Asianet News Hindi

कई राज्यों में फैला है धर्मांतरण नेटवर्क, उमर गौतम 22 बार अमेरिका- इंग्लैंड है जा चुका, NIA कर सकती है जांच

यूपी एटीएस ने 2 मौलानाओं को गिरफ्तार किया है जो हिंदुओं का धर्म परिवर्तन कराने का अभियान चला रहे थे। ATS के हत्थे चढ़े  मौलाना जहांगीर और उमर गौतम लखनऊ के बड़े मुस्लिम संस्थान से जुड़े हुए हैं। जिनका उद्देशय होता था गरीब लोगों को पैसा का लालच देकर धर्म परिवर्तन करारक मुश्लिम बनाना। बताया जाता है कि वह अब तक हजारों लोगों को धर्म परिवर्तन करा चुके हैं। जिसमें मूक बधिर और महिलाएं भी शामिल हैं।

Religion conversion network is spread in 7 states, case shall be transferred to  NIA, Know the related facts DHA
Author
New Delhi, First Published Jun 23, 2021, 11:38 AM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

नई दिल्ली। धर्मांतरण रैकेट चलाने वाले मौलाना उमर गौतम और मोहम्मद जहांगीर का नेटवर्क देश के सात से अधिक राज्यों व विदेशों में भी फैला हुआ है। यूपी एटीएस की जांच में विदेशी बैकअप का सच आने के बाद अब एनआईए की भी एंट्री इसकी पड़ताल में हो सकती है। सूत्रों की मानें तो नोएडा के जिस मूक-बधिर स्कूल में हिंदुओं का धर्म परिवर्तन कराया जाता था, वहां देश विरोधी गतिविधियों के लिए भी ट्रेनिंग दी जाती थी। इस ट्रेनिंग में छात्रों को भ्रमित किया जा सके इसके लिए कश्मीरी स्टूडेंट्स को टूल बनाया जाता था।

कई राज्यों में फैला है धर्मांतरण का नेटवर्क 

एटीएस के हत्थे चढ़े मौलाना उमर गौतम और मोहम्मद जहांगीर के धर्मांतरण का नेटवर्क केवल यूपी के शहरों में ही नहीं बल्कि कई राज्यों में फैला है। केरल, असम, जम्मू-कश्मीर, महाराष्ट्र, दिल्ली और तमिलनाडु में इस नेटवर्क के होने की बात कही जा रही है। धर्मांतरण नेटवर्क कहां-कहां किस किस राज्य में है नोएडा की डेफ सोसाइटी की संचालिका रोमा रोका ने एटीएस को बताया है। 

यह भी पढ़ेंः मौलाना उमर ही श्याम सिंह गौतम? 20 वर्ष की उम्र में बना मुसलमान, अपनी कहानी बता सैकड़ों का कराया धर्मांतरण

उमर गौतम के वीडियो में खुलासा-कई देशों की यात्रा किया

एटीएस ने अपनी जांच में उमर गौतम का एक वीडियो पाया है। इस वीडियो से पता चला है कि उमर एक दर्जन से अधिक बार विदेश यात्रा कर चुका है। सूत्रों की मानें तो वह 18 बार इंग्लैंड और 4 बार यूएसए जा चुका है। एजेंसियों को शक है कि विदेश यात्रा का उद्देश्य अपने गैर कानूनी काम के लिए फंड जुटाना भी हो सकता है। 

यह भी पढ़ेंः जम्मू-कश्मीरः सीआईडी इंस्पेक्टर की श्रीनगर में आतंकवादियों ने मारी गोली, नमाज पढ़कर लौट रहे थे

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios