Asianet News HindiAsianet News Hindi

10वीं बार 'दिव्य हिमाचल' पहुंचे मोदी ने क्यों मांगी मंच से युवाओं से माफी, पढ़िए PM की पूरी स्पीच

मोदी की मंडी रैली में हरेक कार्यकर्ता को पहचान पत्र जारी किया गया था। यानी इसके बिना किसी को भी एंट्री नहीं मिली। इसका मकसद रैली में सिर्फ अंडर 40 उम्र के युवाओं का ही प्रवेश सुनिश्चित करना था। इस रैली के जरिये भाजपा मानकर चल रही है कि अगर युवाओं ने साथ दिया, तो विधानसभा चुनाव में जीत तय है। 

PM Modi at youth conference in Himachal Pradesh, preparations for assembly elections kpa
Author
First Published Sep 24, 2022, 8:02 AM IST

नई दिल्ली. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी(Prime Minister Narendra Modi) ने आज(24 सितंबर) को हिमाचल के मंडी में 'युवा सम्मेलन' को संबोधित किया। सम्मेलन भाजपा युवा मोर्चा ने आयोजित किया था। पार्टी का दावा है कि इस रैली में प्रदेशभर से 1 लाख युवा पहुंचें। इसमें 40 साल से ऊपर का कोई भी व्यक्ति नहीं था। हिमाचल प्रदेश की करीब 75 लाख की आबादी में 50 लाख 25 हजार 241 मतदाता वोटर हैं। इनमें 21 लाख 50 हजार से अधिक वोटर 18 से 39 साल की उम्र के हैं।  इस रैली के जरिये भाजपा मानकर चल रही है कि अगर युवाओं ने साथ दिया, तो विधानसभा चुनाव में जीत तय है। 

मैं सबसे पहले क्षमाप्रार्थी हूं
हिमाचल प्रदेश में तय कार्यक्रम के तहत मुझे अब तक मंडी पहुंच जाना था, लेकिन मौसम खराब होने की वजह से ऐसा संभव नहीं हो पा रहा है। मैं सबसे पहले क्षमा प्रार्थी हूं, दिल्ली से ही आप सभी से संवाद कर रहा हूं। आजादी के तुरंत बाद जम्मू-कश्मीर से लेकर कारगिल युद्ध तक हिमाचल के जांबाजों ने सर्वोच्च बलिदान देकर मां भारती का सिर ऊंचा रखा है। हिमाचल की युवा शक्ति ने हमेशा अलग-अलग मोर्चों पर देश को गौरवान्वित होने का अवसर दिया है। पहाड़ी गांधी बाबा कांशी राम समेत हिमाचल के अनेक सेनानियों ने आजादी के आंदोलन में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है।

युवाओं को अधिक अवसर देना भाजपा की प्राथमिकता
मोदी ने कहा-युवाओं को ज्यादा से ज्यादा अवसर देना, हमेशा से भाजपा की सर्वोच्च प्राथमिकता रही है। मुख्यमंत्री हों, सांसद हों, मंत्री हों, भाजपा देश का वो राजनीतिक दल है जिसमें हर जगह युवाओं का प्रतिनिधित्व सबसे अधिक है। ऐसा इसलिए है, क्योंकि भाजपा देश के युवाओं पर हिमाचल के युवाओं पर सबसे अधिक भरोसा करती है।

युवा शक्ति औरआजादी का अमृतकाल
मोदी ने कहा-अब देश की युवा शक्ति मिलकर आजादी के अमृत काल में भारत को विकसित राष्ट्र बनाने का संकल्प पूरा करेगी। अब देश की युवा शक्ति मिलकर आजादी के अमृत काल में भारत को विकसित राष्ट्र बनाने का संकल्प पूरा करेगी। हिमाचल के लोग, हिमाचल के युवा भी, भाजपा सरकार की वापसी का मन बना चुके हैं। हिमाचल के युवा जानते हैं कि साफ नीयत के साथ, ईमानदार नीयत के साथ हिमाचल का विकास कोई कर सकता है, तो वो भाजपा ही है। देश में दवाओं के रॉ-मैटेरियल में आत्मनिर्भरता के लिए आज जो काम चल रहा है, उसके लिए तीन राज्यों को चुना गया है। जिसमें से एक है अपना हिमाचल प्रदेश। जहां बल्क ड्रग्स पार्क बनाया जा रहा है। देश के चार राज्यों में मेडिकल डिवाइस पार्क बनाए जा रहे हैं, उसमें भी हिमाचल एक राज्य है। अमृतकाल में भारत की अर्थव्यवस्था को, देश में रोजगार निर्माण को एक बड़ा बल जिस सेक्टर से मिलने वाला है, वो है हमारा टूरिज्म सेक्टर। मैं खुद भी हिमाचल की देव संस्कृति और हिमाचल के हस्तशिल्पियों से बहुत अभीभूत रहता हूं।

