बेंगलुरु. कांग्रेस नेता मल्लिकार्जुन खड़गे ने फ्रांस में रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह द्वारा राफेल की शस्त्र पूजा को तमाशा करार दिया। उन्होंने कहा कि उनकी पार्टी ने बोफोर्स जैसे हथियार खरीदते वक्त भी ऐसा दिखावा नहीं किया। 

खड़गे का बयान रक्षा मंत्री द्वारा राफेल की शस्त्र पूजा करने के एक दिन बाद आया। दरअसल, मंगलवार को फ्रांस ने भारत को आधिकारिक तौर पर पहला राफेल सौंपा था। इस दौरान राजनाथ सिंह ने राफेल की पूजा की थी। उन्होंने राफेल पर ऊं लिखा था। साथ ही उन्होंने नारियल, फूल और नीबू भी चढ़ाए थे। 

खड़गे ने कहा, ऐसा तमाशा करने की कोई जरूरत नहीं थी। हमने बोफोर्स जैसे हथियार खरीदे, उन्हें लेने कोई नहीं गया और ना ही इस तरह का तमाशा किया। राफेल की ताकत को लेकर खड़गे ने कहा कि यह तो वायुसेना के अफसर ही बता सकते हैं कि यह अच्छा है या बुरा।

संजय निरुपम ने खड़गे को बताया नास्तिक
शस्त्र पूजा को लेकर बयानबाजी करने पर कांग्रेस के नेता ही आमने सामने आ गए। पार्टी से नाराज चल रहे संजय निरुपम ने शस्त्र पूजा को तमाशा नहीं कहा जा सकता। यह पुरानी परंपरा है। उन्होंने कहा कि समस्या ये है कि खड़गे जी नास्तिक हैं। लेकिन कांग्रेस में हर कोई नास्तिक नहीं है। 

सोशल मीडिया यूजर्स को नहीं आई पसंद 
खड़गे की ये बात सोशल मीडिया यूजर्स को पसंद नहीं आई। एक यूजर ने लिखा- क्या राहुल जनेऊ और शिवभक्ति तमाशा था। 

एक अन्य यूजर ने लिखा- अगर कांग्रेस हिंदू नहीं है, तो हम क्या कर सकते हैं।