुमति होगी या नहीं, इस पर बीसीसीआई फैसला नहीं लेगा। इसे फ्रेंचाइजी ही तय करेगी। 

होटल अलॉट होने के बाद नहीं हो सकता बदलाव
बीसीसीआई की एसओपी के मुताबिक, हर खिलाड़ी के 4 कोरोना टेस्ट होंगे। पहले दो टेस्ट भारत से यूएई जाने से पहले होंगे। वहीं, दो टेस्ट क्वारंटाइन के वक्त यूएई में होंगे।   बीसीसीआई की एसओपी वेस्टइंडीज और इंग्लैंड के बीच खेली गई सीरीज में गाइडलाइन की तर्ज पर ही तैयार की गई है। 

इसके अलावा टीम को एक बार होटल अलॉट हो जाने के बाद इसमें बदलाव नहीं हो सकेगा। इसके अलावा कोरोना टेस्ट में निगेटिव पाए जाने वाले कैटर्स और स्टाफ को ही अंदर जाने की अनुमति होगी। 
 
फैन्स पर फैसला होना बाकी
दर्शक मैच देख पाएंगे या नहीं, अभी इस पर फैसला नहीं हुआ है। लेकिन माना जा रहा है कि यूएई में कोरोना के मामलों में काफी कमी आई है। ऐसे में माना जा रहा है कि कुछ मैचों के बाद दर्शकों को भी स्टेडियम में मैच देखने की अनुमति मिल सकती है।