Asianet News Hindi

शीला दीक्षित के जन्म से लेकर मौत तक की सारी डिटेल, इतने करोड़ की थीं मालकिन

31 मार्च 1938 को पंजाब के कपूरथला में पैदा हुईं शीला दीक्षित आज हमारे बीच नहीं हैं। 20 जुलाई 2019 को उन्होंने फोर्टिस अस्पताल में अंतिम सांसें ली। शीला दीक्षित जितनी बेहतरीन पॉलिटिशियन थीं, उससे भी कई ज्यादा प्रतिभाशाली महिला थीं। 

sheila dikshit personal details from life to death
Author
Delhi, First Published Jul 20, 2019, 6:07 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

नई दिल्ली: शीला दीक्षित की पर्सनल लाइफ के बारे में काफी कम लोग जानते हैं। आज हम आपको उनकी जिंदगी से जुड़े डिटेल्स के बारे में बताने जा रहे हैं।

  
पर्सनल लाइफ:
81 साल की उम्र में दुनिया को अलविदा कहने वाली शीला दीक्षित का होम टाउन दिल्ली ही था। उनके माता-पिता के नाम की जानकारी नहीं है। हालांकि, उनकी बहनें पाम मल्होत्रा और रमा धवन के बारे में लोग जानते हैं। बात अगर शीला दीक्षित की प्रॉपर्टी के बारे में करें तो 2019 के चुनाव में दाखिल जानकारी के मुताबिक, वो 5 करोड़ की मालकिन थीं। उन्होंने अपने आखिरी चुनाव में हार का मुंह देखा।  


शिक्षा:
उनकी स्कूली शिक्षा नई दिल्ली के कान्वेंट ऑफ जीसस एंड मैरी स्कूल से हुई थी। इसके बाद उन्होंने दिल्ली यूनिवर्सिटी के मिरांडा हाउस से कॉलेज पूरा किया। उन्होंने हिस्ट्री से मास्टर्स किया और साथ ही पीएचडी कर डॉक्टरेट की उपाधि भी पाई।

 

परिवार में कौन?
शीला दीक्षित ने आईपीएस अधिकारी विनोद दीक्षित से शादी की थी। ये लव मैरिज थी, जिसके लिए दोनों को अपने परिवार को समझाना पड़ा था। इस कपल की एक बेटी लतिका सईद और एक बेटा संदीप दीक्षित हैं। लतिका जहां अपनी असफल वैवाहिक जीवन के कारण चर्चा में रहीं, वहीं उनके बेटे भी राजनीति में जाना-पहचाना नाम हैं। 

 

राजनीतिक सफर: 
शीला दीक्षित इंडियन नेशनल कांग्रेस से जुड़ी थीं।

 
-1970 में उन्होंने यंग वीमेन एसोसिएशन की चेयरपर्सन के रूप में राजनीतिक सफर की शुरुआत की थी। 
-1984 में वो यूपी के कन्नौज से पार्लियामेंट की मेंबर चुनी गई थी। 
-1986 से 89 तक वो यूनियन मिनिस्टर रहीं। 
-1998 में वो पहली बार दिल्ली की मुख्यमंत्री बनीं। इसके बाद 2003 और 2008 में लगातार वो सीएम की कुर्सी पर काबिज रहीं। 
-2013 में वो दिल्ली विधानसभा चुनाव हार गईं और सीएम पद से इस्तीफा दे दिया।  
-2014 में उन्हें केरल का राज्यपाल नियुक्त किया गया लेकिन 5 ही महीने बाद उन्हें इस्तीफा देना पड़ा। 
-2019 में अपने आखिरी चुनाव में उन्हें मनोज तिवारी से विधानसभा चुनाव में हाल झेलनी पड़ी।  

 

पर्सनल शौक
शीला दीक्षित ने अपनी किताब में कई बातों का जिक्र किया था। इसमें उन्होंने बताया कि वो सोनिया गांधी से काफी प्रभावित थीं। साथ ही उन्हें खाने में एग टोस्ट, चीज, पपीता, आलू गोभी की सब्जी, पास्ता और कोल्ड कॉफी काफी पसंद थी। एक्टर्स में उन्हें ग्रेगोरी पेक और रॉक हसडन पसंद थे। उनकी पसंदीदा किताब ऐलिस एडवेंचर इन वंडरलैंड थी।   

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios