नई दिल्ली. दिल्ली में गुरुवार और शुक्रवार को किसानों का विशाल प्रदर्शन होने वाला है। कृषि कानूनों के विरोध में पंजाब और हरियाणा के किसानों ने दिल्ली चलो का आह्वान किया है। दावा किया जा रहा है कि भारतीय किसान यूनियन के बैनर तले हजारों किसान दिल्ली में प्रदर्शन करेंगे। किसानों को रोकने के लिए हरियाणा सरकार और दिल्ली पुलिस ने पूरी तैयारी कर ली है।

बदरपुर सीमा पर पुलिस सहित सीआरपीएफ के जवान तैनात
किसानों के विरोध मार्च को रोकने के लिए गुरुवार सुबह दिल्ली की बदरपुर सीमा पर बैरिकेड और क्रेन लगाए गए। दिल्ली पुलिस के जवानों के साथ ही केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल (सीआरपीएफ) के जवानों को भी बदरपुर सीमा पर तैनात किया गया है। 

पुलिस ने कहा, हमने पहले ही विरोध के लिए मना कर दिया है
दिल्ली पुलिस ने बुधवार को एक ट्वीट में कहा, 26 और 27 नवंबर को दिल्ली में विरोध के संबंध में विभिन्न किसान संगठनों से प्राप्त सभी अनुरोधों को अस्वीकार कर दिया गया है और आयोजकों को पहले ही सूचित कर दिया गया है।

हरियाणा ने पंजाब के साथ की सीमाओं को सील कर दिया है
दूसरी ओर हरियाणा सरकार ने गुरुवार और शुक्रवार के लिए पंजाब के साथ अपनी सभी सीमाओं को सील करने का फैसला किया। 

हरियाणा से पंजाब जाने वाली बस दो दिनों के लिए बंद रहेगी
इसके अलावा हरियाणा के परिवहन मंत्री मूलचंद शर्मा ने कहा कि किसानों के विरोध मार्च के मद्देनजर राज्य से पंजाब के लिए बस सेवाओं को भी अगले दो दिनों के लिए निलंबित कर दिया गया है। 

कई किसान नेताओं को पहले ही हिरासत में लिया जा चुका है
कई किसान नेताओं को मंगलवार को हरियाणा पुलिस ने हिरासत में ले लिया। किसानों के प्रदर्शन को देखते हुए दिल्ली मेट्रो ने अपनी टाइमिंग में कुछ बदलाव किया है। इसकी वजह से दोपहर 2 बजे तक दिल्ली से नोएडा, फरीदाबाद, गाजियाबाद और गुरुग्राम तक मेट्रो सेवाओं पर रोक रहेगी।