Asianet News HindiAsianet News Hindi

पुलिस ने कहा- गांजा रखने के आरोप में गिरफ्तार महिला को फंसाया गया था

घटना के बाद शोभा ने केरल के मुख्यमंत्री और डीजीपी को लेटर लिखकर न्याय की मांग की थी। इसके बाद सीएम ने मामले की क्राइम ब्रांच जांच के आदेश दिए।

police find Kerala woman arrested for possessing ganja was framed by stalker pwa
Author
Thiruvananthapuram, First Published Jun 26, 2021, 4:17 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

तिरुवनंतपुरम. जनवरी, 2021 में केरल में एक महिला को तिरुवनंतपुरम में उसके कपड़ों की दुकान से 850 ग्राम गांजा मिलने के बाद गिरफ्तार किया गया था। वीवर विलेज स्टोर चलाने वाली शोभा विश्वनाथ को अगले दिन जमानत मिल गई, लेकिन उनका कारोबार बुरी तरह प्रभावित हुआ। हाल के एक घटनाक्रम में, यह पता चला है कि उसे एक फ्रेंड (male friend) ने फंसाया था जो उसका पीछा कर रहा था। उसे 31 जनवरी, 2021 को नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो ने गिरफ्तार किया था।

इसे भी पढ़ें- स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा- राज्यों के पास है वैक्सीन की 1.45 करोड़ डोज, अभी तक भेजी 31.17 करोड़ खुराक

घटना के बाद शोभा ने केरल के मुख्यमंत्री और डीजीपी को लेटर लिखकर न्याय की मांग की थी। इसके बाद सीएम ने मामले की क्राइम ब्रांच जांच के आदेश दिए। अप्रैल में, तिरुवनंतपुरम क्राइम ब्रांच ने उप पुलिस अधीक्षक अम्मिनिकुट्टन एस (Deputy Police Superintendent Amminikuttan S) ने न्यायिक प्रथम श्रेणी मजिस्ट्रेट कोर्ट (Judicial First Class Magistrate Court) को एक रिपोर्ट सौंपी, जिसमें कहा गया कि शोभा मामले में शामिल नहीं थी और उसका नाम एफआईआर से हटा दिया गया था। इसने यह भी कहा कि मामले में लॉर्ड्स अस्पताल के मालिक डॉ हरिदास के बेटे हरीश और वीवर विलेज के औपचारिक कर्मचारी विवेक राज को भी आरोपी बनाया जाएगा।

हरीश और शोभा कथित तौर पर दोस्त (reportedly friends) थे। उसने मीडिया को बताया कि उसने उसके एक प्रस्ताव को अस्वीकार कर दिया था, जिसने शायद उसे गांजा मामले में फंसाया। पुलिस ने यह भी पाया कि विवेक ने कपड़े की दुकान में एक अन्य महिला कर्मचारियों की मदद से गांजा को छिपा दिया था, ताकि हरीश की साजिश के अनुसार शोभा को फंसाया जा सके।

एशियानेट न्यूज से बता करते हुए शोभा ने कहा था, मैंने कुछ महीने पहले 'नहीं' कहा था, शायद इसीलिए ऐसा किया गया था। मैंने पुलिस को सूचित किया था कि या तो यह मेरे पूर्व पति द्वारा किया गया था, या यह व्यक्ति जो मेरे कहने के बाद से मेरा पीछा कर रहा था और मुझे प्रताड़ित कर रहा था। मैंने छह महीने तक यह लड़ाई लड़ी क्योंकि मैं उस नाम को खोना नहीं चाहता था जिसे मैंने पिछले 10 वर्षों में एंटरप्रोन्यर बनाने के लिए संघर्ष किया था। 

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios