Asianet News HindiAsianet News Hindi

सुप्रीम कोर्ट ने स्वीकार की NCP, कांग्रेस और शिवसेना की अर्जी, कल 11.30 बजे होगी सुनवाई

महाराष्ट्र में शनिवार सुबह देवेन्द्र फड़णवीस और अजित पवार के सपथग्रहण के खिलाफ कांग्रेस, शिवसेना और NCP की अर्जी सुप्रीम कोर्ट ने स्वाकर कर ली है। सुप्रीम कोर्ट ने रविवार सुबह 11.30 बजे सुनवाई करने का फैसला किया है।

NCP leader Dhananjay Munde and mla arrives in meeting, uddhav meats sena mla
Author
Mumbai, First Published Nov 23, 2019, 6:12 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

मुंबई. महाराष्ट्र में शनिवार सुबह देवेन्द्र फड़णवीस और अजित पवार के सपथग्रहण के खिलाफ कांग्रेस, शिवसेना और NCP की अर्जी सुप्रीम कोर्ट ने स्वाकर कर ली है। सुप्रीम कोर्ट ने रविवार सुबह 11.30 बजे सुनवाई करने का फैसला किया है। इस सुनवाई में सुप्रीम कोर्ट महाराष्ट्र में सरकार बनाने को लेकर इन पार्टियों की कई मागों की सुनवाई करेगा। 

पार्टियों की दिन भर चलीं प्रेस कॉन्फ्रेंस के बाद शरद पवार ने एनसीपी विधायकों की बैठक बुलाई। इस दौरान 54 में से 50 विधायक पहुंचे। इस दौरान 2 विधायक एयरपोर्ट से भी लाए गए। उधर, शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे ने मुंबई में ठहरे अपने विधायकों से मुलाकात की। उन्होंने कहा कि सही दिशा में हमारी बातचीत चल रही है।

एनसीपी की बैठक में राजनीतिक उठापटक के मास्टर माइंड माने जा रहे धनंजय मुंडे ने पहुंचकर सभी को चौका दिया। कहा जा रहा है कि सुबह शपथ ग्रहण के वक्त अजित पवार के साथ पहुंचे 10-12 विधायकों में से 7 विधायक की इस बैठक में पहुंचे। बैठक में एनसीपी प्रमुख शरद पवार ने अजित पवार को विधायक दल के नेता पद से हटा दिया। दिलीप पाटिल को ये पद मिल सकता है। उधर, कांग्रेस के विधायक जयपुर भेजे जा रहे हैं। पहले कहा जा रहा था कि वे मध्यप्रदेश जा सकते हैं।

 

सुप्रीम कोर्ट पहुंची शिवसेना
न्यूज एजेंसी एएनआई के मुताबिक, शिवसेना अजित पवार और उद्धव ठाकरे के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट पहुंची है।  

अजित पवार को भी मनाने की कोशिश
इससे पहले एनसीपी के कुछ वरिष्ठ नेता अजित पवार से मिलने पहुंचे। हालांकि, माना जा रहा है कि अजित पवार ने वापस आने का फैसला किया है। 
 


10-12 विधायक अजित के संपर्क में-शरद पवार
इससे पहले शरद पवार ने कहा कि उन्हें अजित पवार द्वारा भाजपा को समर्थन देने की जानकारी नहीं थी। पवार ने कहा कि अजित पवार कुछ विधायकों के साथ राजभवन पहुंचे, हमें इस बारे में कोई जानकारी नहीं थी। अजित का फैसला पार्टी लाइन के खिलाफ है और अनुशासनहीनता को बताता है। हम उनके खिलाफ कार्रवाई करेंगे। हमें पता चला है कि 10-12 विधायक उनके पास हैं।

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios