Asianet News HindiAsianet News Hindi

यूएन में मोदी ने कहा, भूकंप, तूफान या इबोला..भारत ने दूसरो की मदद की, कोरोना में भी 150 देशों का दिया साथ

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शुक्रवार को वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए संयुक्त राष्ट्र आर्थिक एवं सामाजिक परिषद (ECOSOC) के सत्र को संबोधित किया। इस दौरान उन्होंने बताया कि भारत ने कोरोना से कैसे लड़ाई लड़ी। उन्होंने बताया कि सरकार ने अर्थव्यवस्था को वापस पटरी पर लाने के लिए क्या-क्या उपाय किए।  

Narendra Modi speech at UN Economic and Social Council kpn
Author
New Delhi, First Published Jul 17, 2020, 8:18 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

नई दिल्ली. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शुक्रवार को वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए संयुक्त राष्ट्र आर्थिक एवं सामाजिक परिषद (ECOSOC) के सत्र को संबोधित किया। इस दौरान उन्होंने बताया कि भारत ने कोरोना से कैसे लड़ाई लड़ी। उन्होंने बताया कि सरकार ने अर्थव्यवस्था को वापस पटरी पर लाने के लिए क्या-क्या उपाय किए। संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद की अस्थाई सदस्यता हासिल होने के बाद पीएम मोदी का यह पहला संबोधन है। पीएम मोदी ने इससे पहले जनवरी 2016 में आसीओएसओसी की 70वीं वर्षगांठ के मौके पर भाषण दिया था। 

"भारत 50 फाउंडर मेंबर्स में से है"

पीएम मोदी ने कहा, भारत 50 फाउंडर मेंबर्स में से है, जो सेकंड वर्ल्ड वार के बाद बने थे। आज यूएन 193 देशों को साथ लाया है। इसके साथ ही यूएन से उम्मीदें भी बढ़ी हैं। कई चुनौतियां भी हैं।

"कोरोना में भारत ने 150 देशों की मदद की"

पीएम मोदी ने कहा, भूकंप हों, तूफान हों, इबोला हो या कोई भी मानव जनित या प्राकृतिक परेशानी हो, भारत ने हमेशा दूसरों की मदद की है। कोरोना की बात करें तो हमने 150 देशों को मदद दी।

"2022 तक हर भारतीय के पास घर होगा"

पीएम मोदी ने कहा, जब भारत एक स्वतंत्र राष्ट्र के रूप में अपने 75साल पूरे करेगा तब हमारा 'हाउसिंग फॉर ऑल' कार्यक्रम 2022 तक प्रत्येक भारतीय के सिर पर एक सुरक्षित छत सुनिश्चित करेगा।

"पूर्ण स्वच्छता प्राप्त करने के लिए मिशन चलाया"

पीएम मोदी ने कहा, हमारे 600000 गांवों में पूर्ण स्वच्छता प्राप्त करके हमने पिछले साल राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की 150वीं जयंती मनाई।

"भारत ने संयुक्त राष्ट्र के विकास कार्यों और ECOSOC का समर्थन किया"

पीएम मोदी ने कहा, शुरुआत से ही भारत ने संयुक्त राष्ट्र के विकास कार्यों और ECOSOC का समर्थन किया है। ECOSOC के पहले अध्यक्ष एक भारतीय थे। भारत ने ECOSOC के एजेंडे को आकार देने में भी योगदान दिया। आज संयुक्त राष्ट्र के 193 सदस्य देश हैं। इसकी सदस्यता के साथ संगठन से उम्मीदें भी बढ़ी हैं। 

"सतत विकास लक्ष्यों को प्राप्त कर रहे हैं"

आज हम अपने घरेलू प्रयासों के माध्यम से फिर से एजेंडा 2030 और सतत विकास लक्ष्यों को प्राप्त करने में एक प्रमुख भूमिका निभा रहे हैं। हम उनके सतत विकास लक्ष्यों को पूरा करने में अन्य विकासशील देशों का भी समर्थन कर रहे हैं। 

"सबका साथ, सबका विकास और सबका विश्वास"

उन्होंने कहा, हमारा मकसद है 'सबका साथ, सबका विकास, जिसका अर्थ है, सबके साथ विकास। जिसमें सबका विश्वास हो। 

'हमने गरीबों के लिए घर बनाए'

पीएम मोदी ने कहा, हमने गरीबों के लिए घर बनाए। उनके इलाज के लिए अयुष्मान भारत योजना लेकर आए। कोरोना से लड़ाई को हमने जन आंदोलन बनाया। अर्थव्यवस्था को वापस ट्रैक पर लाने के लिए विशेष पैकेज की घोषणा की। हम सभी प्राकृतिक आपदाओं से लड़े। हमने आत्मनिर्भर भारत अभियान चलाया।

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios