पटना. बिहार की 17वीं विधानसभा का पहला सत्र आज शुरू हो गया। राजद नेता तेजस्वी यादव ने सत्र के पहले दिन ही बिहार की नीतीश सरकार पर हमला बोला। तेजस्वी ने कहा, नीतीश कुमार भ्रष्टाचार के भीष्म पितामह हैं। उन्होंने कहा, नीतीश ने चोर दरवाजे से एक बार फिर सरकार बनाने का काम किया है। वो भीष्म पितामह भ्रष्टाचार के इसलिए हैं क्योंकि जितने भी गुनहगार हैं, भ्रष्टाचारी हैं उन्हें संरक्षण देना और बचाव करना उनकी पुरानी फितरत रही है। 

तेजस्वी ने कहा, भाजपा के गठबंधन वाली नीतीश सरकार ने वादा किया था कि एक साल में 19 लाख लोगों को नौकरी देंगे। अगर एक महीने के अंदर 19 लाख नौकरी नहीं दी तो खेत-खलिहानों से लेकर सड़कों पर विशाल जन आन्दोलन होगा।

कड़ा संघर्ष जारी रहेगा
तेजस्वी ने कहा, 1 करोड़ 56 लाख मतदाताओं ने कमाई, दवाई, पढ़ाई, सिंचाई जैसे हमारे मुद्दों पर भरोसा किया है। हम उनके विश्वास को टूटने नहीं देंगे। जनता ने हमें डेढ़ करोड़ से ज्यादा मत दिया है उनके साथ हम लोग सड़कों पर मिलेंगे। कड़ा संघर्ष जारी रहेगा।

27 नवंबर तक चलेगा सत्र
17वीं विधानसभा के पहले सत्र के पहले दिन  प्रोटेम स्पीकर जीतनराम मांझी ने 191 विधायकों को शपथ दिलाई। इसके बाद सदन मंगलवार तक स्थगित कर दिया गया। बाकी विधायकों को मंगलवार को शपथ दिलाई जाएगी। 
 
AIMIM विधायक ने हिंदुस्तान की जगह भारत शब्द का किया इस्तेमाल
AIMIM के अमौर से विधायक अख्तरुल ईमान ने शपथ में हिंदुस्तान की जगह भारत शब्द का इस्तेमाल किया। इनके शपथपत्र में उर्दू में हिंदुस्तान लिखा था तो उन्होंने भारत बोलने की स्पीकर से परमिशन मांग ली। वहीं, कांग्रेस के विधायक शकील अहमद खान ने संस्कृत में शपथ ली। यह सत्र 27 नवंबर तक चलेगा।