नई दिल्ली. भारतीय सुरक्षाबलों ने गुरुवार को नगरोटा में बड़ी आतंकी साजिश नाकाम कर दी थी। सुरक्षाबलों ने यहां चार आतंकियों को मार गिराया था। अब मारे गए आतंकियों को लेकर नया खुलासा हुआ है। दरअसल, सीमापार से जैश-ए-मोहम्मद आतंकी अब्दुल रऊफ असगर मारे गए आतंकियों को निर्देश दे रहा था। 

रऊफ असगर जैश सरगना और मुंबई हमलों का मास्टरमाइंड मसूद अजहर का भाई है। वह नगरोटा में मारे गए आतंकियों का हैंडलर था। इतना ही नहीं आतंकियों के पास से पीकिस्तान में बने कई सामान बरामद हुए हैं। 

पाकिस्तान फिर हुआ बेनकाब
आतंकियों के पास से पाकिस्तान में बना वायरलेस, क्यू-मोबाइल सेट, डिजिटल मोबाइल रेडियो, जीपीएस मिले हैं। आतंकी पाकिस्तान में बैठे आकाओं के संपर्क में थे। इस घटना के बाद पाकिस्तान एक बार फिर बेनकाब हो गया। 

पाकिस्तान में बना MPD-2505 हैंडसेट था
पड़ताल में पता चला कि मारे गए आतंकियों के पास पाकिस्तान में बना MPD-2505 मॉडल का मोबाइल था। इनमें पाकिस्तान के सिम लगे थे। बरामद मोबाइल हैंडसेट एंड्रॉयड फोन नहीं हैं। खास बात यह है कि इनमें की-एप भी नहीं है। इनमें सिर्फ टेक्स्ट मैसेज से चैट की जा रही थी। 

हैंडलर ने पूछा था, कहां पहुंचे?
मारे गए आतंकियों में से एक से उसके हैंडलर ने मैसेज में पूछा था, कहां पहुंचे? क्या सूरतेहाल है? कोई मुश्किल तो नही?" आतंकी ने जवाब दिया, 2 बजे।

26/11 जैसे हमले की फिराक में थे आतंकी
आतंकी जिस ट्रक से जा रहे थे, उसमें भारी मात्रा में गोला- बारूद ले जा रहे थे। आंतकी ट्रक में गोला-बारूद लेकर जम्मू से श्रीनगर जा रहे थे। सुरक्षाबलों ने नगरोटा स्थित टोल प्लाजा पर उन्हें रोका और सरेंडर करने के लिए कहा। सुरक्षाबलों ने जवाबी कार्रवाई में ट्रक को ही उड़ा दिया था। इस दौरान चार आतंकी मारे गए थे। जांच में पता चला था कि आतंकी 26/11 जैसे हमले की फिराक में थे।