भोपाल. मध्य प्रदेश में राज्यसभा चुनाव होने के बाद विधायकों में कोरोना खतरे का डर बढ़ गया है। शनिवार को मालवा से भाजपा विधायक कोरोना पॉजिटिव पाए गए। उनकी पत्नी भी कोरोना से संक्रमित है। खतरे की बात यह है कि यह विधायक शुक्रवार को राज्यसभा चुनाव में मतदान के लिए विधानसभा पहुंचे थे। जैसे ही विधायक के संक्रमित होने की खबर आई, सुबह सुबह ही विधायक जेपी अस्पताल पहुंच कोरोना के टेस्ट कराने लगे।

राज्यसभा चुनाव के सिलसिले में भाजपा विधायक दल की बैठक फिर डिनर

गुरुवार को राज्यसभा चुनाव के सिलसिले में भोपाल में हुई भाजपा विधायक दल की बैठक में भी शामिल हुए थे। इस बैठक में केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर, केंद्रीय मंत्री नरेंद्र तोमर और सीएम शिवराज सहित सभी विधायक मौजूद थे। उनके साथ संगठन के भाजपा प्रदेश प्रभारी विनय सहस्त्रबुद्धे, उपाध्यक्ष बी जे पांडा भी थे। बैठक के बाद डिनर भी हुआ, जिसमें भाजपा के संक्रमित विधायक भी शामिल हुए। इसके ठीक अगले दिन शुक्रवार को राज्यसभा चुनाव में वोटिंग के लिए वो विधानसभा भवन आए थे और अपना वोट डाला था। 

206 विधायकों का कोरोना टेस्ट कराने की मांग 

संक्रमित भाजपा विधायक कई लोगों के व्यक्तिगत संपर्क में भी थे। अब प्रदेश के सभी 206 विधायकों का टेस्ट कराने की मांग भी उठने लगी है।

कई विधायक खुद को करेंगे सेल्फ क्वारंटीन
कई विधायकों ने खुद को सेल्फ क्वारंटीन करने का फैसला किया है। बता दें कि 24 घंटे में 47 लोग कोरोना पॉजिटिव पाए गए। राजधानी में बंगरसिया सीआरपीएफ के कैंपस से 3 जवान कोरोना पॉजिटिव मिले हैं। जीएमसी की एक महिला डॉक्टर की रिपोर्ट भी पॉजिटिव आई है।

मध्यप्रदेश से कांग्रेस के दिग्विजय सिंह और भाजपा से ज्योतिरादित्य सिंधिया और सुमेर सिंह सोलंकी की जीत हुई। इससे पहले मध्यप्रदेश में तीन सीटों के लिए वोटिंग हुई। आखिरी में वोट डालने पीपीई किट पहनकर विधानसभा पहुंचे कांग्रेस के कोरोना पॉजिटिव विधायक कुणाल चौधरी। उनका वोट अलग से लिफाफे में रखा गया।