Asianet News Hindi

कोरोना वायरस के बढ़ते मामले पर बोले हर्षवर्धन, 'भारत के लोग अभी हर्ड इम्यूनिटी से बहुत दूर हैं'

कोरोना महामारी से दुनियाभर के सैकड़ों देश जूझ रहे हैं। ऐसे में इससे निजात पाने के लिए सैकड़ों देश वैक्सीन बनाने में जुटे हुए हैं। रूस की वैक्सीन इस रेस में सबसे आगे बताई जा रही है। वहीं, रिपोर्ट्स में दावा किया जा रहा है कि भारत में कोरोना रिकवरी रेट 82 प्रतिशत तक पहुंच गई है।

Union Health Minister Harsh Vardhan Speaks on COVID-19 reinfection KPY
Author
New Delhi, First Published Sep 27, 2020, 6:13 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

नई दिल्ली. कोरोना महामारी से दुनियाभर के सैकड़ों देश जूझ रहे हैं। ऐसे में इससे निजात पाने के लिए सैकड़ों देश वैक्सीन बनाने में जुटे हुए हैं। रूस की वैक्सीन इस रेस में सबसे आगे बताई जा रही है। वहीं, रिपोर्ट्स में दावा किया जा रहा है कि भारत में कोरोना रिकवरी रेट 82 प्रतिशत तक पहुंच गई है, लेकिन खबरें ये भी आ रही है कि इस संक्रमण से ठीक होने वाले लोग दोबारा से संक्रमित हो रहे हैं। ऐसे में कंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि 'भारत के लोग अभी हर्ड इम्यूनिटी से बहुत दूर हैं।'

सीरो सर्वे की सामने आई दूसरी रिपोर्ट

कंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन ने सीरो सर्वे की दूसरी रिपोर्ट के हवाले से कहा, 'भारत की जनसंख्या अभी हर्ड इम्यूनिटी से बहुत दूर है। हमें कोरोना-19 को लेकर सुस्त नहीं होना चाहिए बल्कि गंभीरता से नियमों का पालन करना चाहिए।' इसके साथ ही लोगों में फिर से हो रहे कोरोना संक्रमण को लेकर हर्षवर्धन ने कहा, 'आईसीएमआर (ICMR) कोविड-19 से दोबारा से हो रहे इंफेक्शन की जांच कर रही है कि आखिर लोग दोबारा से क्यों इससे इंफेक्टेड हो रहे हैं। जबकि अभी इसके मामले कम हैं।' 

 

क्या होती है हर्ड इम्यूनिटी?

बहरहाल, अगर हर्ड इम्यूनिटी की बात की जाए तो हर्ड इम्यूनिटी की जरूरी शर्त वैक्सीनेशन है, जिससे लोगों में रोग प्रतिरोधक क्षमता विकसित होती है। विश्व स्वास्थ्य संगठन की इमरजेंसी सर्विस के प्रमुख डॉ. माइक रयान का कहना है कि अभी पूरे यकीन के साथ ये नहीं कहा जा सकता कि नए कोरोना मरीजों के ठीक होने के बाद उनके शरीर में जो एंटीबॉडी बनी है, वह उन्हें दोबारा इस वायरस के संक्रमण से बचा पाएगी भी या नहीं। इसके साथ ही मीडिया रिपोर्ट्स में कहा जाता है कि हर्ड इम्यूनिटी पाने के लिए देश की 60 प्रतिशत जनसंख्या कोरोना से संक्रमित हो।

कोरोना से ठीक होने वाले मरीजों की संख्या में बढ़ोत्तरी 

वहीं, मीडिया रिपोर्ट्स में कहा जा रहा है कि बीते आठ दिनों में नए संक्रमितों में ठीक होने मरीजों की संख्या ज्यादा रही है। शनिवार को भी 88 हजार 759 नए संक्रमित मरीजों की पहचान हुई।जबकि 92 हजार 359 इनमें ठीक हो चुके हैं। इसमें एक्टिव मामले लगातार कम हो रहे हैं। 15 दिन पहले 12 सितंबर को 9.73 लाख एक्टिव केस थे, जबकि 25 सितंबर को यह 9.61 लाख हो गए थे।

देश में अब तक 59 लाख 90 हजार लोग संक्रमित हो चुके हैं। इनमें 49 लाख 38 हजार लोग ठीक हो चुके हैं, जबकि 94 हजार 534 मरीजों की मौत हो चुकी है।

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios