Asianet News Hindi

महबूबा मुफ्ती की युवाओं से अपील, हथियार छोड़कर शांति से बात करें, नहीं तो मौत के अलावा कुछ नहीं मिलेगा

जम्मू कश्मीर की पूर्व मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती ने सोमवार को राज्य के युवाओं से आतंक का रास्ता छोड़ने की अपील की। महबूबा ने कहा, कोई हथियार की भाषा नहीं समझता। अगर आप शांति से अपनी बात कहेंगे, तो तुम्हें दुनिया सुनेगी। अगर तुम बंदूक की भाषा बोलेगे, तो तुम्हें मार दिया जाएगा और तुम्हें कुछ नहीं मिलेगा। 

Mehbooba Mufti says Nobody will understand the language of weapons KPP
Author
Srinagar, First Published Apr 12, 2021, 3:18 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

कश्मीर. जम्मू कश्मीर की पूर्व मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती ने सोमवार को राज्य के युवाओं से आतंक का रास्ता छोड़ने की अपील की। महबूबा ने कहा, कोई हथियार की भाषा नहीं समझता। अगर आप शांति से अपनी बात कहेंगे, तो तुम्हें दुनिया सुनेगी। अगर तुम बंदूक की भाषा बोलेगे, तो तुम्हें मार दिया जाएगा और तुम्हें कुछ नहीं मिलेगा। 

महबूबा मुफ्ती ने कहा, इसलिए मैं जम्मू कश्मीर के युवाओं से बंदूक छोड़कर बात करने की अपील कर रही हूं। वे एक दिन तुम्हें जरूर सुनेंगे। महबूबा मुफ्ती ने कहा, अगर पीएम मोदी असम में आतंकियों को हथियार डालकर मैनस्ट्रीम में शामिल होने की अपील कर सकते हैं। यहां बोडो के साथ बातचीत हो सकती है. तो जम्मू कश्मीर में ऐसा क्यों नहीं हो सकता। यहां जेल के अलावा कोई अन्य विकल्प क्यों नहीं है। यह अन्याय कब तक जारी रहेगा। 

 



हमसे जो छीना गया वह हम अपने देश से मांग रहे- मुफ्ती
मुफ्ती ने कहा, जो कुछ हमसे छीना गया, मैं अपने राष्ट्र से उसे लौटाने के लिए कह रही हूं। अगर आप जम्मू कश्मीर के लोगों को चाहते हैं, तो आपको हमारे सम्मान को लौटाना होगा। इसके अलावा कोई अन्य रास्ता नहीं है। यह मैं अपने देश से कह रही हूं। लेकिन जब भी मैं ये कहती हूं, भाजपा के लोग क्यों नाराज हो जाते हैं? क्या मैं यह पाकिस्तान से मांगूंगी। 

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios