Asianet News HindiAsianet News Hindi

Monsoon Alert: उत्तराखंड और यूपी सहित कई राज्यों में फिर भारी बारिश का दौर, लैंडस्लाइडिंग का खतरा भी

भारतीय मौसम विभाग(IMD) ने उत्तराखंड और यूपी सहित कई राज्यों में भारी बारिश का अलर्ट जारी किया है। बता दें कि उत्तराखंड में शुक्रवार को बाढ़ देहरादून-ऋषिकेश के बीच रानी-पोखरी पुल बह गया था।

Monsoon heavy rain warning in many states including Uttarakhand and UP
Author
New Delhi, First Published Aug 28, 2021, 12:57 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

नई दिल्ली. उत्तराखंड में फिर से भारी बारिश का खतरा मंडरा रहा है। इस दौरान भूस्खलन की आशंका भी है। भारतीय मौसम विभाग(IMD) ने उत्तराखंड और यूपी सहित कई राज्यों में भारी बारिश का अलर्ट जारी किया है। भारी बारिश के चलते पहाड़ी इलाकों में नदियां उफान पर हैं। IMD ने उत्तराखंड (Uttarakhand) और उत्तर प्रदेश (UP) समेत कई जगह हल्की से भारी बारिश (Heavy Rain) की चेतावनी जारी की है। मौसम विभाग ने यूपी के कटरौली, मेरठ, बागपत, नजीबाबाद और आसपास के इलाकों में यह अलर्ट जारी किया है।

31 अगस्त तक यहां भारी बारिश की चेतावनी
IMD ने 28 से 31 अगस्त के दौरान उत्तर पश्चिम भारत के बाकी हिस्सों में हल्की से मध्यम बारिश होने की भविष्यवाणी भी की है। 31 अगस्त तक ओडिशा, आंध्र प्रदेश, तेलंगाना, छत्तीसगढ़, झारखंड, मध्य प्रदेश, गुजरात और महाराष्ट्र में भारी बारिश की उम्मीद है। अगले 3 दिनों के दौरान तटीय और दक्षिण आंतरिक कर्नाटक, तमिलनाडु, केरल और माहे में भारी बारिश संभावना है।

यह भी पढ़ें-Shocking Video: नदी में ऐसा आया बहाव की टूटकर दो टुकड़े हुआ पुल; नीचे जा टपकीं कई गाड़ियां

हिमाचल प्रदेश में लगेंगे 2 और डॉप्लर राडार
मौसम की सटीक जानकारी हासिल करने के मकसद से हिमाचल प्रदेश में दो और डॉप्लर राडार लगाए जाएंगे। ये मंडी और चंबा जिले में लगेंगे। इन डॉप्लर राडार से प्रदेश में 3-5 घंटे पहले मौसम का मिजाज पता चल जाएगा। मौसम विज्ञान केंद्र शिमला के निदेशक सुरेंद्र पॉल ने बताया कि इससे पहले कुफरी में डॉप्लर राडार स्थापित किया गया है। यह 100 किलोमीटर के दायरे में बारिश और बादल फटने जैसी घटनाओं का सटीक अनुमान बता देता है। 

यह भी पढ़ें-राजस्थान सरकार का किसानों पर अत्याचार, 6 लेन की सड़क बनाने किसानों की खड़ी फसल पर चलवा दिया बुलडोजर

यह तस्वीर UNICEF India ने twitter पर शेयर की है। इसमें कहा गया है कि जब तक सरकारें उत्सर्जन(पर्यावरण प्रदूषण का मामला) कम नहीं करतीं, जलवायु अनुकूलन(limate adaptation) मे इन्वेस्ट नहीं करतीं, बच्चों के स्वास्थ्य, शिक्षा और अस्तित्व को खतरा बना रहेगा।

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios