नई दिल्ली. कोरोना महामारी के बीच देश में लॉकडाउन है। सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करने के लिए कहा गया है, लेकिन कर्नाटक के रामनगर में एक धार्मिक मेले का आयोजन हुआ और सोशल डिस्टेंसिंग की धज्जियां उड़ा दी गईं। प्रशासन ने इस पर कड़ा रुख अपनाते हुए अधिकारी को सस्पेंड कर दिया है।

परमीशन लेकर हुआ धार्मिक आयोजन
मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक,धार्मिक आयोजन में हिस्सा लेने वाले सभी लोग पंचायत विकास अधिकारी से परमीशन लेकर कार्यक्रम में शामिल हुए थे। हालांकि इस दौरान इतने लोग इकट्ठा हो गए कि सोशल डिस्टेंसिंग का पालन नहीं हो सका। परमीशन देने वाले अधिकारी को सस्पेंड कर दिया गया है।

जिस जिले में कार्यक्रम हुआ, वहां एक भी संक्रमित नहीं
कर्नाटक में कोरोना के 987 सामने आ चुके हैं। इसमें से 35 लोगों की मौत हो चुकी है। 460 ठीक हो चुके हैं। वहीं जहां पर यह आयोजन हुआ, यानी रामनगर में, वहां कोरोना का एक भी केस नहीं है। लेकिन इस लापरवाही के चलते वहां पर कोरोना फैलने का खतरा बढ़ जाता है। देश में कोरोना के केस 82 हजार से ज्यादा हो चुके हैं। 15 मई तक के आंकड़ों की बात करें तो 51472 एक्टिव केस हैं और 2649 लोगों की मौत हो चुकी है। खुशी की बात यह है कि इसमें 27 हजार से ज्यादा लोग ठीक हो चुके हैं। महाराष्ट्र में सबसे ज्यादा 27524 केस हैं।

धार्मिक आयोजन के नाम पर फैल चुका है कोरोना
धार्मिक आयोजन के चलते सोशल डिस्टेंसिंग की धज्जियां उड़ाने की यह पहली घटना नहीं है। दिल्ली में तब्लीगी जमात से जुड़े लोगों से देश के कई इलाकों में कोरोना संक्रमण फैला।  मध्य प्रदेश के सागर में जैन संत के स्वागत के लिए लोगों का ऐसा जनसैलाब उमड़ा कि सोशल डिस्टेंसिंग की धज्जियां उड़ गईं।