Asianet News HindiAsianet News Hindi

हमीदिया में आग : NCPCR ने कहा- जांच के लिए टीम बनाएं, स्वास्थ्य विभाग का कोई अफसर न हो

भोपाल स्थित हमीदिया अस्पताल के एसएनसीयू (SNCU) में आग लगने से सोमवार रात 4 बच्चों की मौत हो गई थी। राष्ट्रीय बाल अधिकार संरक्षण आयोग (NCPCR) ने मामले की जांच के लिए टीम गठित कर तीन दिन में रिपोर्ट देने को कहा है।

team to investigate fire in Hamidia
Author
New Delhi, First Published Nov 9, 2021, 11:02 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

नई दिल्ली। राष्ट्रीय बाल अधिकार संरक्षण आयोग (NCPCR) ने मंगलवार को कहा कि मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल (Bhopal) के हमीदिया अस्पताल में साेमवार रात आग लगने की घटना की जांच के लिए वरिष्ठ अधिकारियों की एक टीम बनाएं। NCPCR प्रमुख प्रियंक कानूनगो ने मध्य प्रदेश (MP) के मुख्य सचिव से कहा है कि घटना की जांच के लिए जो टीम गठित की जाए, उसमें मध्य प्रदेश के स्वास्थ्य विभाग या चिकित्सा शिक्षा विभाग के अधिकारी शामिल नहीं होने चाहिए। आयोग ने 3 दिनों के भीतर प्राथमिक कार्रवाई रिपोर्ट भी मांगी है। गौरतलब है कि भोपाल के हमीदिया अस्पताल के SNCU में सोमवार रात आग लगने के कारण 4 नवजातों की मौत हो गई थी।

सीएम के आदेश पर जांच शुरू 
SNCU में आग लगने के बाद मंगलवार शाम तक कुल 8 बच्चों के शव पोस्टमार्टम के लिए मर्चुरी पहुंचाए गए। हालांकि, हमीदिया प्रशासन का कहना है कि आग लगने से सिर्फ 4 बच्चों की मौत हुई है। इस बीच, पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने घटना के दोषियों पर हत्या का मामला दर्ज करने की मांग उठाई है। घटना को लेकर मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के आदेश पर उच्च स्तरीय जांच भी शुरू हो गई है। उधर, वरिष्ठ भाजपा नेता उमा भारती ने ट्वीट कर घटना पर सवाल उठाए हैं। उन्होंने लिखा- भोपाल के हमीदिया मेडिकल कॉलेज के अंतर्गत कमला नेहरू अस्पताल के नवजात शिशु वार्ड में जो हादसा हुआ है, जिसमें नवजात शिशुओं की दर्दनाक मृत्यु हुई हैं। यह न भूलने वाला दुखद अध्याय है और इसने अनेक सवाल खड़े कर दिए हैं। इसमें जिन्होंने भी लापरवाही की हैं उन्हें अतिशीघ्र कठोरतम दंड मिलना चाहिए।

उमा भारती का ट्वीट

 

संबंधित खबरें
भोपाल: कमला नेहरू अस्पताल में आग लगी, 4 बच्चों की मौत, इनमें 3 की दम घुटने से जान गई, 36 बच्चे रेस्क्यू
हमीदिया हादसा: जन्म के 12वें दिन मासूम की मौत, पिता बेटे की तस्वीर देख बिलख रहा..मां गोद में भी नहीं उठा पाई

 

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios