Asianet News HindiAsianet News Hindi

Independence Day: अराजक तत्व '26 जनवरी' न दुहरा पाएं, इसलिए कड़ी निगरानी में लाल किला, कश्मीर में हाईअलर्ट

15 अगस्त (Independence Day)को किसानों ने दिल्ली में ट्रैक्टर रैली निकालने के ऐलान के बाद पुलिस हाईअलर्ट पर है। पुलिस किसी भी कीमत पर लाल किले पर 26 जनवरी को हुई हिंसा दुहराने देना नहीं चाहती।

Security arrangements in Delhi and Jammu and Kashmir on high alert on Independence Day
Author
New Delhi, First Published Aug 14, 2021, 1:05 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

नई दिल्ली. देश अपनी आजादी का 75वां वर्ष अमृत महोत्सव के रूप में मना रहा है। 15 अगस्त की तैयारियों के मद्देनजर दिल्ली और जम्मू-कश्मीर में विशेष सुरक्षा इंतजाम किए गए हैं। दिल्ली में किसानों के आंदोलन और खालिस्तानी आतंकवादियों की धमकी के बाद सुक्षा व्यवस्था हाईअलर्ट पर है। वहीं, जम्मू-कश्मीर में धारा 370 हटने के बाद से आतंकवादी संगठन बौखलाए हुए हैं।

दिल्ली में 9 एंटी ड्रोन तैनात, 500 स्पेशल जवान ड्यूटी पर
लंबे समय से कृषि कानूनों के खिलाफ दिल्ली के बॉर्डर पर धरने पर बैठे किसान नेताओं ने धरनास्थल पर झंडा फहराने और फिर वहां से ट्रैक्टर रैलियां निकालने का ऐलान किया है। हालांकि किसान नेता राकेश टिकैत कह चुके हैं कि रैलियां दिल्ली में प्रवेश नहीं करेंगी, फिर भी पुलिस अलर्ट है। क्योंकि 26 जनवरी को लाल किले पर हुई हिंसा के बाद सुरक्षा व्यवस्था की काफी किरकरी हुई थी। हालांकि इस बार किसानों ने रैली के लिए कोई अनुमति नहीं मांगी है। इससे अंदाजा है कि दिल्ली में कोई बड़ी रैली नहीं होगी। वैसे पुलिस का कहना है कि अगर अनुमति मांगी भी जाती, तो नहीं मिलती।

मानसून सत्र के दौरान जंतर-मंतर पर धरना
किसानों ने मानसून सत्र के दौरान दिल्ली के जंतर-मंतर पर समानांतर संसद चलाने की घोषणा की थी। पुलिस ने उन्हें धरने पर बैठने की अनुमति दी थी। हालांकि 11 अगस्त को ससंद का सत्र अनिश्चितकाल के लिए स्थगित हो चुका है।

यह भी पढ़ें-PM ने बंटवारे को बताया भयंकर त्रासदी, 'विभाजन विभीषिका स्मृति दिवस' के रूप में मनाया जाएगा 14 अगस्त

खालिस्तानी आतंकवादियों की धमकी के बाद अलर्ट
दिल्ली में लाल किले पर 9 एंटी ड्रोन, 300 सीसीटीवी और 500 जवानों के हाथों में सुरक्षा व्यवस्था है। इसके अलावा दिल्ली में 40 हजार पुलिसकर्मी अलग से तैनात रहेंगे। दरअसल, खालिस्तानी आतंकवादियों ने 15 अगस्त पर गड़बड़ी फैलाने की धमकी दी थी। इसे लेकर भी पुलिस अलर्ट है। पुलिस ने लाल किले के आसपास 6 आतंकवादियों के पोस्टर चिपकाए हैं।

जम्मू कश्मीर में भी अलर्ट
धारा 370 (Article 370) हटाने जाने के बाद से आतंकवादी बौखलाए हुए हैं। उस पर सुरक्षाबल ताबड़तोड़ एनकाउंटर कर रहे हैं। इसके बाद से आतंकवादी अब भाजपा नेताओं को टारगेट(Target) कर रहे हैं। खासकर, 15 अगस्त का जश्न खराब करने के मकसद से हमले बढ़ गए हैं। गुरुवार को राजौरी जिले में भाजपा नेता जसबीर सिंह पर आतंकवादियों ने ग्रेनेड फेंका। इस हमले में 5 लोग घायल हुए थे। 

pic.twitter.com/OK4JPtlpzb

15 अगस्त से पहले सर्चिंग बढ़ी
15 अगस्त को देखते हुए जम्मू-कश्मीर में सुरक्षाबलों की सर्चिंग बढ़ गई है। वहीं, इस हमले के बाद इलाके में लगातार सर्चिंग जारी है। इस हमले में घायलों का अस्पताल में इलाज चल रहा है। आतंकवादी लगातार भाजपा नेताओं को निशाना बना रहे हैं। बता दें कि स्वतंत्रता दिवस समारोह के दौरान किसी भी अप्रिय घटना को रोकने के लिए जम्मू-कश्मीर में जमीनी और हवाई निगरानी के साथ बहुस्तरीय सुरक्षा व्यवस्था की गई है। श्रीनगर में उपराज्यपाल मनोज सिन्हा यहां शेर-ए-कश्मीर क्रिकेट स्टेडियम में होने वाले मुख्य स्वतंत्रता दिवस समारोह की अध्यक्षता करेंगे। डीडीसी अध्यक्ष अपने-अपने जिलों में होने वाले समारोह में मुख्य अतिथि होंगे। एलजी के सलाहकार आर आर भटनागर जम्मू के एम ए स्टेडियम में समारोह की अध्यक्षता करेंगे। 

यह भी पढ़ें
स्वतंत्रता दिवस: आजादी के वे नारे जिन्होंने हिला दी थीं अंग्रेजी हुकूमत की जड़ें
क्या है राष्ट्रीय ध्वज तिरंगे का मतलब? अपमान करने वालों के लिए निर्धारित है ये सजा

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios