नई दिल्ली. दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल अगले महीने डेनमार्क के कोपेनहेगेन में होने वाले सी 40 शिखर सम्मेलन में हिस्सा लेंगे और प्रदूषण कम करने के अपने सरकार के अनुभव, सम-विषम योजना सहित अन्य मुद्दों पर बोलेंगे। एक आधिकारिक विज्ञप्ति में बताया गया कि दुनिया के सबसे बड़े महानगरों में शुमार दिल्ली के नेता के तौर पर मुख्यमंत्री न्यूयॉर्क, लंदन, पेरिस, लॉस एंजिलिस और बर्लिन जैसे कई शहरों के नेताओं के साथ दुनिया पर जलवायु संकट के प्रभाव पर विचार-विमर्श करेंगे। शिखर सम्मेलन नौ से 12 अक्टूबर तक आयोजित होगा।

मुख्यमंत्री के तौर पर दूसरा विदेश दौरा 
दिल्ली के मुख्यमंत्री का यह दूसरा आधिकारिक विदेश दौरा होगा। पिछले वर्ष सितम्बर में केजरीवाल ने दक्षिण कोरिया के सियोल की यात्रा की थी जहां उन्होंने दिल्ली और सियोल के बीच हुए समझौतों पर हस्ताक्षर किए थे। विज्ञप्ति में कहा गया है, मुख्यमंत्री महानगर में वायु प्रदूषण कम करने के अपनी सरकार के अनुभव पर बोल सकते हैं और दिल्ली सरकार द्वारा उठाए गए कदमों को बताएंगे जिससे महानगर में वायु प्रदूषण में 25 फीसदी तक की कमी आई है। इसमें कहा गया है कि मुख्यमंत्री वायु प्रदूषण को कम करने में सम-विषम योजना जैसे अन्वेषी समाधान पर भी बोल सकते हैं। सम-विषम योजना का तीसरा संस्करण चार से 15 नवम्बर तक लागू होने वाला है।

वायु प्रदूषण पर भी बोलेंगे केजरीवाल 
केजरीवाल शिखर सम्मेलन के दौरान वायु प्रदूषण पर भविष्य की योजना के बारे में भी बोलेंगे। ब्रीद डिपली सत्र के दौरान महानगर के नेता, विशेषज्ञ और व्यावसायिक नेता महानगरों में नये अन्वेषी समाधान पर विचार- विमर्श करेंगे ताकि वायु की गुणवत्ता में सुधार आए। विज्ञप्ति में दिल्ली के पर्यावरण मंत्री कैलाश गहलोत के हवाले से बताया गया है, यह भारत के लिए गौरव का क्षण है कि देश का नेता दुनिया के सामने प्रशासन की सफल कहानी पेश करेगा।

(यह खबर न्यूज एजेंसी पीटीआई भाषा की है। एशियानेट हिंदी की टीम ने सिर्फ हेडलाइन में बदलाव किया है।)