Asianet News Hindi

राहुल गांधी ने ट्वीट किया फर्जी वीडियो, सीएम योगी ने कहा- आपने जीवन में सत्य नहीं बोला, शर्म आनी चाहिए

मुस्लिम बुजुर्ग के साथ मारपीट करने वाले व बदसलूकी करने वाले युवक भी मुस्लिम ही थे। वह सांप्रदायिक सौहार्द बिगाड़ने की कोशिश में फर्जी नाम से वीडियो डाले थे। इन लोगों ने एक समाज विशेष के खिलाफ जनभावना भड़काने की कोशिश की थी लेकिन नाकाम साबित हुए। 

Rahul Gandhi tweets a fake viral video, UP CM Yogi Adityanath given reply on his tweet
Author
New Delhi, First Published Jun 15, 2021, 7:25 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

नई दिल्ली। यूपी में चुनाव अगले साल है लेकिन राजनैतिक गर्मी अभी से बढ़ने लगी है। गाजियाबाद में एक बुजुर्ग की पिटाई का वीडियो वायरल होने के बाद कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने ट्वीट कर अपनी प्रतिक्रिया दी है। राहुल की प्रतिक्रिया पर यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने पलटवार किया है। 

यह भी पढ़ेंः बसपा से निकाले गए 11 विधायक बनाएंगे नई पार्टी, एक विधायक की जरूरत

सीएम योगी बोलेः पुलिस द्वारा सच्चाई बताने के बाद भी आप समाज में जहर फैला रहे

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने ट्वीट किया है कि प्रभु श्रीराम की पहली सीख है-‘सत्य बोलना’ जो कभी आपने जीवन में किया नहीं। शर्म आनी चाहिए कि पुलिस द्वारा सच्चाई बताने के बाद भी आप समाज में जहर फैलाने में लगे हैं। सत्ता के लालच में मानवता को शर्मसार कर रहे हैं। उत्तर प्रदेश की जनता को अपमानित करना, उन्हें बदनाम करना छोड़ दें 

 

राहुल ने किया ट्वीटः श्रीराम के सच्चे भक्त ऐसा नहीं कर सकते

गाजियाबाद प्रकरण में कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने ट्वीट किया कि मैं यह मानने को तैयार नहीं हूं कि श्रीराम के सच्चे भक्त ऐसा कर सकते हैं। ऐसी क्रूरता मानवता से कोसों दूर है और समाज व धर्म दोनों के लिए शर्मनाक। 

 

यह है गाजियाबाद का मामला

गाजियाबाद का एक वीडियो वायरल हुआ है। इस वीडियो के अनुसार गाजियाबाद के लोनी बार्डर पर आॅटो में एक बुजुर्ग बैठे। Auto में दो लोग उनके पास आकर बैठ गए। कनपटी पर बंदूक रखकर दाढ़ी काटी और जय श्रीराम न कहने पर पिटाई कर दी। हालांकि, गाजियाबाद पुलिस ने इस मामले में तेजी से कार्रवाई करते हुए दो लोगों को गिरफ्तार किया। गिरफ्तारी के बाद हुए पूछताछ में पता चला कि मुस्लिम बुजुर्ग के साथ मारपीट करने वाले व बदसलूकी करने वाले युवक भी मुस्लिम ही थे। वह सांप्रदायिक सौहार्द बिगाड़ने की कोशिश में फर्जी नाम से वीडियो डाले थे। इन लोगों ने एक समाज विशेष के खिलाफ जनभावना भड़काने की कोशिश की थी लेकिन नाकाम साबित हुए। 

यह भी पढ़ेंः इधर चिराग ने चाचा समेत 5 सांसदों को पार्टी से बाहर किया, उधर पशुपति ने बना दिया LJP का नया अध्यक्ष
 

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios