Asianet News Hindi

उन्नाव मामला: मां बोली वो सबको मार डालेगा, बीजेपी MLA पर हत्या का केस दर्ज

उन्नाव रेप पीड़िता के साथ हुए रोड एक्सीडेंट में बीजेपी विधायक कुलदीप सिंह सेंगर के खिलाफ हत्या और हत्या की साजिश रचने का केस दर्ज हो गया है। रविवार को सड़क हादसे में पीड़िता के दो परिजनों की मौत हो गई थी। पीड़िता के चाचा ने ये एफआईआर दर्ज कराई है। बता दें, पीड़िता के चाचा रायबरेली की जिला जेल में बंद हैं।

unnao rape case, fir file against mla kuldeep singh sengar
Author
Unnao, First Published Jul 29, 2019, 5:59 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

उन्नाव. रेप पीड़िता के साथ हुए रोड एक्सीडेंट में बीजेपी विधायक कुलदीप सिंह सेंगर के खिलाफ हत्या और हत्या की साजिश रचने का केस दर्ज हो गया है। रविवार को सड़क हादसे में पीड़िता के दो परिजनों की मौत हो गई थी। पीड़िता के चाचा ने ये एफआईआर दर्ज कराई है। बता दें, पीड़िता के चाचा रायबरेली की जिला जेल में बंद हैं। मामले में विधायक कुलदीप सेंगर और उनके भाई मनोज समेत 15 अज्ञात लोगों पर आईपीसी की 302, 307, 506, 120B धाराओं के तहत मुकदमा दर्ज किया गया है।

वहीं पीड़िता की मां ने विधायक कुलदीप पर संगीन आरोप लगाए हैं। उसने कहा कि मेरी बेटी का रेप किया। पति को मार डाला। देवर को जेल भेज दिया और अब सबको मारने की कोशिश की है। मेरी बेटी जिंदगी-मौत के बीच झूल रही है। उसने मुझे मिलने नहीं दिया जा रहा। मां ने यह भी आरोप लगाया कि अगर उसकी बेटी को इलाज नहीं मिला, तो वो मर जाएगी।  उधर, सोमवार दोपहर ट्रामा सेंटर में सीबीआई की पांच सदसीय टीम भी पहुंची। उसके कुछ देर बाद यूपी के डीजीपी ओपी सिंह भी आए। वहीं योगी सरकार ने कहा है कि अगर पीड़िता चाहती हैं, तो उनकी सरकार रायबरेली मामले में सीबीआई जांच कराने के लिए तैयार है। पीड़िता और उसके वकील गंभीर रूप से घायल हो गए थे। पीड़िता और उसके वकील महेंद्र सिंह रविवार को दुर्घटना के बाद से लाइफ सपोर्ट सिस्टम पर हैं।


क्या है मामला

बीजेपी MLA कुलदीप सेंगर पर रेप का इल्जाम लगाने वाली माखी की रहने वाली पीड़िता 28 जुलाई को रायबरेली जेल में बंद अपने चाचा से मिलने जा रही थी। उसके साथ कार में उसकी मां, चाची और वकील भी थे। तभी गुरबख्शगंज में एक ट्रक ने उनकी कार को टक्कर मार दी। हादसे में पीड़िता की मां और चाची की मौत हो गई। जबकि वकील और पीड़िता घायल हो गए। दोनों का किंग जार्ज मेडिकल कॉलेज में इलाज चल रहा है। शुरुआती जांच में सामने आया था कि ओवरस्पीड के चलते यह हादसा हुआ। आशंका है कि जिस ट्रक ने कार को टक्कर मारी, उसकी नंबर प्लेट के साथ छेड़छाड़ की गई ।

कांग्रेस नेता प्रियंका गांधी और बसपा प्रमुख मायावती ने ट्वीट करके एक्सीडेंट को साजिश करार दिया है। मायावती ने कहा कि सुप्रीम कोर्ट को इसका संज्ञान लेकर दोषियों पर सख्त कार्रवाई करनी चाहिए। वहीं दिल्ली महिला आयोग की अध्यक्ष स्वाती मालीवाल ने पीड़िता से हॉस्पिटल में मुलाकात की।

 

कुमार विश्वास ने भी उठाए सवाल

घटना के बाद से लोगों में रोष देखने को मिला है। अब कवि कुमार विश्वास ने सोशल मीडिया पर एक पोस्ट से घटना पर सवाल उठाया है। उन्होंने लिखा- कभी तो बंद करिए ये बेहूदा कुतर्क कि “तब कौन बोला था और अब कौन बोला है ”! उन्नाव में हुई ये घटना हमारे समाज और राजनीति में घुसपैठ कर रहे एक बेहद घटिया दौर की शुरुआती आहट है । कुमार ने अपने पोस्ट के साथ केस 6 प्रमुख बिंदुओं को गिनाते हुए फोटो भी शेयर किया है। उन्होंने ओज के कवि हरिओम पवार की एक कविता भी शेयर करते हुए लिखा-  “पाँचाली के चीरहरण पर जो चुप पाए जाएँगे, इतिहासों के कालखंड में सब कायर कहलाएँगे..!”


लाशों पर रोने वाला कोई नहीं बचा घर में
पीड़िता के वकील अजेंद्र अवस्थी का कहना है - पीड़िता के माखी स्थित घर में सन्नाटा पसरा हुआ है। पीड़िता की मां और चाची के अंतिम संस्कार में शामिल होने के लिए कोई मौजूद नहीं है। चाचा जेल में बंद हैं। हालांकि पीड़िता के परिवार में 10 साल का चचेरा भाई है, लेकिन उसे कुछ समझ नहीं आ रहा है। अजेंद्र अवस्थी के मुताबिक, लखनऊ के ट्रामा सेंटर में पीड़िता और उनके सहायक वकील महेंद्र सिंह भी भर्ती हैं। पीड़िता के चाचा को मारपीट के 20 साल पुराने मामले में कुछ महीने पहले सजा सुनाई गई थी। कुछ मामलों के ट्रायल जारी हैं। अवस्थी के मुताबिक, उनकी पैरोल मांगी गई है। लिहाजा अंतिम संस्कार बुधवार को हो सकता है। कैसी सिक्योरिटी: रेप पीड़िता को सिक्योरिटी दी गई है, बावजूद उसे अकेले रायबरेली जाने दिया गया। पीड़िता की सुरक्षा में तैनात गनर सुरेश कुमार ने बताया कि पीड़िता और उसकी चाची छोटी गाड़ी का हवाल देकर उसे साथ ले जाने से रोक दिया था। उल्लेखनीय है कि पीड़िता की सुरक्षा के लिए सुरेश कुमार (गनर) के अलावा दो पुलिसकर्मी रूबी पटेल और सुनीता की ड्यूटी लगाई हुई है। वहीं पीड़िता के घर पर करीब 10 पुलिसवाले तैनात हैं

कौन हैं कुलदीप सेंगर
सेंगर 2002 में कांग्रेस से एमएलए बने थे। 2007 में सेंगर बीएसपी से बांगरमऊ के एमएलए बने। 2012 का विधानसभा चुनाव सपा से लड़ा और जीते। फिर 2017 में बांगरमऊ सीट पर भाजपा की तरफ से खड़े हुए और चौथी बार जीत हासिल की।

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios