नई दिल्ली. जैश-ए-मोहम्मद (जेएम) के ऑपरेशनल कमांडर मुफ्ती रऊफ असगर ने कश्मीर में आतंकवादियों से कहा कि उन्हें हथियारों को भेजने में मुश्किल हो रही है। मुफ्ती रऊफ वही है, जिसने इसी महीने भारत में हथियारों से लैस चार आतंकियों की घुसपैठ कराई थी, लेकिन सुरक्षाबलों ने उन्हें ढेर कर दिया।

नगरोटा एनकाउंटर से डरे हुए हैं आतंकी

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, जम्मू के नगरोटा में एनकाउंटर के बाद मुफ्ती रऊफ असगर ने यह संदेश कश्मीर में जैश के आतंकियों को भेजा।

मुफ्ती, मसूद अजहर का छोटा भाई है 

मुफ्ती असगर जेएम प्रमुख और संयुक्त राष्ट्र के मोस्ट वॉटेड आतंकवादी मसूद अजहर का छोटा भाई है। मसूद अजहर की हड्डी का इलाज चल रहा है। ऐसे में मुफ्ती असगर को ही बड़े भाई की अनुपस्थिति में आतंकवादी समूह का प्रमुख माना जाता है। उसने ही पाकिस्तान के पंजाब प्रांत के बहावलपुर से चार आतंकवादियों को भारत में घुसपैठ कराई थी। 

19 नवंबर को नगरोटा में एनकाउंटर हुआ था

19 नवंबर के एनकाउंटर में आतंकी समूह को बड़ा झटका लगा था। बॉर्डर सिक्योरिटी फोर्स के अधिकारियों ने कहा, पाकिस्तान के शकरगढ़ इलाके में सुरंग खोदने में गजब की इंजीनियरिंग की गई थी।  

खुफिया रिपोर्टों के अनुसार, चारों आतंकवादियों की एक खास मकसद से घुसपैठ कराई गई थी। रिपोर्ट में कहा गया है कि लश्कर-ए-तैयबा (एलईटी) भी मुजफ्फराबाद के चेलाबांदी कैंप से लेकर भारत और पाकिस्तान के बीच नियंत्रण रेखा (एलओसी) के पार नीलम घाटी में कई जगहों पर आतंकवादी जुटा रहा है।