भाजपा ही कर सकती है हिमाचल का विकास
मोदी ने कहा-हिमाचल के लोग, हिमाचल के युवा भी, भाजपा सरकार की वापसी का मन बना चुके हैं। हिमाचल के युवा जानते हैं कि साफ नीयत के साथ, ईमानदार नीयत के साथ हिमाचल का विकास कोई कर सकता है, तो वो भाजपा ही है। हिमाचल के लोग, हिमाचल के युवा भी, भाजपा सरकार की वापसी का मन बना चुके हैं। हिमाचल के युवा जानते हैं कि साफ नीयत के साथ, ईमानदार नीयत के साथ हिमाचल का विकास कोई कर सकता है, तो वो भाजपा ही है।

https://t.co/7aKbuNi5eP

अपने प्रधानमंत्री कार्यकाल में 10वीं बार हिमाचल आए 
हिमाचल प्रदेश में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 10वीं बार पहुंचे हैं। यानी केंद्र सरकार के 8 साल व हिमाचल में भाजपा के करीब 5 साल में मोदी का यह 10वां दौरा है। पहली बार 27 दिसंबर, 2017 शपथ ग्रहण समारोह में मोदी आए थे। इससे पहले इंदिरा गांधी और अटल बिहारी वाजपेयी ही प्रधानमंत्री रहते हुए हिमाचल के दौरे में आए थे। इंदिरा गांधी ने 25 जनवरी, 1971 को पूर्ण राज्यत्व की घोषणा के पहले समारोह में शिमला रिज मैदान में शिरकत की थी। इससे पहले वे 1972 में भारत-पाकिस्तान के शिमला समझौते के लिए पहुंची थी। इंदिरा गांधी और भी कई बार यहां आ चुकी हैं। दिलचस्प यह है कि इस रैली में हरेक कार्यकर्ता को पहचान पत्र जारी किया गया था। यानी इसके बिना किसी को भी एंट्री नहीं दी गई। इसका मकसद रैली में सिर्फ अंडर 40 उम्र के युवाओं का ही प्रवेश सुनिश्चित करना था। इससे पहले भाजपा ने त्रिदेव सम्मेलन में पहचान पत्र जारी किए थे, हालांकि तब आयु की कोई सीमा नहीं थी।

ये रहे अब तक दौरे
पहल दौरा-
27 दिसंबर, 2017 में शपथ ग्रहण समारोह

दूसरा दौरा-2017 में ही मंडी के सुंदरनगर में भाजपा की रैली 

तीसरा दौरा- 2018 में लाभार्थी रैली के लिए धर्मशाला पहुंचे थे

चौथा दौरा-10 मई, 2019 को लोकसभा चुनावों की रैली में मंडी आए थे

पांचवां दौरा-2019 में 7 नवंबर को इन्वेस्टर मीट के शुभारंभ मौके पर धर्मशाला पहुंचे थे

छठवां दौरा-2020 में अटल टनल रोहतांग का उद्घाटन करने आए थे

सातवां दौरा-भाजपा के चौथे वर्ष का जश्न के लिए मंडी में 27 दिसंबर, 2021 को एक कार्यक्रम में आए थे

आठवां दौरा-31 मई को गरीब कल्याण समारोह के लिए पीएम शिमला आए थे।

नवां दौरा-16-17 जून को पीएम नरेंद्र मोदी पहली बार आयोजित किए गए मुख्य सचिव सम्मेलन की अध्यक्षता करने के लिए  आए थे

10वां दौरा-24 सितंबर को छोटी काशी मंडी में युवा संकल्प रैली के लिए आए थे

150 नए CCTV कैमरा लगाए गए हैं
बीजेपी युवा मोर्चा की इस संकल्प रैली(BJP Yuva Morcha Sankalp Rally) के दौरान सिक्योरिटी के मद्देनजर पुलिस ने कड़े इंतजाम किए गए थे। मोदी के सभास्थल के समीप 150 नए सीसीटीवी कैमरे इन्स्टॉल किए गए गए थे। 5 ड्रोन कैमरे भी मुस्तैद रहे। 23 सितंबर को इस संबंध में जानकारी देते हुए एसपी मंडी शालिनी अग्निहोत्री ने बताया कि रैली के दौरान पुलिस के 1600 और होमगार्ड के 200 जवान सुरक्षा और ट्रैफिक का जिम्मा संभालेंगे। जिस पडुल मैदान पर मोदी की सभा हो रही है, उसे 13 सेक्टरों, जबकि शहर के ट्रैफिक को 4 सेक्टरों में बांटा गया था। 4 जगहों पर पुलिस नाके भी लगाए गए थे, ताकि संदिग्ध गतिविधियों पर नजर रखी जा सके। सभा स्थल पर 6 एंट्री गेट और 40 एग्जिट गेट बनाए गए थे। सभास्थल पर मोबाइल के अलावा कोई दूसरी चीज ले जाने की मनाही थी।

यह भी पढ़ें
22 सितंबर: राहुल गांधी ने जुमा मस्जिद से शुरू की थी Bharat Jodo Yatra, भागवत तो मस्जिद ही पहुंच गए
PM मोदी का आक्रोश-'अर्बन नक्सलियों ने सालों सरदार सरोवर बांध का काम रोके रखा, ये लोग अभी भी सक्रिय हैं'

 

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios